Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Kesar ke Fayde : सेहत के साथ चेहरे की खूबसूरती निखारने में अचूक है केसर, जानें इस्तेमाल का तरीका

Kesar ke Fayde : केसर के फायदे (Kesar ke Fayde) बहुत सारे होते हैं। केसर के फायदे (Saffron Benefits) की बात करें, तो ये हमें रोजाना की बीमारियों के अलावा गंभीर बीमारियों से छुटकारा दिलाने में कारगर है। केसर के फायदे (Saffron Advantages) खूबसूरती और त्वचा की रंगत निखारने में भी बेहद उपयोगी हैं। इसलिए आज हम आपको दुनिया के सबसे मंहगे मसालों में से एक केसर के पौषक तत्व, केसर का सेवन करना, केसर के फायदे और केसर के नुकसान बता रहे हैं।

Kesar ke Fayde  : सेहत के साथ चेहरे की खूबसूरती निखारने में अचूक है केसर,जानें इस्तेमाल का तरीकाKesar ke Fayde Saffron Benefits In Hindi

Kesar ke Fayde : केसर के फायदे (Kesar ke Fayde) अनगिनत होते हैं। केसर के फायदे (Saffron Benefits) खूबसूरती और त्वचा की रंगत निखारने के साथ-साथ खाने का स्वाद और रंगत बढ़ाने में अहम भूमिका निभाता है। केसर को मसालों का राजा भी कहा जाता है। इसे सैफ्रॉन (Saffron) या जाफरान (Jaafraan) के नाम से भी जाना जाता है। केसर में डेढ़ सौ से भी ज्यादा ऐसे औषधीय तत्व पाए जाते हैं जो हमारे शरीर को पूर्ण रुप से स्वस्थ रखने में सहायक होती है। जम्मू-कश्मीर में अक्टूबर से फरवरी के बीच बड़ी मात्रा में केसर को उगाया जाता है। आइए जानते हैं केसर के फायदे, केसर के नुकसान और केसर के पौषक तत्व, केसर का सेवन करना बता रहे हैं।




केसर के पौषक तत्व प्रति 100 ग्राम

कैलोरी 310,कुल वसा 6 ग्राम, 9%संतृप्त वसा 1.6 ग्राम 8%पॉलीअनसेचुरेटेड वसा 2.1 ग्राम मोनोअनसैचुरेटेड वसा 0.4 ग्राम कोलेस्ट्रॉल 0 मिलीग्राम 0% सोडियम 148 मिलीग्राम 6%पोटेशियम 1,724 मिलीग्राम 49%कुल कार्बोहाइड्रेट 65 ग्राम 21%आहार फाइबर 3.9 ग्राम 15%प्रोटीन 11 ग्राम 22%विटामिन ए 10% विटामिन सी 134%कैल्शियम 11% लौह 61%विटामिन डी 0% विटामिन बी -6 50% मैग्नीशियम 66%

केसर की मात्रा का सेवन

केसर को प्रतिदिन व्यक्ति को मात्र 1 से 3 ग्राम ही सेवन करना चाहिए। इससे अधिक सेवन करने पर कई गंभीर बीमारी होने का खतरा बढ़ जाता है।




केसर के फायदे :

1. केसर का सीमित मात्रा में सेवन करने से महिलाओं को पीरियड्स के दर्द और ल्यूकेरिया की बीमारी में राहत मिलती है।

2. अगर आपको रात में नींद नही आने की बीमारी यानि अनिद्रा की शिकायत है, तो ऐसे में सीमित मात्रा में केसर का सेवन करें।

3.केसर का फेस मास्क या फेस पैक में मिक्स करके चेहरे पर लगाने से त्वचा का रंग निखरता है। इसके साथ ही गर्भावास्था में गर्भवती महिला के केसर दूध का सेवन करने से शिशु का रंग भी साफ होता है।

4. केसर छोटे बच्चों के सर्दी-जुकाम में रामबाण का काम करती हैं। इसके लिए बच्चे को दूध में मिलाकर केसर दें। साथ ही सीने पर हल्की सी केसर रगड़ने से लाभ होता है।

5. केसर में पाए जाने वाले क्रोसेटिन मस्तिष्क में ऑक्सीजेनेशन को बढ़ाता है जिससे अर्थराइटिस के इलाज में काफी आसानी होती है केसर की एक विशेष किस्म गठिया या वात रोग में राहत प्रदान करती है।




6.केसर पर हुए शोध के मुताबिक, केसर से कैंसर के खतरे को भी रोका जा सकता है। केसर में क्रोसिन नामक तत्व पाया जाता है। जो कैंसर के लिए जिम्मेदार कोलोरेक्टल सेल को बढ़ने से रोकता है। यही नहीं, क्रोसिन तत्व स्किन कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर, ब्रेस्ट कैंसर और ल्यूकेमिया के खतरे को कम करता है।

7. केसर में एंटी इंफ्लैमेटरी, एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं। जो पेप्टिक अल्सर और अल्सरेटिव कोलाइटिस को दूर करके हमारे शरीर के पाचन तंत्र को मजबूत बनाता है। जिससे पाचन संबंधी बीमारियों में लाभ मिलता है।

8. केसर गर्भवती महिलाओं के लिए संजीवनी का काम करती है। इसके सीमित सेवन से हाथ-पैरों की ऐंठन, गैस और सूजन कम करने में मदद करता है। इसके अलावा अवसाद और चिंता दूर करता है।

9. आज के दौर में आंखों की समस्या होना कॉमन है। ऐसे में केसर की सीमित मात्रा में सेवन करने से आंखों की रोशनी बढ़ती है। इसके साथ ही मोतियाबिंद जैसी गंभीर बीमारी में आराम मिलता है।

10. केसर में एंटी- ऑक्सीडेंट तत्व प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं जिसका रोजाना फेस मास्क या फेस क्रीम के रुप में करने से बढ़ती उम्र के निशाने धीरे-धीरे कम होने लगते हैं। कच्चे पपीते में चुटकी भर केसर मिलाकर लगाने से चेहरे की त्वचा साफ और मुलायम बनती है।




केसर के नुकसान

केसर के रोजाना सेवन करने या अधिक मात्रा में सेवन करने से पीलिया और फूड प्वॉयजनिंग का खतरा बढ़ जाता है। क्योंकि केसर की तासीर गर्म होती है। ज्यादा सेवन करने से शरीर के तापमान में तेजी से वृद्धि होती है। जिससे पाचन तंत्र का खराब हो जाता है। इसके अलावा केसर का अधिक उपयोग करना लीवर, किडनी और बोन मैरो की बीमारी से जूझ रहे बुजुर्ग मरीजों तथा गर्भवती महिला के लिए घातक हो सकता है।

Next Story
Top