Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

ओरल हाइजीन पर पड़ सकता है किसिंग का असर, जानें क्या हैं इसके साइड इफेक्ट्स

ओरल प्रॉब्लम्स के घेरे में आप तब आ जाते हैं जब आप किसी ऐसे व्यक्ति को किस करते हैं, जो उचित ओरल हाइजीन का पालन नहीं करता है। यहां हम आपको किसिंग करने से होने वाले ओरल प्रॉब्लम्स से अवगत कराएंगे...

ओरल हाइजीन पर पड़ सकता है किसिंग का असर, जानें क्या हैं इसके साइड इफेक्ट्स
X

Health Tips: एक रिलेशनशिप (Relationship) में कई बार ऐसे पल आते हैं, जब आप इंटेमेसी की ओर बढ़ते हैं। ऐसे में आपकी नजदीकियां तो बढ़ती हैं हि, लेकिन इन सब के बीच असुरक्षित यौन संबंधों के कारण आपको एसटीडी (STD) जैसी बीमारियां भी होती हैं। ओरल प्रॉब्लम्स (Oral Problem) एसटीडी (STD) जितनी गंभीर नहीं होती। इन प्रॉब्लम्स के घेरे में आप तब आ जाते हैं जब आप किसी ऐसे व्यक्ति को किस (Kiss) करते हैं, जो उचित ओरल हाइजीन (Oral Hygiene) का पालन नहीं करता है। मुंह के रोग संक्रामक होते हैं और उन्हें पैदा करने वाले बैक्टीरिया के संपर्क में आने के बाद व्यक्ति इससे संक्रमित हो सकता है। एक्सपर्ट्स कहते हैं कि किसिंग (Kissing) के कारण जो सलाइवा इधर से उधर ट्रांसफर होता है उसमें एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में 80 मिलियन बैक्टीरिया चले जाते हैं।

मौखिक समस्याएं (Oral Problems) कई प्रकार की होती हैं। उनमें से सभी संक्रामक नहीं होती। मुंह की बीमारी से संक्रमित होने का खतरा तब अधिक होता है जब बीमारी का मामला बैक्टीरिया या वायरस के कारण होता है। यहां तक कि अगर दूसरे व्यक्ति के दांत बिल्कुल सफेद हैं, तो वे आपकी जानकारी के बिना समस्या को आप तक पहुंचा सकते हैं। यहां तीन सामान्य स्वास्थ्य समस्याएं हैं जो सलाइवा के जरिए आप तक पहुंच सकते हैं...

कैविटीज

कैविटी आमतौर पर दांतों की सड़न के कारण होती है, जो स्ट्रेप्टोकोकस म्यूटन्स नामक एक विशेष प्रकार के बैक्टीरिया के कारण होता है, जो वर्षों तक अनियंत्रित रहता है। इस तरह के बैक्टीरिया एक विशेष प्रकार के एसिड का उत्पादन करते हैं, जो दांतों के इनेमल को धीरे-धीरे तोड़ देता है जिससे दांत सड़ जाते हैं। यदि समय पर नियंत्रित नहीं किया जाए तो यह एक समय में एक से अधिक दांतों को प्रभावित कर सकता है। लार के माध्यम से बैक्टीरिया को एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में स्थानांतरित किया जा सकता है।

मसूड़े की सूजन

मसूड़े की सूजन बैक्टीरिया की विभिन्न प्रजातियों के कारण होती है। एक बार इस बैक्टीरिया से संक्रमित होने के बाद व्यक्ति को साल भर अन्य मौखिक समस्याएं हो सकती हैं। जब बैक्टीरिया व्यक्ति के मसूड़े के संपर्क में आते हैं, तो यह एक विष छोड़ता है जो मसूड़े की नाजुक त्वचा को परेशान करता है, जिससे सूजन हो जाती है। यह अंततः ब्रश करते समय खून आ जाता है और मुंह से दुर्गंध आने का कारण भी हो सकता है।

मसूढ़ों की बीमारी

पेरीओडोन्टल बीमारी एक ऐसी स्थिति है जिसमें मसूड़े की रेखा के नीचे मवाद की जेबें बनने लगती हैं। समय के साथ यह सूजन को बढ़ाता है और हड्डी के ऊतकों को प्रभावित करना शुरू कर देता है। इससे दांतों की जड़ खराब हो जाती है और आप अंततः अपने दांतों को खोना शुरू कर देते हैं। वयस्कों में दांतों के झड़ने का सबसे आम कारण पेरीओडोन्टल रोग है।

और पढ़ें
Next Story