Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Coronavirus : हवा में उड़ रहे कोरोना वायरस के आनुवंशिक तत्व, इंफेक्शन का खतरा

Coronavirus: देश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 29 हजार के पार पहुंच गया है। रिसर्च में साइंटिस्ट को हवा में कोरोना वायरस के आनुवंशिक तत्व होने के सबूत मिलें है (Evidence Of Genetic Element Of Coronavirus In Air)। इसके साथ ही अभी ये स्पष्ट नहीं हो पाया है कि ये कण संक्रामक हैं या नहीं

Coronavirus: कहीं आपकी स्किन पर तो नहीं हो रहे धब्बे, कोरोना वायरस का नजर आया नया लक्षण
X
कोरोना वायरस (फाइल फोटो)

Coronavirus: चीन के वुहान से शुरू हुए इस कोरोना वायरस (Coronavirus) ने पूरी दुनिया में आतंक मचा रखा है। महिनों पहले पैदा हुआ ये खतरनाक वायरस लाखों लोगों को अपनी चपेट में ले चुका हैं (Coronavirus Cases)। वहीं ये वायरस थमने के बजाए दोगुनी रफ्तार से बढ़ता ही जा रहा है (Coronavirus Death)। वहीं अगर भारत की बात करें तो कोरोना संक्रमितों की तेजी से बढ़ती संख्या से हालात बिगड़ते जा रहे हैं (Coronavirus India)। देश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 29 हजार के पार पहुंच गया है। पिछले 24 घंटे में 1607 कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज आए हैं (Coronavirus Pandemic)। इसके साथ ही कई देश कोरोना वायरस पर तरह तरह की रिसर्च कर रहे हैं। हाल ही में हुई एक रिसर्च में साइंटिस्ट को हवा में कोरोना वायरस के आनुवंशिक तत्व होने के सबूत मिलें है (Evidence Of Genetic Element Of Coronavirus In Air)। इसके साथ ही अभी ये स्पष्ट नहीं हो पाया है कि ये कण संक्रामक हैं या नहीं।

रिसर्चर्स ने दो अस्पतालों और कुछ सार्वजनिक स्थानों के पर्यावरण का आकलन किया

चीन के वुहान में रिसर्चर्स ने दो अस्पतालों और कुछ सार्वजनिक स्थानों के पर्यावरण का आकलन किया। वुहान ही ऐसी जगह है जहां अभी तक सबसे ज्यादा कोरोना के मामले देखने को मिले हैं। वहीं साइंटिस्ट ने हवा में कोरोना वायरस के आनुवंशिक तत्व के सबूत पेश किए हैं। इसके साथ ही यह भी कहा है कि अभी यह स्पष्ट नहीं है कि ये कण संक्रामक हैं या नहीं।

रिसर्च के लिए 31 जगहों पर से 40 सैंपल एकत्रित किए गए

रिसर्चर्स के इस दल में वुहान विश्वविद्यालय के शेधकर्ता भी शामिल हैं। 'नेचर पत्रिका में प्रकाशित इस अध्ययन में यह आनुवंशिक तत्व संक्रामक है या नहीं यह आकलन नहीं किया गया है। इसके साथ ही आपको बता दें कि रिसर्च के लिए 31 जगहों पर से 40 सैंपल एकत्रित किए गए।वहीं रिर्सर्च में कहा गया कि साफ-सफाई का ध्यान रखकर, प्रोपर वेंटीलेशन और भीड़ भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचकर वायरस के हवा में फैलने के खतरे को कम किया जा सकता है।

Also Read: कोरोना वायरस के साथ लू और गर्मी से भी करें बचाव, भारत सरकार ने बताए टिप्स

हवा द्वारा फैलने की बात पूरी तरह स्पष्ट नहीं हुई है

आपको बता दें कि साइंटिस्ट का कहना है कि अभी तक जो भी मनुष्यों के लिए सार्स-सीओवी-2 आरएनए के फैलने के जो तरीके सामने आए हैं वो इंफेक्टेड लोगों के सम्पर्क में आने, संक्रमित लोगों के सांस छोड़ने या छींकते वक्त की ड्रॉप्लेट के सम्पर्क में आना शामिल है। अभी इसके हवा द्वारा फैलने की बात पूरी तरह स्पष्ट नहीं हुई है।

Shagufta Khanam

Shagufta Khanam

Jr. Sub Editor


Next Story