Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

इंटीरियर डिजाइन टिप्स : घर की खिड़कियों को इन तरीकों से बनाएं खूबसूरत

Interior Design Tips : घर के इंटीरियर को खूबसूरत बनाने में विंडो यानी खिड़कियों का भी इंपॉर्टेंट रोल होता है। लेकिन ऐसा तभी होता है, जब विंडो डिफरेंट हो और उसकी सजावट भी अच्छे से की गई हो। जानिए, इन दिनों किस तरह की विंडोज का ट्रेंड है और कैसे इन्हें अलग-अलग तरह से सजाया जा सकता है।

इंटीरियर डिजाइन टिप्स : घर की खिड़कियों को इन तरीकों से बनाएं खूबसूरत
X
Interior Design for Window

Interior Design Tips: अकसर हम घर के इंटीरियर पर काफी पैसा खर्च करते हैं लेकिन विंडो यानी खिड़की पर ध्यान नहीं देते हैं। घर के इंटीरियर को अट्रैक्टिव बनाने के लिए हर कमरे की विंडो पर भी ध्यान देने की जरूरत होती है। डिफरेंट डिजाइन, स्टाइल वाली विंडो से घर का इंटीरियर कंप्लीट नजर आता है। विंडो की खूबसूरती को बढ़ाने के लिए ड्रेप्स, चिक्स और पर्दे डिफरेंट स्टाइल में यूज किए जा सकते हैं। इससे घर का इंटीरियर और भी खूबसूर नजर आएगा।

स्लाइडिंग विंडो

छोटे घरों के लिए यह परफेक्ट होती है। इसमें विंडो को तीन से चार भागों में बांटकर इन पर टिंटिड ग्लास लगाया जाता है। अगर स्लाइडिंग विंडो का फ्रेम बड़ा हो तो ग्लास भी बड़ा होना चाहिए, इससे कमरा दिखने में बड़ा लगता है।

फ्रेंच विंडो

इस खास किस्म की विंडो की लंबाई छत से फर्श तक होती है। यह बड़े कमरों के लिए सही होती है। इसमें स्लाइडिंग नहीं होती लेकिन यह अंदर से या बाहर सेपूरी तरह खुली होती है। इसमें भी पूरी विंडो में एक बड़ा ग्लास लगाने की बजाय इसे चार या पांच सेक्शन में अलग-अलग करना चाहिए। इससे विंडो की मजबूती बनी रहती है और कमरा भी खूबसूरत दिखता है।

ग्रिल विंडो

इस विंडो में बाहर की तरफ से ग्रिल लगाई जाती है। जहां सुंदर पौधे और बेलबूटे इसकी खूबसूरती को बढ़ाते हैं। इस बात का ध्यान रखना भी जरूरी है कि जो ग्रिल लगी है, वह विंडो के आकार के अनुरूप हो और बाहर से आने वाली रोशनी को रोकने वाली न हो। ग्रिल में आप रॉट आयरन ग्रिल को ट्राई कर सकती हैं।

इनका भी करें यूज

ब्लाइनडर्ज : आजकल बाजार में कई वैरायटीज के ब्लाइनडर्ज मौजूद हैं, जिनमें फैब्रिक, बैंबू, रोमन, रॉलर, ऑस्ट्रियन, पुलअप, होरिजेंटल, वर्टिकल ब्लाइनडर्जशामिल हैं। इन्हें फ्रेम के जरिए विंडो में अटैच किया जाता है। ब्लाइनडर्ज लगाने के बाद पर्दों या ड्रेप्स की जरूरत नहीं होती।

चिक्स : यह बांस के बने पर्दें होते हैं, जिनका विंडो इंटीरियर में काफी इस्तेमाल होता है। यह प्लेन बैंबू या अलग-अलग रंगों में फर्नीचर से मैच कर बनवाए जा सकते हैं। चिक्स को ऊपर नीचे करने के लिए डेकोरेटिव रस्सी का इस्तेमाल किया जा सकता है, जिस पर घुंघरू बांधकर इसे ब्राइब्रेंट लुक दिया जाता है।

ड्रेप्स : लाइनदार, प्लेटिड फ्लोर लेंथ के ड्रेप्री पैनल को रॉड की मदद से हुक द्वारा लगाया जाता है। ड्रेप्स मोटे और भारी फैब्रिक के बने होते हैं, ये बड़ी विंडो के लिए परफेक्ट होते हैं।

कर्टेन : रॉड पर रिंग की मदद से या पर्दों (कर्टेन) में होल बनाकर हल्के या भारी, प्लेन या प्रिंटेड पर्दे के जरिए विंडो को सजाया जा सकता है। ड्रेप की तरह पर्दों में सजावटी एक्सेसरीज का इस्तेमाल किया जा सकता है।

लेखिका - अनु आर.

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top