Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

ऑफिस फंडाः गॉसिप बिगाड़ ना दे ऑफिस का माहौल

वर्कप्लेस पर होने वाली यह गॉसिप व्यक्ति के करियर को बर्बाद कर सकती है।

ऑफिस फंडाः गॉसिप बिगाड़ ना दे ऑफिस का माहौल
X
नई दिल्ली. ज्यादा गॉसिपिंग से संस्थान के कर्मचारियों की कार्यक्षमता प्रभावित होती है और उनके आपसी रिश्तों में दरार तो आती ही है, इसके अलावा उनमें आपसी तालमेल भी गड़बड़ा जाता है। इसलिए गॉसिप पर कंट्रोल जरूरी है।
किसी भी संस्थान को उन्नतिशील बनाने में वहां काम करने वाले लोगों का सबसे बड़ा हाथ होता है। कोई भी संस्थान उसी परिस्थिति में सफल हो सकता है, जब उसमें काम करने वाले कर्मचारियों के बीच सही तालमेल हो। यदि किसी संस्थान में काम करने वाले कर्मचारियों के बीच तालमेल सही न हो तो इसका सीधा असर संस्थान की कार्यक्षमता पर पड़ता है। अकसर किसी ऑफिस में काम करने वाले लोगों के बीच आपसी तालमेल न हो पाने की बड़ी वजह ऑफिस में होने वाली हर समय की गॉसिपिंग होती है। गॉसिप करना किसे अच्छा नहीं लगता। दूसरों के बारे में बातें करना, उनकी आलोचना करने में सभी को मजा आता है। ऑफिस में भी लोग गॉसिप की शुरुआत तो मजे से करते हैं लेकिन धीरे-धीरे उनमें गॉसिप करने का ये बड़ा नशा न केवल उनके करियर पर बुरा असर डालता है।
बढ़ते हैं मतभेद-
वर्कप्लेस पर होने वाली गॉसिप बेहद हानिकारक होती है, न केवल उस व्यक्ति के लिए जिसके बारे में बात की जा रही है बल्कि कंपनी के सभी कर्मचारियों और कंपनी के हित के लिए भी यह खतरनाक साबित हो सकती है। वर्कप्लेस पर इस गॉसिप के कारण आई नेगेटिविटी से ऑफिस का माहौल तनावपूर्ण हो जाता है। एक दूसरे के बारे में फैलाई गई सही गलत बातें अकसर झगड़े का रूप भी ले लेती हैं। ऑफिस में इस तरह का माहौल होने से सहकर्मी छोटी सी बात को भी बढ़ा चढ़ाकर दिखाने की कोशिश करते हैं। इससे कर्मचारियों के बीच आपसी मतभेद बढ़ने लगते हैं। ईर्ष्या से भरी इस गॉसिप में वह व्यक्ति जो गॉसिप की शुरुआत करता है, वह उस व्यक्ति से जिससे वह ईर्ष्या करता है, उसे हर तरह से सबके सामने छोटा साबित करने की कोशिश करता है। लेकिन कुछ समय बाद वह व्यक्ति खुद ही सबके सामने छोटा साबित हो जाता है। वह व्यक्ति जो गॉसिप का विषय होता है, वह पूरी तरह से इस बात से अनभिज्ञ होता है, लेकिन उसे ऑफिस में ही कहीं न कहीं इस बात की भनक लग जाती है कि उसके बारे में क्या अनाप शनाप बोला जाता है। कई बार वर्कप्लेस पर होने वाली यह गॉसिप व्यक्ति के करियर को बर्बाद कर सकती है। गॉसिप कर्मचारियों के बीच अविश्वास की भावना पैदा कर देती है और कभी कभी यह गॉसिप एक ऐसा रूप ले लेती है, जिसमें लोग एक दूसरे से बदला लेने के लिए किसी भी हद तक जाकर कुछ भी कर गुजरते हैं।
न हो ज्यादा गॉसिपिंग-
ऑफिस में काम करने के दौरान कर्मचारी एक दूसरे के साथ अपना तालमेल कैसे बनाएं यह भी एक अहम सवाल है। थोड़ी बहुत एक दूसरे के बारे में बातचीत करने, एक दूसरे से अपना सुख-दुख बांटना, स्वाभाविक है। ऑफिस से पूरी तरह से गॉसिप को खत्म करने के लिए और ऑफिस में गॉसिप की वजह से संस्थान की कार्यक्षमता पर बुरा असर न पड़े, इसके लिए यह जरूरी है कि उच्च पद पर आसीन कर्मचारी ऑफिस के माहौल को सही बनाए रखने के लिए इसमें अपना हस्तक्षेप करें। अगर ऑफिस में हर समय लोग काम करने की बजाय गॉसिप में मशगूल रहते हैं तो वह यह जानने का प्रयास करें कि ऑफिस में इतनी ज्यादा गॉसिप होने की वजह क्या है? वजह जानने के बाद इस दिशा में सुधार का प्रयास किया जाना चाहिए।
सीनियर उठाएं जरूरी कदम-
कंपनी में कार्यरत मैनेजर या सुपरवाइजर के लिए यह जरूरी है कि वह ऑफिस में होने वाली गॉसिप को गंभीरता से लें। अगर गॉसिप किसी व्यक्ति के काम या उसकी ईमानदारी से जुड़ी है तो आपके लिए यह जरूरी है कि आप कोई भी निर्णय लेने से पहले सारी बातों की भली प्रकार जांच कर लें। अगर जानकारी में कोई गलती या कोई बात अधूरी है तो उसे सही करना आपका काम है। इस बात की जांच करें कि गॉसिप की शुरूआत कहां से हुई है और किसके द्वारा की गई है। क्योंकि गलत जानकारी और अफवाहें आपको केवल गलत नतीजे तक ही लेकर जाती हैं।
गॉसिप को खत्म करने के लिए सबसे पहले सभी कर्मचारियों को यह साफ शब्दों में समझाएं कि ऑफिस में गॉसिप बर्दाशत नहीं की जाएगी और लोगों को इस बात के लिए मनाएं कि वह तुरंत गॉसिप को रोक दें। अगर आप किसी को गॉसिप करते हुए सुनते हैं और उसे साधारण वार्तालाप सोचकर उनकी बातों को इग्नोर कर देते हैं तो यह आपकी सबसे बड़ी गलती होती है। आपको उसी वक्त दूसरे कर्मचारी को टोक देना चाहिए, भले ही वे इसका बुरा माने। गॉसिप को रोकने की जिम्मेदारी केवल उच्च पद पर बैठे कर्मचारियों या मैनेजर की ही नहीं होती। ऑफिस में काम करने वाले सभी कर्मचारियों की यह जिम्मेदारी होती है कि वह इस बात का ध्यान रखें कि ऑफिस में कोई ऐसी बात न की जाए, जिससे बाद में आपको पछताना पड़े।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story