Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

समय से पहले पीरियड्स आने के कारण और उपचार

Early Periods Causes Symptoms Remedies In Hindi वैसे तो हर महीने लड़कियों के लिए पीरियड्स की समस्या होना एक सामान्य बात है, लेकिन जब पीरियड्स समय से पहले आने लगे, तो लड़कियां शारीरिक और मानसिक रुप से बेहद परेशान और मूड स्विंग्स की शिकार हो जाती हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि पीरियड्स समय से पहले क्यों आते हैं, पीरियड्स के समय से पहले आने के कारण, पीरियड्स को समय से पहले आने से कैसे रोक सकते हैं। अगर नहीं, तो आज हम आपको लड़कियों में पीरियड के समय से पहले आने के कारण और उपचार बता रहे हैं।

समय से पहले पीरियड्स आने के कारण और उपचार

Early Periods Causes Symptoms Remedies In Hindi आज के दौर में लोगों के गलत लाइफस्टाइल और गलत खान-पान की आदतों की वजह से कई सारी गंभीर बीमारियों (डायबिटीज, मोटापा बढ़ना, डिप्रेशन) के अलावा पीरियड्स में भी असंतुलन उत्पन्न होने लगते है। जिससे समय से पहले पीरियड्स आना या पीरियड्स के समय में तेज दर्द का एहसास होना प्रमुख है। अगर आप भी समय से पहले पीरियड्स की समस्या से परेशान हैं, तो आइए जानते हैं लड़कियों को समय से पहले पीरियड आने के कारण और उसके उपचार...

समय से पहले पीरियड्स आने के कारण / Early Periods Causes




1.आज के दौर में तनाव होना आम जिंदगी का एक हिस्सा बन गया है। ऐसे में अत्याधिक तनाव होने से जहां हाईपर टेंशन, हाई ब्लड प्रेशर और दिल की बीमारी का खतरा बढ़ जाता है। बच्चियों पर पढ़ाई और एक्स्ट्रा करिकुलर एक्टिविटी का प्रेशर, तो महिलाओं के लिए घर और ऑफिस के काम को मैनेज करने की टेंशन। ऐसे में ज्यादा तनाव यानि स्ट्रेस लेने से बॉडी क्लॉक में गड़बड़ी आ जाती है। जिससे लड़कियों के साथ महिलाओं में भी पीरियड्स समय से पहले आने की समस्या देखी जाती है। ऐसे में अधिक तनाव लेने से बचें।

2.पीरियड्स का समय से पहले शुरु होने के प्रमुख कारणों में से एक है शरीर में होने वाले हार्मोनल चेंज। समय के साथ लाइफस्टाइल, खान पान की आदतों में भी तेजी से बदलाव आया है। जिसे लड़कियों में भी हॉर्मोनलस चेंज की गति तेज हो गई है। पहले जहां 14 साल की आयु में लड़कियों को पीरियड्स की प्रॉब्लम शुरु होती थी वहीं अब अब ये उम्र 10 साल हो गई है। तेजी से हो रहे हॉर्मोनल चेंज के लिए डॉक्टर की सलाह जरुर लें।




3.लड़कियों में जल्दी पीरियड्स शुरु होने के पीछे कई बार मौसमी या गंभीर बीमारी के लिए किया गया ज्यादा दवाओं का सेवन भी अहम भूमिका निभाता है। दवाओं के अधिक सेवन से शरीर के हॉर्मोनल बदलावों की गति तीव्र हो जाती है। ऐसे में डॉक्टर की सलाह से एंटीबॉयोटिक दवाओं का सेवन कम करें और सलाह पर ही किसी दवा का सेवन करें।

4. अगर आप दिन भर में 8-10 कप चाय या कॉफी का सेवन करते हैं, तो इससे भी लड़कियों में पीरियड्स के जल्दी शुरु होने की समस्या देखी जाती है। ऐसे में अपनी आदत को जल्द बदल लें।




5. बार-बार समय से पहले पीरियड्स से आने की समस्या आपकी ओवरी में होने वाली गंभीर बीमारी का एक संकेत भी हो सकता है। ऐसे में आप एक बार अपना ओवरी टेस्ट जरुर करवाएं।




समय से पहले पीरियड्स आने के लक्षण / Early Periods Symptoms

1.यूट्रस में दर्द होना

2.भूख का कम होना

3.स्तन, पेट, हाथ-पैर और कमर में दर्द होना

4.अधिक थकान, कब्ज और दस्त की शिकायत होना

5.यूट्रस में ब्लड क्लॉट्स का बनना

समय से पहले पीरियड्स आने के उपचार / Early Periods Treatments




1.अगर आप कॉफी, चाय और ठंडे पदार्थों का सेवन करना पसंद करते हैं। तो पीरियड्स आने से कम से कम एक सप्ताह पहले अपनी आदत में बदलाव लाएं। इससे आपकी ओवरी को आराम मिलेगा और समय से पूर्व पीरियड्स आने की समस्या से निजात मिलेगी।

2.अगर आप बार-बार समय से पहले पीरियड्स आने की समस्या से परेशान हैं, तो ऐसे में सबसे पहले बैलेंस्ड डाइट लेना शुरु करें। क्योंकि शरीर में पौषत तत्वों की कमी की वजह से भी समय से पूर्व ही मासिक धर्म की शुरुआत हो जाती है।




3. अगर आप मसालेदार, खट्टा और ऑयली फूड खाने की शौकीन हैं,तो भी आप अपनी आदत को जल्द बदल लें। क्योंकि ज्यादा मसालेदार खाना खाने से पाचन तंत्र पर बुरा असर पड़ता है। पीरियड्स के दौरान ठंडी खाद्य पदार्थों का लगातार लंबे समय तक सेवन करने से पेट के निचले हिस्से के साथ ओवरी में सूजन आने का खतरा बढ़ जाता है।

4. अगर आप अपने अनियमित पीरियड्स को सामान्य बनाना चाहते हैं, तो ऐसे में 15 दिनों तक रोजाना कच्चे पपीते के जूस का सेवन करना फायदेमंद होता है। इसके साथ आप पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द में भी राहत मिलती है। क्योंकि कच्चे पपीते में फाइबर की उच्च मात्रा पाई जाती है।




5. पीरियड्स के समय से पहले आने की समस्या और पेट में होने वाले दर्द से निजात दिलाने के लिए अदरक को शहद के साथ खाने से भी मासिक धर्म के दर्द से छुटकारा मिलता है। क्योंकि अदरक की तासीर गर्म होती है। आप अदरक का उपयोग खाना खाने के बाद भी कर सकते हैं। इसके अलावा साबुत धनिया और दालचीनी पाउडर को पानी में मिलाकर आधा रह जाने तक उबालें और नियमित रुप से गुनगुना करके पीएं। इसके अलावा

Next Story
Top