Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

डाइट में शामिल करें ये सुपर फूड, इम्यूनिटी बढ़ने के साथ जीवन भर रहेंगे हेल्दी

सेहत और पोषण विशेषज्ञों ने कुछ फूड्स को ‘सुपर फूड’ का दर्जा देते हुए उनका नियमित सेवन करने की सलाह दी है। आइए आपको भी बताएं इनमें से कुछ के बारे में।

डाइट में शामिल करें ये सुपर फूड, इम्यूनिटी बढ़ने के साथ जीवन भर रहेंगे हेल्दीफूड (प्रतीकात्मक फोटो)

इम्यूनिटी बढ़ाने और हेल्दी रहने के लिए कुछ सुपर फूड्स को अपनी डाइट में आपको जरूर शामिल करना चाहिए।

हल्दी: रोजाना गर्म दूध या पानी में हल्दी मिलाकर पिएं। यह रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाती है और एंटीसेप्टिक गुणों वाली होती है। इसे गर्म दूध या पानी में मिलाने पर इसकी घुलनशीलता बढ़ जाती है और इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट तत्व करक्यूमिन आसानी से शरीर में जज्ब हो जाता है।

अदरक: सूखी अदरक को चाय, दूध या पानी में उबालकर पिएं। सूखी अदरक का सार किसी भी प्रकार की सूजन, इंफ्लेमेशन और ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस से राहत दिलाने वाला होता है। अपच और जी मिचलाने की समस्या हो, तो भी अदरक का पानी पीना चाहिए।

ब्राउन राइस: ब्राउन राइस में मैंगनीज भरपूर मात्रा में होता है, जो प्रोटीन और कार्ब्स से एनर्जी प्रोड्यूस करने में मददगार होता है। इससे शरीर में दिन भर ऊर्जा बनी रहती है। लंच या डिनर में इसे अपनी पसंदीदा सब्जी के साथ खाएं।

गाजर: सावधानी से छीलकर, इस पर तेल लगा लें और फिर भून लें। ज्यादा छीलने पर गाजर की ऊपरी सतह पर मौजूद गुणकारी पोलीएसीटिलीन तत्व नष्ट होने का डर रहता है। भूनने से ये तत्व सुरक्षित हो जाते हैं। फाइबर के साथ-साथ ये तमाम गुणकारी विटामिंस और मिनरल्स का खजाना है।

शकरकंद: कार्बोहाइड्रेट, बीटा कैरोटीन और विटामिन सी से भरपूर शकरकंद आपको दोपहर या शाम की थकान से बचा सकती है। इन्हें आप भून कर खाएं या फिर बेक करके खाएं।

कद्दू: कद्दू में बीटा कैरोटीन प्रचुर मात्रा में होता है, जो कई प्रकार के कैंसर और हार्ट डिजीज का जोखिम कम करता है। कद्दू में एंटी एजिंग गुण भी होते हैं, जो आपको दीर्घ समय तक युवा रखने में मददगार होते हैं। इस सब्जी में कैलोरी, फैट और सोडियम कम होता है, जबकि फाइबर प्रचुर मात्रा में होता है। इसके बीजों में प्रोटीन, मैग्नीशियम और आयरन काफी मात्रा में होते हैं।

संतरा:विटामिन सी, पोटेशियम और फोलेट का खजाना संतरा कुदरत का एनर्जी पैक है। इसे छीलकर पूरी फांक खाएं। भरपूर रस और रेशे मिलेंगे और शरीर दिन भर एनर्जेटिक रहेगा।

बींस: बाजार में तरह-तरह की फलियां उपलब्ध हैं। इनमें से आप अपनी पसंदीदा बींस चुनकर खाएं। इनमें तमाम पोषक तत्व और रेशे होते हैं, जो शरीर को भरपूर ऊर्जा देते हैं।

अखरोट: रोजाना एक मुट्ठी अखरोट खाने से स्ट्रेस से लड़ने की क्षमता बढ़ जाती है और मूड इंप्रूव होता है। कई अध्ययनों में अखरोट को हार्ट डिजीज, डायबिटीज और मोटापा आदि के लिए फायदेमंद पाया गया है। अखरोट में अल्फा लिनोलिक एसिड, विटामिन-ई, फोलेट, पोलीफेनॉल्स आदि प्रचुर मात्रा में होते हैं, इनकी वजह से इसके कई फायदे मिलते हैं।

फर्मेंटेड फूड: खमीर वाले फूड, जो प्रोबायोटिक समृद्ध होते हैं, चिंता और अवसाद से काफी हद तक राहत दिला सकते हैं। हाल ही एक अध्ययन में 700 से ज्यादा छात्रों की डाइट, पर्सनालिटी और बिहेवियर पर निगरानी रखने के बाद इस बात का पता चला है। सोशल एंग्जायटी से पीड़ित छात्रों ने फर्मेंटेड फूड खाया, तो उन्हें कम परेशानी महसूस हुई। मनोवैज्ञानिकों का मानना है कि जो लोग एंग्जायटी की चिकित्सा करवा रहे हों उन्हें दवा और मेडिटेशन के साथ-साथ दही, इडली, ढोकला जैसे फर्मेंटेड फूड खाने चाहिए।

Next Story
Top