Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सेहतमंद रहने के लिए खीरा को डेली डाइट में करें शामिल, जानें गजब के फायदे

खीरा (Cucumber) लगभग हर घर में सलाद, रायता के रूप में खाया जाता है। अलग-अलग भाषाओं में इसको त्रपुष, सुधावास, कांकरी, ससा, घिरकिन और क्यूकंबर के नामों से जानते हैं। खीरा जमीन पर फैलने वाली बेल पर 4-6 अंगुल लंबा और गहरे हरे रंग का होता है। खीरा ठंडी तासीर वाला होता है।

सेहतमंद रहने के लिए खीरा को डेली डाइट में करें शामिल, जानें गजब के फायदे
X

खीरा (Cucumber) लगभग हर घर में सलाद, रायता के रूप में खाया जाता है। अलग-अलग भाषाओं में इसको त्रपुष, सुधावास, कांकरी, ससा, घिरकिन और क्यूकंबर के नामों से जानते हैं। खीरा जमीन पर फैलने वाली बेल पर 4-6 अंगुल लंबा और गहरे हरे रंग का होता है। खीरा ठंडी तासीर वाला होता है। सलाद में इसका सेवन पाचन करने में मददगार होता है। कब्ज रोगियों के लिए यह बहुत गुणकारी है। आंखों की थकान दूर करने और ठंडक महसूस करने के लिए इसके छोटे-छोटे टुकड़े काटकर आंखों पर रखिए। इसे खाने में सावधानी भी रखनी पड़ती है। अगर हाजमा कमजोर है और इसे ज्यादा खा लिया जाए तो नींद में गड़बड़ी हो सकती है, पेट में भारीपन हो सकता है।

एक पुरानी कहावत भी है कि दिन में खीरा हीरा, और रात में जीरा। यानी अगर खीरा सबेरे या दोपहर में खाया जाए तो शरीर को भरपूर लाभ मिलता है, और रात को इसका सेवन फायदेमंद नहीं होता है। बल्कि कब्ज, पेट भारी होने की संभावना होती है। इसमें लगभग 95 प्रतिशत तक पानी होता है। इसमें विटामिन ए, विटामिन-बी1, विटामिन बी-6, विटामिन-सी और विटामिन-डी, पोटेशियम, फास्फोरस, आयरन आदि प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। इसके जूस का सेवन पेट की अनेक परेशानियों में लाभकारी है। यहां हम आपको खीरे में छिपे स्वास्थ्यरक्षक, स्वास्थ्यवर्धक और रोग निवारक गुणों के बारे में बता रहे हैं।

ऐसे करें उपयोग

-पेशाब की जलन, पेशाब का रुक-रुक कर आना आदि समस्याओं में खीरा बीज एक चम्मच को दूध में उबाल कर पीना चाहिए या खीरे के पत्ते को पानी में पीस कर छान लें, थोड़ी-सी मिश्री मिलाकर 4-6 चम्मच दिन में तीन बार पिलाना हितकर है।

-पथरी से परेशान रोगियों को आधा चम्मच खीरे के बीज को दही के साथ नियमित लेना चाहिए।

-रूखी त्वचा या मुंह पर मुंहासे हों तो इसको पत्थर पर पीस कर चेहरे पर लेप लगाएं, आधा घंटे बाद धो लें काफी लाभ मिलेगा।

-अनिद्रा से परेशान लोगों को इसका गूदा पीसकर पैरों के तलवों पर मलने से नींद आएगी और आंखों की जलन भी मिटेगी।

-सबेरे उठते समय सिर में भारीपन, दर्द रहता हो तो रात को सोने से पहले कुछ दिन खीरा खाकर सोएं।

-खट्टी डकारें और सीने में जलन महसूस होती है तो खीरा खाना, इसका रस पीना लाभकारी है।

-कमजोर पाचन वालों को इसका रायता बहुत उपयोगी है, यदि खीरा को उबाल कर रायता बनाया जाए तो और लाभकारी होगा।

-वजन कम करने की इच्छा वालों को इसका नियमित सेवन करना हितकर है।

-अनुसंधानकर्तावों ने पाया है कि खीरे के रस में कैंसर की बढ़ती कोशिकाओं को बढ़ने से रोकने की क्षमता होती है।

-इसका नियमित सेवन असमय आने वाले बुढ़ापे को रोकने में मददगार है।

-ह्रदय रोगियों, उच्च रक्तचाप (हाईब्लड प्रेशर) रोगियों को इसका सेवन हितकर है।

- इसके सेवन से डायबिटीज रोगियों में शुगर लेवल के स्तर को नियंत्रित करने में मदद मिलती है।

-इसमें मौजूद कैल्शियम, हड्डियों को स्वस्थ रखने में मददगार है। कमजोर हड्डियों वाले लागों को इसका सेवन हितकर है।

-बुढ़ापे के कारण होने वाली याददाश्त की कमजोरी को सुधारने में खीरा का सेवन लाभकारी है।

यहां बताए गए उक्त सभी उपाय, उपचार सामान्य हैं। प्रयोग करने से पहले अपने वैद्यजी या आयुर्वेद विशेषज्ञ से सलाह अवश्य करें।

-वैद्य हरिकृष्ण पांडे 'हरीश'

और पढ़ें
Next Story