Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बीमारियों में दवाई के रूप में इस्तेमाल किया जाता है मशरूम, हैरान कर देंगे इसके फायदे

मशरूम फाइबर का एक अच्छा स्त्रोत है। इतना ही नहीं मशरूम का इस्तेमाल कुछ बीमारियों में दवाई के रूप में किया जाता है। इसमें विटामिन बी, डी, पोटैशियम, कॉपर, आयरन और सेलेनियम जैसे तत्व पर्याप्त मात्रा में होते हैं। इन सबके अलावा मशरूम में कोलिन नाम का एक पोषक तत्व पाया जाता है, जो मांसपेशियों के लिए फायदेमंद होता है।

बीमारियों में दवाई के रूप में इस्तेमाल किया जाता है मशरूम, हैरान कर देंगे इसके फायदे
X

मशरूम खाना हमारी सेहत के लिए काफी लाभदायक होता है। इसमें कई ऐसे जरूरी पोषक तत्व होते हैं, जो हमारे शरीर को लाभ पहुंचाते हैं। इसमें मौजूद तत्वों की हमारे शरीर को जरूरत होती है। मशरूम फाइबर का एक अच्छा स्त्रोत है। इतना ही नहीं मशरूम का इस्तेमाल कुछ बीमारियों में दवाई के रूप में किया जाता है। इसमें विटामिन बी, डी, पोटैशियम, कॉपर, आयरन और सेलेनियम जैसे तत्व पर्याप्त मात्रा में होते हैं। इन सबके अलावा मशरूम में कोलिन नाम का एक पोषक तत्व पाया जाता है, जो मांसपेशियों के लिए फायदेमंद होता है।

ये हैं फायदे

- मशरूम में एंटी-ऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा में होते हैं। मशरूम खाने से शरीर में रोगों से लड़ने की क्षमता (रोग प्रतिरोधक क्षमता) बढ़ती है। इसके इस्तेमाल से सर्दी-जुकाम जैसी बीमारियां जल्दी-जल्दी नहीं होता।

- मशरूम में सेलेनियम पाया जाता है, जो इम्यून सिस्टम को मजबूत करता है। मशरूम में विटामिन डी बहुत ज्यादा मात्रा में पाया जाता है। इससे हड्डियां मजबूत होती हैं। मशरूम का सेवन नियमित तौर पर करने से आवश्यकता का 20 प्रतिशत विटामिन डी मिल जाता है।

Also Read: पीरियड्स के दौरान फूलता है पेट तो अपनाएं ये Home Remedies, तुरंत मिलेगी राहत

- मशरूम बालों और त्वचा के लिए भी काफी फायदेमंद होता है। इसके अलावा इस पर हुई रिसर्च में इस बात का खुलासा हुआ है कि इसके सेवन से कैंसर होने की संभावना कम हो जाती है।

- मशरूम की खास बात यह है कि इसमें कार्बोहाइड्रेट कम मात्रा में पाया जाता है, जिससे वजन और ब्लड शुगर बढ़ने का खतरा नहीं रहता है। मशरूम में कोलेस्ट्रॉल बहुत कम मात्रा में होता है। इसके सेवन से काफी लंबे समय तक भूख नहीं लगती।

- इसमें वसा, मिनरल्स और फाइबर की पर्याप्त मात्रा पाई जाती है। साथ ही इसके सेवन से पेट संबंधी रोग और मौसमी बीमारियां होने का खतरा कम रहता है।




और पढ़ें
Next Story