Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

सर्दियों के बोरिंग खाने में ''गाजर का मुरब्बा'' रेसिपी से घोलें मिठास

आजकल बाजार में गाजर बहुतायत में मिल रही है। यही सही समय है गाजर का हलवा और गाजर का मुरब्बा बनाने का। गाजर का मुरब्बा गर्मियों के मौसम में नियमित रूप से खाने से शरीर को ठंडक मिलती है और खून भी बढ़ता है।

सर्दियों के बोरिंग खाने में
आजकल बाजार में गाजर बहुतायत में मिल रही है। यही सही समय है गाजर का हलवा और गाजर का मुरब्बा बनाने का। गाजर का मुरब्बा गर्मियों के मौसम में नियमित रूप से खाने से शरीर को ठंडक मिलती है और खून भी बढ़ता है।
इसलिए आज हम आपको खास तौर पर गाजर का मुरब्बा रेसिपी बता रहे हैं, जिससे घर पर बेहद आसानी से बना सकते हैं और लोगों की सेहत और स्वाद दोनों को ख्याल रख सकती हैं।

यह भी पढ़ें : 'पंजाबी ढाबा स्टाइल दाल' से लंच को बनाएं स्पेशल, देखें रेसिपी

गाजर का मुरब्बा रेसिपी सामग्री

गाजर - 500 ग्राम
चीनी - 300 ग्राम (1.5 कप)
नींबू - 1

गाजर का मुरब्बा रेसिपी

1. सबसे पहले गाजर को धोकर पानी सूखने तक सुखा लीजिए। इसके बाद, इन्हें छीलकर डंठल अलग काट दीजिए।
2. इसके बाद गाजर को 1 या 1 1/2 इंच के टुकड़ों में काट लीजिये और एक बर्तन में इतना पानी भरकर गरम करने रखिये, जिसमें गाजर आसानी से डूब सके।
3.पानी में उबाल आने के बाद, गाजर पानी में डाल दीजिये और फिर से उबाल आने के बाद 2-3 मिनट तक उबालिये।
4.इसके बाद गाजर को उस पानी में ढककर 5 मिनट के लिये रख दीजिये।
5.गाजर पानी से निकालिये, इनके ऊपर ठंडा पानी डालकर इन्हें 2 मिनट इसी पानी में डूबे रहने दीजिए।
6.गाजर को छलनी का यूज करके पानी से निकालकर एक सूखे साफ कपड़े पर डालकर पानी निकाल दीजिए।
7.गाजर को कढ़ाही में डालिए और इसमें चीनी डालकर इसे ढककर 4 घंटे के लिए रख दीजिए। 4 घंटे के बाद, गाजर का जूस अलग हो जायेगा।
8.गाजर के रस, पानी के साथ चीनी मिलाकर चाशनी बनाएं।
9. उबाल आने के बाद, चाशनी को चैक कर लीजिए। चाशनी की एक-दो बूंदे प्याली में डालिए और ठंडी होने के बाद उंगली और अंगूठे के बीच चिपकाकर देखिए, यह चिपकनी चाहिए।
10. अब तैयार मुरब्बे में नींबू का रस डालकर मिला दीजिए और 2 दिन बाद चैक कर लीजिए।
11. इसके बाद तैयार मुरब्बे को एक टाइट कंटेनर में भरकर रख दीजिए।

सुझाव :

1. अगर गाजर मे बीच में पीला भाग ज्यादा हो तो गाजर को बीच से काट 2 भागों में काटिये और पीले भाग को निकाल दीजिये।
2.चाशनी ज्यादा पतली नहीं होनी चाहिए। अगर ये पतली रह जाएगी, तो मुरब्बा ज्यादा दिन तक नहीं चलता।
3. हमेशा साफ और सूखे कंटेनर में ही मुरब्बा स्टोर करें। उसे पहले उबलते हुए पानी से अच्छे से धोएं और धूप या माइक्रोवेव में अच्छी तरह से सुखा लीजिए।
Next Story
Top