Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

देशी घी वजन बढ़ाने के साथ वजन घटाने में भी है कारगर, जानें कैसे

Desi Ghee Effective आपने अक्सर लोगों को देशी घी का नाम सुनते ही बढ़ते हुए वजन और मोटापे के बारे में बात करते हुए सुना होगा, लेकिन अगर हम ये कहें कि देशी घी का सेवन करना आपका वजन कम कर सकता है, तो आपको शायद यकीन नही होगा, हम ये बात हाल ही में हुए एक शोध की वजह से कह रहे हैं, जिसके मुताबिक, देशी घी का नियमित सेवन करने से वजन को नियंत्रित किया जा सकता है क्योंकि घी में फैटी एसिड के अलावा विटामिन ए, डी, कैल्शियम, फॉस्फोरस, मिनरल्स, पोटैशियम जैसे पोषक तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं जो पचाने में सरल होने के साथ आपको कई बीमारियों से बचाने में कारगर भूमिका निभाता है।

देशी घी वजन बढ़ाने के साथ वजन घटाने में भी है कारगर, जानें कैसेDesi Ghee Effective In Weight Loss Along With Weight Gain According Research

भारतीय संस्कृति में प्राचीन काल से ही देशी घी का उपयोग खाना बनाने, पूजा पाठ आदि में किया जाता है। इसके साथ आयुर्वेद में भी देशी घी के फायदों का विस्तृत उल्लेख मिलता जो शरीर की हडडियों को मजबूत बनाने, आंखों की रोशनी बढ़ाने और आपको यंग रखने में मददगार साबित होता है। आइए जानते हैं देशी घी के अनसुने फायदे और शोध के बारे में...

देशी घी के पौषक तत्व (Desi Ghee Nutirious Value)

अधिकांश भारतीय व्यंजनों में घी का उपयोग किया जाता है। देशी घी में फैटी एसिड की मात्रा ज्यादा होती है। जिसमें कुछ घुलनशील फैट होता है, तो कुछ अघुलनशील फैट पाया जाता है, इसके अलावा कैल्शियम, फॉस्फोरस, मिनरल्स विटामिन ए, डी, पोटैशियम पाया जाता है। सेचुरेटेड फैट और फॉस्फोलिपिड्स की वजह घर में बना घी लंबे समय तक कमरे के तापमान में भी रखने पर कभी खराब नहीं होता है।

देशी घी बनाने की विधि (How To Make Desi Ghee)

देशी घी को बनाने के लिए सबसे पहले एक बड़े बर्तन में भैंस, गाय, भेड़ और बकरी के दूध की मलाई को 6-7 दिनों तक इकट्ठा करें, मलाई को खराब होने से बचाने के लिए उसमें थोड़ा सा दही डालें, आमतौर पर गाय और भैंस के दूध से घी बनाया जाता है। इसके बाद 7 दिन बाद मलाई को पानी के साथ एक मिक्सर की मदद से फेंट लें। इससे घी ऊपर आ जाएगा जबकि पानी मिक्सर में नीचे रह जाएगा।

अब मक्खन को एक अलग बर्तन में डालकर सुनहरा होने तक पका लें। जब घी सुनहरा या पीला होने लगे, तो उसे एक बड़े कंटेनर या डिब्बे में छलनी की मदद से छान लें। घी तैयार है। अब आप पकवान,व्यंजन बनाकर या सीधे रुप में भी घी का सेवन कर सकते हैं।

देशी घी पर किया गया शोध (Research on Desi Ghee)

शोध के मुताबिक, घी फैटी एसिड की एक संरचना यानि चेन होती है। घी में डीएचए (Docosahexaenoic Acid) का स्तर सामान्य से अधिक होता है। इसके अलावा

ओमेगा 3 फैटी एसिड पाया जाता है। ओमेगा 3 फैटी एसिड एक ऐसा एसिड है, जिसे शरीर नहीं बना पाता है। ऐसे में देशी घी, अखरोट, मछली का तेल और फ्लैक्ससीड्स ओमेगा 3 फैटी एसिड का सेवन करने की सलाह दी जाती है।

DHA के फायदे (Benefits of DHA)

घी में मौजूद DHA के बहुत सारे फायदे होते हैं, जिसमें कैंसर, दिल का दौरा, इंसुलिन प्रतिरोध, गठिया और एडीएचडी (एकाग्रता में कमी होने का विकार) जैसे समस्याओं का खतरा कम करने में मदद करता है। आइए जानते हैं घी के फयादे (Benefits of Desi Ghee)

एक्सपर्ट की देशी घी पर राय (Expert Opinion on Desi Ghee)

आमतौर पर घर के बड़े लोग अक्सर बच्चों को रोजाना 1-2 छोटा चम्मच देशी घी खाने की सलाह देते हैं, जिससे शरीर एनर्जेटिक बनने के साथ शरीर की हडिडयों को मजबूत बन सके। इसकी पुष्टि आज के समय के न्यूट्रीशनिस्ट भी करने लगे हैं। न्यूट्रीशनिस्ट के मुताबकि, नियमित रुप से घी का सेवन करने से शरीर का वजन कम होता है, साथ ही घी में मौजूद अमीनो एसिड शरीर में मौजूद वसा कोशिकाओं (Fatt Cell) का आकार छोटा करने में मदद मिलती है। अगर आप 2 चम्मच से अधिक घी का सेवन करते हैं, तो आपको ओमेगा 3 के अन्य स्रोत जैसे फ्लैक्ससीड्स, अखरोट या मछली का तेल का उपोग करने की जरुरत नहीं रहती है।

