Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Good Habits : इन खास तरीकों से निखारें बच्चों की पर्सनेलिटी

किसी के व्यवहार में अच्छी या बुरी आदतें अचानक शामिल नहीं होती हैं। बचपन से ये आदतें उनकी पर्सनालिटी का हिस्सा बनने लगती हैं। ऐसे में पैरेंट्स की जिम्मेदारी बनती है कि वे बच्चे को अच्छी हैबिट्स के लिए अवेयर करें।

Good Habits : इन खास तरीकों से निखारें बच्चों की पर्सनेलिटी

सभी पैरेंट्स की चाहत होती है, उनका बच्चा अच्छा बिहेव करे, अच्छे हैबिट्स उसकी पर्सनालिटी में हों। लेकिन ऐसा तभी मुमकिन है, जब पैरेंट्स बच्चों को सही गाइडेंस दें। हर दिन उन्हें अच्छी आदतों की अहमियत बताएं। इसके लिए पैरेंट्स को सबसे पहले वही आदतें अपनी व्यवहार में शामिल करनी होंगी और बच्चों के लिए आइडल बनाना होगा।



हेल्थ कॉन्शस बनाएं

बच्चे की हेल्थ अच्छी रहे, इसके लिए आप हर बात का ध्यान रखती हैं। लेकिन बच्चे को भी उसकी हेल्थ को लेकर अवेयर करें। इसके लिए बच्चे का एक टाइम टेबल सेट करें। जिसमें उसकी फिजिकल एक्टिविटी जरूर शुमार हो। साथ ही आजकल बच्चे बाहर के खाने को ज्यादा तवज्जो देते हैं, इसलिए आप उनके लिए यह रूल्स सेट कर सकती हैं कि वह रविवार के दिन अपनी पसंद का खाना खा सकते हैं लेकिन बाकी दिन उन्हें घर का बना हेल्दी खाना ही खाना होगा। इस तरह उनकी अच्छी ईटिंग हैबिट भी डेवलप होगी और वह हेल्थ को लेकर कॉन्शस रहेगा।

अपने काम खुद करे

आप बच्चे को उसके छोटे-छोटे काम खुद करने के लिए मोटिवेट करें। मसलन, जब बच्चा स्कूल से आता है तो उससे कहें कि वह अपनी ड्रेस और बैग सही जगह पर रखे। इसी तरह खेलने के बाद अपने कमरे को भी खुद व्यवस्थित करे। इसके अलावा आप बच्चों को पौधों में पानी देने के लिए भी कह सकती हैं। इससे धीरे-धीरे बच्चा ज्यादा रिस्पॉन्सिबल बनेगा। साथ ही वह चीजों की सही तरह से केयर करना भी सीख जाता है।




हाइजीन का रखें ख्याल

बच्चे को हेल्थ कॉन्शस बनाने के साथ ही हाइजीन को लेकर भी अवेयर करें। वह दिन में दो बार ब्रश जरूर करे, न करने पर उसको इस बात की याद दिलाएं। धीरे-धीरे वह खुद की बात को फॉलो करने लगेगा। साथ ही खाना खाने से पहले और बाद में बच्चे को हाथ धोने के लिए भी कहें। यह छोटी-छोटी आदतें उसकी पर्सनालिटी को इंप्रूव करने में मदद करेंगी।

रिवॉर्ड भी दें

आप भले ही बच्चों के लिए कितने भी रूल्स सेट कर लें लेकिन वह तभी असरदार होते हैं, जब बच्चे उसे खुद मन से स्वीकार करें। इसके लिए यह बेहद जरूरी है कि आप उन्हें अच्छे काम करने पर रिवॉर्ड दें। ऐसा करने से बच्चों को काफी अच्छा महसूस होता है और वे अच्छी आदत की इंपॉर्टेंस समझने लगते हैं।




रीडिंग हैबिट को इंपॉर्टेंस

वैसे तो हर बच्चा अपनी उम्र और कक्षा के हिसाब से पढ़ाई करता ही है, लेकिन इससे अलग भी आपको रात को सोने से पहले बच्चों को कोई कहानी या कविता की किताब पढ़ने के मोटिवेट करें। इससे बच्चों का क्रिएटिविटी माइंड बेहतर तरीके से काम करने लगता है। इतना ही नहीं, ऐसी किताबें बच्चों के दिनभर के मानसिक दबाव को कम करके उन्हें रिलैक्स फील करवाती हैं। वहीं इससे आप बच्चों को वह सब बातें भी बेहद आसानी से समझा सकती हैं, जिन्हें शायद आप बोलकर कभी न सिखा पाएं।

लेखिका - सृष्टि

Next Story
Top