Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Coronavirus: अब कोरोना वायरस का भी होगा इंश्योरेंस, सर्कुलर किया जारी

Coronavirus: कोरोना वायरस को देखते हुए बीमा नियामक व विकास प्राधिकारण (इरडा) ने एक महत्वपूर्ण कदम उठाया है। इरडा का कहना है कि इंश्योरेंस कंपनी को एक हफ्ते के अंदर ऐसी पॉलीसी लाने को कहा है जिसमें कोरोना वायरस इलाज कवर हो।

Coronavirus: जल्द ही कोरोना वायरस का होगा इंश्योरेंस, इरडा ने इंश्योरेंस कंपनी को दिए सर्कुलर
X
कोरोना वायरस का होगा इंश्योरेंस (फाइल फोटो)

Coronavirus:कोरोना वायरस का कहर दुनिया के कई देशों के बाद अब भारत में भी देखने को मिल रहा है। वहीं भारत में अब तक 29 लोग इस वायरस का शिकार हो चुके हैं। इसी बीच लोगों में वायरस को लेकर काफी दहशत बैठी हुई है। तेजी से फैल रहे इस वायरस को लेकर लोगों में काफी चिंता भी बढ़ने लगी हैं। जिसको देखते हुए बीमा नियामक व विकास प्राधिकारण (इरडा) ने एक महत्वपूर्ण कदम उठाया है। इरडा का कहना है कि इंश्योरेंस कंपनी को एक हफ्ते के अंदर ऐसी पॉलीसी लाने को कहा है जिससे कोरोना वायरस इलाज कवर हो।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि यह दुनिया का अभी तक का पहला ऐसा प्रस्ताव है जिसमें कोरोना वायरस को इंश्योरेंस कवर में डाला जाएगा। वहीं हाल ही में इरडा ने हेल्थ इंश्योरेंस की जरूरत को पूरा करने के आदेश दिए हैं।

स्वास्थ्य बीमा की जरूरत को पूरा करने के उद्देश्य से बीमा कंपनियों को सुझाव दिया जाता है कि वे ऐसे प्रॉडक्ट डिजाइन करें जिससे कोरोना वायरस के इलाज का खर्च कवर हो सके। वहीं सभी बीमा कंपनियों को अन्य बीमारियों की लिस्ट में कोरोना वायरस को भी शामिल करना होगा।

वहीं बीमा कंपनी का कहना है कि उनकी रिव्यू कमिटी कोविड-19 के अंतर्गत आने वाले सभी दावों का निपटान से पहले समीक्षा करेगी।

एसबीआई जनरल इंश्योरेंस के हेड सुब्रमण्यम ने बताया कि कोरोना वायरस के दावे का निपटान तभी हो सकता है जब मरीज 24 घंटे तक अस्पताल में भर्ती रहा हो। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी में उन मरीजों को कवर नहीं किया जाता जो अस्पताल में भर्ती ना रहे हों।

क्या है इरडा

बीमा विनियामक और विकास प्राधिकरण (Insurance Regulatory and Development Authority) यानि इरडा भारत सरकार की एक एजेंसी है। इसका उद्देश्य बीमा की पालसी धारकों के हितों कि रक्षा करना, इंश्योरेंस कंपनी के रेगूलेशन सिस्टम को देखना, प्रोमोशन या घटनाएं जैसे मामलों को देखना होता है।

अभी नहीं मिला है बीमारी का इलाज

फिलहाल अभी तक इस वायरस से बचाव के लिए अब तक कोई टीका नहीं बनाया गया है। और ना ही अभी तक इसका कोई इलाज मिला है। इससे निजात के लिए टीका या दवाई अभी तक कहीं भी नहीं आई है । ऐसे में स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय का कहना है कि फिलहाल बचाव ही इसका बेहतर इलाज है।

90 हजार से ज्यादा लोग हुए इस बीमारी का शिकार

पूरी दुनिया में अब तक 90 हजार से भी ज्यादा इस वायरस का शिकार हो चुके हैं। वहीं इस वायरस के कारण लगभग 3000 मौतें हो चुकी हैं। वहीं हालातों को देखते हुए भारत ने

कोरोना के संक्रमण से दुनियाभर में 3 हजार से अधिक मौतें हो चुकी हैं। 90 हजार से अधिक लोगों को इसने बीमार कर रखा है। भारत में 21 एयरपोर्ट पर 6 लाख से भी ज्यादा लोगों की स्क्रीनिंग की गई है। इसके साथ नेपाल, भूटान और म्यांमार सीमा पर 10 लाख से ज्यादा लोगों की स्क्रीनिंग हुई है।

Shagufta Khanam

Shagufta Khanam

Jr. Sub Editor


Next Story