Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सेहत के लिए हंसना ही नहीं रोना भी है जरुरी, शुरू किये जा रहें हैं क्राइंग क्लब

जैसा कि आपने अक्सर सुना होगा कि हंसना सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है। लेकिन ये भी सच है कि जितना हंसना सेहत के लिए लाभदायक है उतना रोना भी सेहत के लिए काफी अच्छा होता है। जिसके लिए क्राइंग क्लब भी शुरू किए जा रहे हैं।

सेहत के लिए हंसना ही नहीं रोना भी है जरुरी, शुरू किये जा रहें हैं क्राइंग क्लबरोने के फायदे(फाइल फोटो)

आपने अक्सर देखा होगा कि लड़कियां छोटी-छोटी बातों पर रोने लग जाती हैं। जिसका लड़कियों का काफी मजाक भी बनाया जाता है। इसी बीच आज हम आपको जो बताने जा रहे हैं। शायद आप उस बात का यकीन भी न करें। लेकिन ये सच है कि रोना भी सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है। आमतौर पर आपने लोगों को कहते हुए सुना होगा कि कहकहे लगाकर हंसना सेहत के लिए काफी अच्छा होता है। वहीं लोग इस बात से भी अंजान हैं कि जितना हंसना सेहत के लिए फायदेमंद है उतना रोना भी सेहत के लिए लाभदायक है।

वहीं जिंदगी में खुशियों के लिए के रोना भी बहुत जरूरी है। जिस तरह आप रोकर अपनी फीलिंग्स एक्सप्रेस करते हैं। ठीक उसी तरह रोना भी अपनी भावनाओं तो वयक्त करने का एक तरीका है। लेकिन आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में लोगों के पास इतना भी वक्त नहीं कि वो रोने और हंसने का टाइम निकाल पाए। जिस वजह से डिप्रेशन के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। पुरुषों के मुकाबले में महिलाएं डिप्रेशन का शिकार ज्यादा होती हैं।

वहीं इस मामले का हल निकालते हुए क्राइंग क्लब शुरू किए जा रहे हैं। जहां लोग रोकर अपने दिल का बोझ हल्का कर सकते हैं। इसकी पहल सूरत में की गई है। जहां कॉलेज छात्राओं के लिए एक खास क्राइंग थैरेपी आयोजित की गई। वहीं डॉक्टर का कहना है कि लोग हंसते तो दिल खोलकर हैं मगर रोने के लिए एकांत जगह ढूंढते हैं। लेकिन यह सच है कि फूट-फूट कर रोने से दिल हल्का हो जाता है। मन का बोझ कम हो जाता है।

क्या है क्राइंग थैरेपी

क्राइंग थैरेपी एक वैंटिलेटर थैरेपी है। इसमें इंसान को रुला रुला कर हानिकारक टॉक्सिन को बाहर निकाला जाता है। आंसू उस वक्त निकलते हैं। जब आप किसी बात को लेकर इमोशनल होते हैं। यह खुशी या दुखी किसी भी रूप में हो सकते हैं। आंसू के जरिए आंखो से तकलीफ देने वाला पर्दाथ बाहर निकल जाता है। वहीं डॉक्टर का मानना है कि रोने से स्ट्रेस दूर होता है। साथ ही ब्लड सर्कुलेशन भी कंट्रोल में रहता है।

रोने के फायदे

-जब इंसान इमोशनल होता है तो एन्डोक्राइन सिस्टम आंख के जरिए हार्मोन जारी करता है।

-रोने से बैक्टीरिया नष्ट होते हैं।

-आंसू में फ्लूड लाइसोजाइम नाम का एक तत्व होता है। जो सीमन, म्यूकस, सलाइवा में भी पाया जाता है। जो आंखो के बैक्टीरिया को खत्म करने में मदद करता है।

-रोते वक्त आंसू ल्यूसीन-एन्केफिलन जारी करता है। यह एक तरह का एंर्डोफिन होता है। जो आपके मूड को सही करने में मदद करता है। साथ ही आपका दर्द भी कम करता है।

- रोने से आपको आराम मिलता है। काफी अच्छी महसूस करते हैं।

- रोने से स्ट्रेस कम होता है।

-रोने से वजन भी कम होता है।




Shagufta Khanam

Shagufta Khanam

Jr. Sub Editor


Next Story
Top