Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

गंजे पुरूषों को कोरोना का इंफेक्शन होने का ज्यादा डर, गंजापन संक्रमण और गंभीर होने का रिस्क फैक्टर : रिसर्च

अमेरिका की ब्राउन यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स (Researhers) ने खुलासा किया है कि गंजे पुरूषों (Bald Men) में कोरोना का गंभीर इंफेक्शन होने का ज्यादा खतरा है। रिसर्चर्स का कहना है कि गंजापन संक्रमण और होने का रिस्क फैक्टर है (Bald Men Are More Prone To Corona)।

गंजे पुरूषों को कोरोना का इंफेक्शन होने का ज्यादा डर, गंजापन संक्रमण और गंभीर होने का रिस्क फैक्टर : रिसर्च
X

कोरोना वायरस(Coronavirus) का खतरा दिन प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है। भारत समेत कई देशों में यह खतरनाक रूप ले चुका है(Coronavirus Outbreak)। वहीं कोरोना पीड़ितों (Corona Patients)की संख्या लगातार बढ़ रही है। वहीं कोरोना (Coronavirus Outbtbreak) को लेकर दुनिया भर के कई देशों में रिर्सच चल रहे हैं(Corona Research)। अभी तक रिसर्चर्स कोरोना वायरस को लेकर कई खुलासे कर चुके हैं। इसी बीच अमेरिका की ब्राउन यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स (Researhers) ने खुलासा किया है कि गंजे पुरूषों (Bald Men) में कोरोना का गंभीर इंफेक्शन होने का ज्यादा खतरा है। रिसर्चर्स का कहना है कि गंजापन संक्रमण और होने का रिस्क फैक्टर है (Bald Men Are More Prone To Corona)।

कोरोना से मौत का खतरा भी पुरुषों को ज्यादा

वहीं यह मामला समझने के लिए इस पर दो स्टडी की गईं। जिसमें दोनों के नतीजे एक जैसे निकले। रिसर्च से एक बात और सामने निकल कर आई कि कोरोना के संक्रमण का खतरा महिलाओं के मुकाबले पुरूषों को ज्यादा है। इसके साथ ही कोरोना से मौत का खतरा भी पुरुषों को ज्यादा है।

रिसर्त स्पेन के एक अस्पताल में हुई थी

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पहली रिसर्च में 41 कोरोना पीड़ित को शामिल किया गया। जिसमें 71% लोग गंजे थे। यह रिसर्त स्पेन के एक अस्पताल में हुई थी। वहीं दूसरी रिसर्च में 122 पुरूषों को शामिल किया गया जिममें 79 फीसद कोरोना पीड़ित गंजे थे।

Also Read: जो टिड्डियां अभी आई हैं वो एक महीने तक फसल खाएंगी, ऐसे करें समस्या का समाधान

मेल सेक्स हार्मोन एंड्रोजन गंजेपन और कोरोना के इंफेक्शन की क्षमता को बढ़ाता है

रिसर्चर्स ने बताया कि मेल सेक्स हार्मोन एंड्रोजन गंजेपन और कोरोना के इंफेक्शन की क्षमता को बढ़ा सकता है। वहीं रिसर्चर्स का कहना है कि एंड्रोजन हार्मोन कोरोना के कोशिका को संक्रमित करने का एक गेटवे हो सकता है। वहीं कुछ रिसर्चर्स का मानना है कि अभी इस पर और रिसर्च होनी चाहिए जिससे हमें इससे जुड़ी तमाम जानकारी मिल सके।

Shagufta Khanam

Shagufta Khanam

Jr. Sub Editor


Next Story