Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

गर्भावास्था में खसखस शर्बत पीएं या नहीं, जानें यहां

Pregnancy Tips : गर्मियों के शुरू होते ही लोग अक्सर शरीर को ठंडा रखने वाले हेल्दी ड्रिंक्स (मैंगो शेक, पपीते का शेक, बादाम शेक) और मौसमी फलों(तरबूज, आम, अंगूर, संतरा) का सेवन करने लगते हैं। लेकिन गर्भावास्था में सेहत का विशेष ख्याल रखने की वजह से कुछ खास चीजों का सेवन करने की मनाही होती है। खासकर उन चीजों का जिससे शरीर का तापमान बढ़ने या बच्चे के विकास पर बुरा असर पड़ने का खतरा होता है। ऐसे में आज हम आपको गर्मियों में शरीर को ठंडा रखने वाली खसखस (Khus khus) यानि गर्भावास्था में खसखस का सेवन करने के फायदे या गर्भावास्था में खसखस का शर्बत पीएं या नहीं के बारे में बता रहे हैं।

गर्भावास्था में खसखस शर्बत पीएं या नहीं, जानें यहां

Pregnancy Tips : गर्मियों के शुरू होते ही लोग अक्सर शरीर को ठंडा रखने वाले हेल्दी ड्रिंक्स (मैंगो शेक, पपीते का शेक, बादाम शेक) और मौसमी फलों(तरबूज, आम, अंगूर, संतरा) का सेवन करने लगते हैं। लेकिन गर्भावास्था में सेहत का विशेष ख्याल रखने की वजह से कुछ खास चीजों का सेवन करने की मनाही होती है।

खासकर उन चीजों का जिससे शरीर का तापमान बढ़ने या बच्चे के विकास पर बुरा असर पड़ने का खतरा होता है। ऐसे में आज हम आपको गर्मियों में शरीर को ठंडा रखने वाली खसखस (Khus khus) गर्भावास्था में खसखस का सेवन करने के फायदे या गर्भावास्था में खसखस का शर्बत पीएं या नहीं के बारे में बता रहे हैं।

गर्भावास्था में खसखस खाना सुरक्षित है या नहीं

आमतौर पर खसखस में ओमेगा-6 फैटी एसीड, प्रोटीन और फाइबर, कैल्शियम, मैगनीज, थायमीन, विटामिन बी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। जिसकी वजह से इसका सेवन करने से बुखार, सूजन और पेट की जलन में आराम मिलता है। इसके साथ ही शरीर को ठंडक देने में कारगर साबित होती है। इसलिए ही गर्मियों में खसखस का शर्बत पीना फायदेमंद माना जाता है।

लेकिन आपको बता दें कि खसखस अफीम के बीजों से बनाई जाती है। जिसकी वजह से गर्भावास्था में इसका सेवन करना मां के साथ शिशु के लिए भी खतरनाक साबित हो सकता है। खसखस के नियमित सेवन करने से शिशु के विकास में रूकावट आने लगती है।

Next Story
Top