देशी घी के फायदे (Benefits of Desi Ghee)

1. डाइजेस्ट होना सरल है (Desi Ghee For Digestion)

अगर आप पेट संबंधी बीमारी कब्ज या बदहजमी जैसी समस्या से परेशान है, तो ऐसे में आपका नियमित रुप से घी का सेवन करना लाभदायक रहेगा। क्योंकि घी में सेचुरेटिड फैट के अलावा बायोटिक एसिड पाया जाता है। जिससे पेट को अन्य वनस्पति तेल और घी की तुलना में बना खाना पचाने में आसानी होती है और आप कुछ ही दिनों में कब्ज से राहत मिल जाती है। इसके साथ ही आयुर्वेद के अनुसार घी शरीर के पित्त को समाप्त करता है, जिससे पेट की जलन से निजात मिलती है।

2. वजन घटाने में कारगर (Desi Ghee For Weight Loss)

रोजाना देशी घी का सेवन करने से मेटाबॉल्जिम यानि पाचन क्रिया सुचारु रुप से कार्य कर पाती है। जिससे तेजी से मोटापा और वजन घटाने में मदद मिलती है। इसलिए हमेशा घी संतुलित मात्रा में ही सही पर जरुर खाना चाहिए।

3. हार्मोनल सतुंलन करता है (Desi Ghee For Haromonal Balnace)

देशी घी में विटामिन D, विटामिन E,विटामिन A और विटामिन K2 जैसे पौषक तत्व पाए जाते हैं जो शरीर के हॉर्मोन्स को संतुलित करने में मदद करते हैं, ऐसे में किशोरावास्था की बच्चियों के साथ गर्भवती स्त्री और स्तनपान कराने वाली मांओं को घी का सेवन जरुर करना चाहिए।

4. दिल की बीमारियों को रखता है दूर (Desi Ghee For Heart Disease)

अगर आप रोजाना 1-2 चम्मच घी का सेवन करते हैं, तो इससे आपके शरीर में बुरे कोलेस्ट्राल का स्तर कम होता है जबकि अच्छे कोलेस्ट्राल का स्तर बढ़ता है। साथ ही देशी घी में मौजूद विटमिन K दिल की धमनियों में होने वाली रुकावट को खत्म करता है।

5. देसी घी से हड्डियां होती है मजबूत (Desi Ghee For Strong Bones)

देशी घी में दूध की तरह कैल्शियम , विटामिन्स और फॉस्फोरस आदि पौषक तत्व पाए जाते हैं, जिससे शरीर का इम्यून सिस्टम स्ट्रांग होता है। इसके अलावा घी में पाए जाने वाले एंटी वायरल तत्व आपको चोट आदि के घावों को भरने में मदद करते हैं।

6. शरीर से विषैले तत्वों को निकालने में कारगर (Desi Ghee For Removing Toxic Substances)

देशी घी से पाचन क्रिया सुचारु रुप से कार्य कर पाती है, जिससे शरीर की आंतों से सभी विषैले और हानिकारकों तत्वों को बाहर निकालकर शरीर की सफाई करने के साथ उसे मजबूत बनाता है।

7. आंखों के इंफेक्शन में मददगार (Desi Ghee For Eye Infection)

देशी घी में मौजूद विटामिन ए आपकी आंखों से जुड़ी समस्याओं यानि इंफेक्शन के अलावा रोशनी बढ़ाने में मदद करता है। इसके लिए आंखों पर घर में बनाए गए काजल को देशी घी में मिलाकर लगाएं। इसके अलावा आंखों की थकान मिटाने के लिए भी घी का उपयोग करना लाभदायक होता है।

8. सफेद बालों से निजात (Desi Ghee For Removing white Hair)

अगर आप सफेद बालों की समस्या से परेशान रहते हैं, तो ऐसे में रोजाना या सप्ताह में 2-3 बार देशी घी की हल्के हाथों से बालों की जड़ों में लगाएं। इससे बाल जड़ों से काले बनेगें। क्योंकि देशी घी में विटामिन ई पाया जाता है, जो बालों के कोलेजन को बनाने में मदद करता है, जिससे नए बालों का निर्माण होता है।

9. जुकाम और सिरदर्द में असरदार (Desi Ghee For Headace)

अगर आप गाय के घी की कुछ बूंदों को नाक में दिन में 2 बार डालते हैं, तो इससे बंद नाक के साथ सिरदर्द से राहत मिलती है।

10. बॉडी मसाज के लिए (Desi Ghee For Immune System)

प्राचीन काल से ही भारत में शारीरिक बल को बढ़ाने के लिए देशी घी का इस्तेमाल किया जाता है। जबकि पश्चिमी जगत में देशी घी से शरीर की मालिश करने पर इम्यून सिस्टम बेहतर होता है।

Next Story
Top