logo
Breaking

चॉकलेट के फायदे : स्वीट एंड टेस्टी चॉकलेट से बने हेल्दी

chocolate Benefits : बच्चे ही नहीं बड़ी उम्र के लोगों को भी चॉकलेट खाना अच्छा लगता है। इसकी एक बड़ी खासियत यह है कि टेस्टी होने के साथ ही यह हमारी हेल्थ के लिए भी बहुत फायदेमंद होती हे। इसके गुणों के बारे में आप भी जानिए।

चॉकलेट के फायदे : स्वीट एंड टेस्टी चॉकलेट से बने हेल्दी

Chocolate Benefits : फूड फॉर गॉड के नाम से मशहूर चॉकलेट को पुराने समय से समृद्ध लोगों की पसंद माना जाता रहा है। कुछ हेल्थ एक्सपर्ट इसे एंटीऑक्सीडेंट का दुनिया का सबसे बड़ा स्रोत मानते हैं। स्पेन में तो उपवास के दिनों में इसे वैकल्पिक फूड के रूप में खाने की सलाह दी जाती है। चॉकलेट को सिर्फ शौक के तौर पर या स्वाद के लिए नहीं, बल्कि अच्छी हेल्थ के लिए भी खाया जा सकता है।

चॉकलेट का चयन

सेहत के लिए चॉकलेट का सेवन कर रहे हों तो कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी है-

-वही डार्क चॉकलेट चुनें, जिसमें कम से कम 70 फीसदी कोकोआ हो।

-माइग्रेन के रोगियों को डार्क चॉकलेट के सेवन से बचना चाहिए। इसके सेवन से माइग्रेन अटैक बढ़ सकता है।

-चॉकलेट हमेशा कम और संतुलित मात्रा में खाएं क्योंकि इसमें फैट काफी मात्रा में होती है।

-हफ्ते में दो या तीन बार डार्क चॉकलेट का एक पीस, हेल्थ बेनिफिट लेने के लिए काफी है।

चॉकलेट में न्यूट्रीशन

-100 ग्राम डार्क चॉकलेट के सेवन से 170 कैलोरी मिलती है, जबकि चीनी और वसा से भरपूर सामान्य चॉकलेट में यह 560 कैलोरी तक हो सकती है।

-डार्क चॉकलेट में कई पोषक तत्व जैसे फाइबर, आयरन, मैग्नीशियम, कॉपर, मैंगनीज, पोटैशियन, फॉस्फोरस, जिंक, सेलेनियम, प्रोटीन और मोनोसैचुरेटेड और सैचुरेटेड फैट्स होते हैं।

चॉकलेट खाने के फायदों के बारे में जानिए-

एंटीऑक्सीडेंट्स का भंडार :

डार्क चॉकलेट में पोलीफेनॉल्स, फ्लेवोनॉल्स, कैटेचिंस, फाइटोस्टेरॉल्स, प्रोथोसायनीडींस और एपिकैटेचिंस की काफी मात्रा होती है। इन एंटीऑक्सीडेंट्स की भरपूर मात्रा के कारण इसे कई बीमारियों से बचाने वाला सुपर फूड भी माना जा सकता है।

हार्ट रखे हेल्दी:

चॉकलेट में मैग्नीशियम होता है, जो ब्लडप्रेशर लो रखकर हार्ट की सुरक्षा करता है। इसमे मौजूद एपीकेटेचिंस खराब कोलेस्ट्रॉल कम करता है और ब्लड वेसल्स में क्लॉट बनने की संभावना घटाता है। चॉकलेट में पाया जाने वाला फ्लेवोनोल धमनियों के लिए रिलैक्सेंट का काम करता है और ब्लड फ्लो को दुरुस्त रखकर ब्लड प्रेशर घटाता है।

स्ट्रेस बस्टर:

चॉकलेट में मौजूद ट्रिप्टोफैन नेचुरल एंटी डिप्रेसेंट की तरह काम करता है और सेरोटोनिन के उत्सर्जन में मदद देता है। इसे खाने से न सिर्फ नींद अच्छी आती है बल्कि भूख भी बढ़ती है। इसे संतुलित मात्रा में नियमित खाने पर गर्भवती महिलाओं में डार्क चॉकलेट स्ट्रेस लेवल घटाता है और उनकी होने वाली संतान भी खुशमिजाज होती है। चॉकलेट में मौजूद फेनाइलेथिलामाइन फील गुड एंडॉर्फिंस का उत्पादन करता है, जिससे स्ट्रेस कम होकर खुशी मिलती है।

खांसी पर कंट्रोल:

थियोब्रोमाइन से भरपूर डार्क-चॉकलेट नेचुरल खांसी रोधक का काम करता है। यह बाजार में मिलने वाले ज्यादातर कफ सिरप जैसा नहीं जो नींद का सबब बन जाते हैं। इसमें थियोफाइलीन और मामूली मात्रा में मौजूद कैफीन फेफड़ों को राहत देकर ब्रोंकोस्पाज्म घटाता है और अस्थमा से भी राहत देता है।

डायबिटीज रोधक:

चॉकलेट में पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट्स, इंसुलिन सेंसिटिविटी बढ़ाते हैं और टाइप-2 डायबिटीज के लिए रोधक का काम करते हैं। डार्क चॉकलेट खाने से बार-बार भूख नहीं लगती क्योंकि यह एक हाई एनर्जी फूड है, जो लंबे समय तक पेट भरा होने का अहसास देता है। चॉकलेट में एंजाइम्स भी काफी मात्रा में होते हैं, जो शरीर में अवांछित वसा के जमाव को खत्म कर देते हैं।

स्किन की चमक बढ़ाए:

क्लिनिकल बायोकेमिस्ट डॉ. वानी श्रीनिवास की मानें तो हफ्ते में दो या तीन बार एक पीस डार्क चॉकलेट खाने से स्किन को कई प्रकार के नुकसान से बचाया जा सकता है। जैसे अल्ट्रावॉयलेट किरणों से होने वाला नुकसान। डार्क चॉकलेट के सेवन से स्किन का लचीलापन भी बरकरार रहता है। इसमें मौजूद फ्लेवेनाल स्किन में रक्त के संचार को दुरुस्त रखता है, जिससे स्किन की चमक-दमक बढ़ती है।

ब्रेन होता है एक्टिव:

डार्क चॉकलेट खाने से ब्रेन में ब्लड फ्लो इंप्रूव होता है, जिससे ब्रेन ज्यादा एक्टिव रहता है। महिलाओं में डार्क चॉकलेट के सेवन से स्ट्रोक की संभावना भी कम होती है। डार्क चॉकलेट का नियमित सेवन ब्रेन सेल्स में इंफ्लेमेटरी रिएक्शन को कम करता है, जिससे मेमोरी लॉस और अल्जाइमर्स डिजीज का जोखिम भी घटता है।

कैंसर से सुरक्षा:

डार्क चॉकलेट में मौजूद प्रोसाइनीडिन कैंसर सेल्स से लड़ते हैं और उन्हें तेजी से बढ़ने से रोकते हैं। इस लिहाज से हम कह सकते हैं कि कैंसर के रोगी अगर डार्क चॉकलेट का सेवन करें तो यह उनकी आयु बढ़ाने में मददगार हो सकता है।

आयरन का भंडार:

चॉकलेट में आयरन भरपूर मात्रा में होता है। इसके सेवन से एनीमिया का खतरा कम होता है। लिहाजा इसे गर्भवती महिलाएं भी खा सकती हैं।

- शिखर चंद जैन

Share it
Top