Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Ganesh Chaturthi 2019 : गर्भावास्था में गणेश चतुर्थी के व्रत की सावधानियां

Ganesh Chatuthi 2019 हर साल गणेश चतुर्थी का उत्सव भाद्रपद की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को मनाया जाता है। साल 2019 में 2 सितंबर से 10 दिनों वाले गणेश उत्सव की शुरुआत होगी। इस दिन सभी लोग व्रत और उपवास रखकर भगवान गणेश के जन्मोत्सव को धूमधाम के साथ मनाते हैं और अपने घर लाकर विधि विधान से पूजा अर्चना करते हैं। ऐसे में अगर आप गर्भवती हैं और व्रत रखना चाहती हैं, तो कुछ सावधानियां जरुर बरतें। आइए जानते हैं गर्भावास्था में गणेश चतुर्थी के व्रत की सावधानियां (Ganesh Chaturthi Vrat Precautions in Pregnancy)।

Ganesh Chaturthi 2019 : गर्भावास्था में गणेश चतुर्थी के व्रत की सावधानियां

Ganesh Chaturthi 2019 : अगर आप भी अपने घर में बप्पा जैसे शिशु की कामना में गणेश चतुर्थी का व्रत रखने वाली हैं, तो ऐसे में कुछ सावधानी जरुर बरतें। क्योंकि आपकी एक छोटी सी गलती शिशु के लिए घातक हो सकती है। आज हम आपको गणेश उत्सव के खास मौके पर आपको व्रत के लिए सावधानियां बता रहे हैं।




गर्भावास्था में कब रखें व्रत :

अगर आप गर्भावास्था में व्रत रखने वाली हैं, तो सबसे पहले अपने डॉक्टर से व्रत रखने की परमिशन जरुर लें। अगर आपका डॉक्टर आपके सभी चेकअप परफेक्टबताता है और व्रत रखने की सलाह दे, तभी व्रत या उपवास रखें।




गर्भावास्था में कब ना रखें व्रत

अगर आप हाई ब्लड शुगर, हाई ब्लड प्रेशर, बार-बार घबराहट होने की परेशानी महसूस करती हैं। इसके अलावा सिरदर्द या थकान होने पर भी व्रत रखने से बचें। इससे आपकी सेहत के साथ शिशु की सेहत पर भी बुरा असर होगा।




व्रत रखने पर बरतें ये सावधानियां -

1. अगर आप गणेश चतुर्थी व्रत रख रही हैं, तो ऐसे में आप पूरे दिन में 3-4 लीटर पानी जरुर पीएं। इससे शरीर में पानी की कमी यानि डिहाईड्रेशन नहीं होगी। आपको हाई ब्लड प्रेशर, बार-बार घबराहट होने की समस्या नहीं होगी।

2. गर्भावास्था में अगर आप व्रत रख रही हैं, तो ऐसे में आप थोड़ी-थोड़ी देर में कुछ फल या सूखे मेवों का सेवन करती रहे हैं। इससे आपको बार-बार लगने वाली भूख कम होगी और शरीर में पौषक तत्वों की कमी भी महसूस होगी।

3. गर्भवती महिलाओं को गणेश चतुर्थी के व्रत में चाय और कॉफी का सेवन कम करना चाहिए। क्योंकि ज्यादा चाय कॉफी पीने से शरीर में गैस और एसिडिटी की समस्या उत्पन्न होती है। जो शिशु के लिए घातक हो सकती है।

4. गर्भवती महिलाओं के लिए व्रत के दौरान दिन में 2 बार नारियल पानी और फलों का ताजा जूस का सेवन करना भी फायदेमंद साबित होता है। नारियल पानी और फलों के जूस में कैल्शियम, विटामिन सी, फाईबर, मैग्नीशियम जैसे पौषक तत्व मिलते हैं। जिससे इंस्टेंट एनर्जी के साथ एक्टिवनेस बरकरार रहती है।

5. गणेश चतुर्थी के व्रत के दौरान गर्भवती महिलाओं को फल, जूस, नारियल पानी के अलावा साबुदाने की खिचड़ी या व्रत के आलू का सेवन जरुर करना चाहिए। क्योंकि इससे आपके शरीर में सोडियम की कमी संतुलित रहेगी।

Next Story
Top