Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

ये हैं पुरुषों के स्पर्म बढ़ाने के तरीके

आज के दौर में बिजी शेड्यूल और गलत खान-पान की आदतों का असर सेहत के साथ प्रजनन क्षमता (स्पर्म काउंट) पर भी बहुत बुरा असर पड़ रहा है। प्रजनन क्षमताओं में तेजी से गिरावट आना अब दुनिया में एक गंभीर समस्या बनता जा रहा है। एक शोध के मुताबिक हर 3 पुरुषों में से 1 पुरुष कम स्पर्म काउंट की परेशानी से गुजर रहा है। ऐसे में अपनी आदतों, खान-पान और डेली रुटीन में कुछ बदलाव करके प्रजनन क्षमता को बढ़ाया जा सकता है।

ये हैं पुरुषों के स्पर्म बढ़ाने के तरीके

दुनिया में पुरुषों में बढ़ता बांझपन यानि इंफर्टिलिटी धीरे-धीरे एक गंभीर समस्या बनती जा रही है। अगर आप भी बार-बार की कोशिशों के बाद भी संतान सुख से से दूर हैं तो, ऐसे में अपनी डेली रुटीन के साथ खान-पान की आदतों कों बदलकर आप स्पर्म कम होने की परेशानी से छुटकारा पा सकते हैं। लेकिन, इससे पहले पुरुष बांझपन क्या होता है, ये जानना जरुरी है। इसलिए हम अपने आर्टिकल में आपको हेल्थलाइन के मुताबिक, पुरुष बांझपन क्या है, प्रजनन क्षमता के कम होने के कारण,स्पर्म काउंट यानि प्रजनन क्षमता को बढ़ाने के तरीके के बारे में बता रहे हैं।

पुरुष बांझपन क्या है? What Is Male Infertility?

प्रजनन क्षमता का अर्थ महिला और पुरुष की उस प्राकृतिक शक्ति से है जिसके द्वारा वो एक नए जीवन की उत्पति कर पाते हैं। इसके अलावा पुरुषों के बांझपन को सरल भाषा में स्पर्म काउंट (शुक्राणु कोशिकाओं) का कम होना कहा जाता है। इसके अलावा शुक्राणुओं की गुणवत्ता भी संतान के जन्म में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

पुरुषों में स्पर्म काउंट कम (प्रजनन क्षमता) होने के कारण :

1.कामेच्छा का कम होना - कामेच्छा यानि सेक्स करने की इच्छा का कम होना कहलाता है। आज के दौर में गलत खान-पान और बिजी लाइफस्टाइल की वजह से कामेच्छा (सेक्स) करने की इच्छा घटती जा रही हैं। जिसकी वजह से धीरे-धीरे पुरुषों में प्रजनन क्षमता कम होने लगती है।

2. टेस्टोस्टेरोन का स्तर कम होना : टेस्टोस्टेरोन, पुरुषों में मौजूद एक हार्मोन होता है। इसे पुरुष सेक्स हार्मोंन भी कहा जा सकता है इसकी शरीर में कमी होने पर भी पुरुषों में इंफर्टिलिटी यानि बांझपन की समस्या हो सकती है।

3.इसके अलावा पुरुषों की सेहत, आनुवांशिक,मौसमी बीमारियां और अन्य इंफेक्शन प्रजनन क्षमता को कम करने के लिए जिम्मेदार माने जाते हैं।

पुरुषों में स्पर्म काउंट (प्रजनन क्षमता) को बढ़ाने के तरीके :




1.पुरुषों में प्रजनन क्षमता को बढ़ाने के लिए रेगुलर एक्सरसाइज करना भी बहुत अहम माना जाता है। शोध के मुताबिक, जो पुरुष नियमित एक्सरसाइज करते हैं उनके शरीर में टेस्टोस्टरेन का स्तर सही रहता है।

2.डी-एस्पैराटिक एसिड की टेबलेट का सेवन करना फायदेमंद होता है। इसके नियमित सेवन करने से शरीर में टेस्टोस्टेरोन की कमी को पूरा करके प्रजनन क्षमता मे सुधार लाया जा सकता है। हालांकि अभी इस फेक्ट की पूरी तरह से वैज्ञानिकों ने पुष्टि नहीं की है।

3.अगर आप अपनी प्रजनन क्षमता को बढ़ाना चाहते हैं, तो ऐसे में तनाव को कम करें और शरीर को रिलेक्स रखें।




4.शरीर में विटामिन सी की कमी होने से भी पुरुषों का स्पर्म काउंट कम हो जाता है। इसलिए विटामिन सी का सेवन करें। इससे शरीर में ऑक्सीजन का स्तर भी बेहतर होता है। संतरा, नींबू आदि का सेवन जरुर करें

5. पुरुषों में विटामिन डी की कमी होना भी स्पर्म काउंट कम होने के कारणों में से एक माना जाता है। विटामिन डी की कमी से शरीर में धीरे-धीरे टेस्टोस्टरेन का स्तर कम हो जाता है। इसके लिए सुबह के समय सूर्य की किरणों में खड़े होना। और विटामिन डी के सप्लीमेंट्स का सेवन करें।

6.शरीर में जिंक की कमी होना भी पुरुषों के स्पर्म काउंट में गिरावट आ जाती है ऐसे में अगर रेगुलर कुछ मात्रा में जिंक का सेवन किया जाए , तो स्पर्म काउंट को बढ़ाने में मदद मिलती है। मांस, मछली, अंडे और शंख में जिंक उच्च मात्रा में पाया जाता है।




7. रोजाना मेथी का सेवन या मेथी के पानी को पीने से भी शरीर में मौजूद टेस्टोस्टरेन और प्लेसबो के स्तर को बढ़ाया जा सकता है। इसके साथ ही सेक्स पावर में इजाफा होता है।

8.आयुर्वेद में पुरुषों को नियमित रुप से अश्वगंध का सेवन करने की सलाह दी जाती है। इसका मूल कारण प्रजनन क्षमता को बढ़ाना होता है। रोजाना रात को गर्म दूध के साथ अश्वगंध का सेवन करें। शोध के मुताबिक, अश्वगंधा से टेस्टोस्टेरोन के स्तर और पुरुष प्रजनन क्षमता में सुधार होता है।




9.शिलाजीत, पुरुषों में प्रजनन क्षमता को बढ़ाने के लिए बेहद फायदेमंद होता है। इसका नियमित सेवन करने से एनीमिया की शिकायत के अलावा प्रजनन क्षमता में भी वृद्धि होती है।

10.शीसांद्रा बीज एक औषधीय पौधा होता है, जो पेरु में पाया जाता है। इसकी जड़ का नियमित सेवन करने से शरीर में टेस्टोस्टोरेन का स्तर बेहतर होता है और कामेच्छा में इजाफा होता है।

Share it
Top