Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

गर्भावास्था में बेल का रस पीएं या नहीं, जानें सब

Pregnancy Tips : गर्मी के मौसम में तेज गर्मी और लू से बचने के लिए अक्सर लोग जूस और मौसमी फलों का सेवन करना शुरु कर देते हैं। गर्मियों में गर्भवती महिलाओं को भी सेहत का खास ख्याल रखने की सलाह दी जाती है। जिससे शरीर के उच्च तापमान को सामान्य रखा जा सके। वैसे तो गर्मियों में बेल के फायदे सेहत के लिए बहुत सारे होते हैं। लेकिन गर्भावास्था में बेल या बेल के जूस का सेवन करना फायदेमंद होता है या नहीं इसके बारे में अक्सर लोग असमंजस में रहते हैं। इसलिए आज हम आपको गर्भावास्था में बेल के जूस का सेवन करने या नहीं करने के बारे में बता रहे हैं।

गर्भावास्था में बेल का रस पीएं या नहीं, जानें सब

Pregnancy Tips : गर्मी के मौसम में तेज गर्मी और लू से बचने के लिए अक्सर लोग जूस और मौसमी फलों का सेवन करना शरू कर देते हैं। गर्मियों में गर्भवती महिलाओं को भी सेहत का खास ख्याल रखने की सलाह दी जाती है। जिससे शरीर के उच्च तापमान को सामान्य रखा जा सके। वैसे तो गर्मियों में बेल के फायदे सेहत के लिए बहुत सारे होते हैं।

लेकिन गर्भावास्था में बेल या बेल के जूस का सेवन करना फायदेमंद होता है या नहीं इसके बारे में अक्सर लोग असमंजस में रहते हैं। इसलिए आज हम आपको गर्भावास्था में बेल के जूस का सेवन करने या नहीं करने के बारे में बता रहे हैं।

आमतौर पर डॉक्टर गर्भावास्था के दौरान महिलाओं को मौसमी फलों और जूस का सेवन करने की सलाह देते हैं। जिससे गर्भ में पल रहे शिशु का संपू्र्ण विकास हो सके मिल सके।

लेकिन क्या आप जानते हैं विटामिन, मैगनीज, मैग्नीशियम, पोटेशियम और कार्बोहाइड्रेट से भरपूर और गर्मियों में सबसे ज्यादा पिया जाने वाला बेल का जूस और बेल का शर्बत गर्भवती महिलाओं के लिए हानिकारक साबित हो सकता है।

जी हां, दरअसल बेल के फल को आमतौर पर एक जंगली फल माना जाता है। इसके साथ ही प्रेग्नेंसी यानि गर्भावास्था के दौरान बेल के जूस और बेल के शर्बत का सेवन करने से गर्भपात यानि मिस्कैरिज होने का खतरा बढ़ जाता है।

बेल का शर्बत और बेल के जूस पीने से गर्भवती महिलाओं के शरीर में दूध की कमी होने लगती है। इसके साथ शिशु को स्तनपान कराने वाली महिलाओं को भी बेल का शर्बत और बेल के जूस पीने से बचना चाहिए। क्योंकि आमतौर पर डिलीवरी के कुछ समय तक शिशु मां के दूध पर निर्भर होता है। जिससे शिशु के सेहत पर बुरा असर पड़ता है।

Share it
Top