logo
Breaking

फूड प्रॉडक्ट्स के पैकेट पर दी गई जानकारी है गलत: स्टडी

रिसर्चर्स का कहना है कि ये ब्रैंड जो दावा करते हैं वाकई उसमें कोई सच्चाई नहीं हैं।

फूड प्रॉडक्ट्स के पैकेट पर दी गई जानकारी है गलत: स्टडी
नई दिल्ली. मार्केट में मौजूद कई तरह के सामान पैकेट में बेद होते हैं और आप उस पैकेट के ऊपर लिखई हुई जानकारियों पर यकीन करके फटाफट उसे खरीद लेते हैं। कई ऐसे प्रोडक्ट होते हैं जो सेहत के लिहाज से बेहतर बताए जाते हैं। दरअसल, सेंटर फॉर साइंस एंड इन्वाइरनमेंट (CSE) की ओर एक स्टडी में बताया गया है कि स्नैक्स, हेल्थ ड्रिंक्स, कुकिंग ऑयल्स और नूडल्स ब्रैंड वो रियल जानकारी नहीं दे रहे, जिसके बारे में आपको वाकई पता होना चाहिए।
दरअसल, एक हेल्थ ड्रिंक ब्रैंड ने दावा किया है कि उसमें 34 वाइटल नूट्रीअन्ट जो कि बेहद जरूरी पोषक तत्व और 100 पर्सेंट मिल्क प्रोटीन हैं। इसमें बताया जा रहा है कि इसमें जो शुगर की मात्रा मौजूद है वह नियमित तौर पर लिए जाने वाली शुगर की लेवल का करीब 38 पर्सेंट है।
रिसर्च में बताया गया है कि इन प्रोडक्ट्स से संबंधित जो बातें विज्ञापन में बताई जाती है उससे लोग भ्रमित होते हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि डाइजेस्टिव बिस्किट्स के एक ब्रैंड का कहना है कि उनके इस प्रोडक्ट में बेहद कम मैदा है। जबकि ऐसा नहीं है। ऐडवर्टाइज़मेंट स्टैंडर्ड्स काउंसिल ऑफ इंडिया (ASCI) के मुताबिक, हकीकत में इसमें साबुत गेहूं से अधिक मैदा मौजूद है। दरअसल, सीएसई की रिपोर्ट के मुताबिक, ये बड़े ब्रैंड जो दावा करते हैं वाकई उसमें कोई सच्चाई नहीं हैं। वह लोगों को भ्रामक करते हैं।
इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक जब CSE रिपोर्ट जारी की गई तब न्युट्रिशन एक्सपर्ट ईशी खोसला ने कह कि कोई प्रॉडक्ट फैट फ्री हो सकता है, लेकिन यह भी हो सकता है कि उसमें शुगर की मात्रा काफी अधिक हो। उपभोक्ता लेबल पर मौजूद अन्य जानकारियों की ओर अकसर ध्यान नहीं देते।
ये है ब्रांड्स के दावे और उनकी असलयित
ओट कुकीज
दावा: मधुमेह रोगियों के लिए फायदेमंद। 0 पर्सेंट ऐडेड शुगर, हाई फाइबर, कॉम्प्लेक्स कार्बोहाइड्रेट्स
चिंता की बात: हाई फैट कंटेंट (19%)
डायजेस्टिव बिस्किट्स
दावा: हाई फाइबर, गेहूं से बना, जीरो कलेस्टरॉल
चिंता की बात: हाई फैट कंटेंट (19.6%)
हेल्थ ड्रिंक
दावा: प्रो हेल्थ विटामिन्स
चिंता की बात: हाई शुगर कंटेंट (71%)
ओटमील कुकीज
दावा: सेहत के लिए फायदेमंद
चिंता की बात: समर्थन में कोई डेटा नहीं दिया
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को
फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Share it
Top