Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Happy Valentine Day 2019 : प्यार भरी शायरी से लवर को विश करें हैप्पी वैलेंटाइन डे

14 फरवरी (14 February) को हर साल प्रेमी युगल वैलेंटाइन डे पर प्यार भरी शायरी (Valentine Day Shayari)एक दूसरे को भेजते हैं। कवी कालिशंकर सोम्य प्यार भरी कविता (Pyar Bhari Kavita) आपके लिए लाए हैं। इनकी कविता का शीर्षक है ''अनबूझ पहेली बूझ रहा हूँ जिसको हर पल एक अनबूझ पहेली है जन्म-जन्म से संग है मेरे फिर भी नई नवेली है... इस सीरिज में हम आपको रोज इनकी प्यार भरी शायरी (Pyar Bhari Shayari) आपके लिए लाएंगे... तो आइये प्यार भरी शायरी (Pyar Bhari Shayari) से लवर (Lover) को विश करें हैप्पी वैलेंटाइन डे (Happy Valentine Day 2019)

Happy Valentine Day 2019 : प्यार भरी शायरी से लवर को विश करें हैप्पी वैलेंटाइन डे
X

14 फरवरी (14 February) को हर साल प्रेमी युगल वैलेंटाइन डे पर प्यार भरी शायरी (Valentine Day Shayari) एक दूसरे को भेजते हैं। कवी कालिशंकर सोम्य प्यार भरी कविता (Pyar Bhari Kavita) आपके लिए लाए हैं। इनकी कविता का शीर्षक है 'अनबूझ पहेली बूझ रहा हूँ जिसको हर पल एक अनबूझ पहेली है जन्म-जन्म से संग है मेरे फिर भी नई नवेली है... इस सीरिज में हम आपको रोज इनकी प्यार भरी शायरी (Pyar Bhari Shayari) आपके लिए लाएंगे... तो आइये प्यार भरी शायरी (Pyar Bhari Shayari) से लवर (Lover) को विश करें हैप्पी वैलेंटाइन डे (Happy Valentine Day 2019)...

शर्मीली-सी मतवाली-सी तरुण वृक्ष की वह डाली-सी

ओढ़ चुनरिया को गरिमा की लगती है भोली-भाली सी

सुंदर तन मदमस्त सुमन-सा चंपा वही चमेली है

बूझ रहा हूं जिसको हर पल एक अनबूझ पहेली है

वह जीवन की डोर निराली अधरों की मादक है लाली

सहनशीलता की मूरत वह आह कभी ना भरने वाली

भीड़ भरी इस दुनिया में वह मेरे बिना अकेली है

बूझ रहा हूँ जिसको हर पल एक अनबूझ पहेली है

हर एक शब्द नयन से कहती कटु जीवन में है

वो दहती प्रेम नदी वह मन आकुल के निजी अनुबंधों से है

बहती जाने कितने ही सपनों से वह जीवन में खेली है

बूझ रहा हूँ जिसको हर पल एक अनबूझ पहेली है

अल्हड़ सरिता-सी बलखाती रस भावों का

वह छलकाती सूख रहे मन के आँगन में बदरा को

वह लेकर आती सारी खुशियाँ है उससे वह मतवाली अलबेली है

बूझ रहा हूँ जिसको हर पल एक अनबूझ पहेली है

पल-पल वह लगती पागल-सी सावन के मधुरिम बादल-सी

मेट रही मन की दृढ़ता को शब्द-बाण की वह कायल-सी

जीवन की अनजान डगर पर वो ही सखी-सहेली है

बूझ रहा हूँ जिसको हर पल एक अनबूझ पहेली है

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story