logo
Breaking

बेहतर खान-पान से बढ़ाई जा सकती है प्रजनन क्षमता

कुछ महिलाओं को गर्भधारण करने में समस्या आती है। ऐसे में अगर खान-पान को लेकर सजग रहा जाए तो ओव्यूलेशन ठीक से होता और गर्भधारण की संभावना बढ़ती है। संतुलित आहार का सेवन महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए ही नहीं प्रजनन क्षमता को बेहतर बनाने में भी अहम भूमिका निभाता है।

बेहतर खान-पान से बढ़ाई जा सकती है प्रजनन क्षमता

कुछ महिलाओं को गर्भधारण करने में समस्या आती है। ऐसे में अगर खान-पान को लेकर सजग रहा जाए तो ओव्यूलेशन ठीक से होता और गर्भधारण की संभावना बढ़ती है। इस बारे में फर्टिलिटी सॉल्यूशंस, मेडिकवर फर्टिलिटी, दिल्ली की क्लीनिकल डायरेक्टर डॉ. श्वेता गुप्ता पूरी जानकारी दे रही हैं।

संतुलित आहार का सेवन महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए ही नहीं प्रजनन क्षमता को बेहतर बनाने में भी अहम भूमिका निभाता है।

दरअसल, महिलाओं के शरीर को सही ढंग से कार्य करने के लिए निश्चित मात्रा में विटामिन, मिनरल्स की आवश्यकता होती है, इसके लिए सही डाइट जरूरी होती है।

जब डाइट सही होती है तो हार्मोनल बैलेंस बना रहता है, जिससे महिलाओं में गर्भधारण की क्षमता बढ़ती है। कई वैज्ञानिक शोधों से साबित हुआ है कि कुछ खाद्य पदार्थ प्रजनन क्षमता में वृद्धि करने में बहुत सहायक होते हैं। नियमित रूप में इन खाद्य पदार्थों का सेवन बहुत लाभदायक है।

यह भी पढ़ें: खुलासा! विटामिन डी की कमी से महिलाओं को हो सकता है मोटापा और डायबिटीज

क्या खाएं

  • प्रजनन क्षमता में वृद्धि के लिए साधारण कार्बोहाईड्रेट्स की बजाय कॉम्प्लेक्स कार्ब्स डाइट में शामिल करने की सलाह दी जाती है।
  • अच्छे कार्ब्स सब्जियों, फल और साबुत अनाज के फाइबर में पाए जाते हैं।
  • लेकिन अनहेल्दी कार्ब्स से दूर रहना चाहिए, यह तले हुए खाद्य पदार्थों में मौजूद होते हैं।
  • डाइट में प्रोटीन शामिल करना बहुत जरूरी है। इसके लिए अपने आहार में सेम, पत्तेदार सब्जियां और टोफू सही मात्रा में लें।
  • नट्स और सीड्स में भी प्रोटीन की प्रचुर मात्रा मौजूद होती है। मीट भी प्रोटीन का अच्छा स्रोत है, लेकिन इसका सेवन व्यक्तिगत पसंद पर निर्भर करता है।
  • मछली में प्रोटीन और ओमेगा ऑयल दोनों ही अधिक मात्रा में पाए जाते हैं, इनका सेवन करने से प्रोटीन की कमी दूर होती है।
  • ओव्यूलेशन को बेहतर बनाने के लिए डेयरी उत्पादों को बहुत अच्छा माना जाता है।

यह भी पढ़ें: एचआईवी से जुड़ी जानकारी, हर सवाल का जवाब है यहां

  • शोधकर्ताओं ने पाया है कि कम वसायुक्त डेयरी उत्पादों की बजाय पूर्ण वसा वाले डेयरी प्रोडक्ट्स् ज्यादा न्यूट्रीशस होते हैं।
  • महिलाएं फुल क्रीम दूध, दही, पनीर में से किसी भी डेयरी प्रोडक्ट का महिलाएं अपनी पसंद के अनुसार सेवन कर सकती हैं।
  • चाहें तो एक ताजा बाउल क्रीम और कटे हुए ताजे फल के साथ अपने दिन की शुरुआत कर सकती हैं।
  • पानी शरीर के लिए बहुत आवश्यक है इसलिए सभी महिलाओं को पर्याप्त मात्रा में पानी पीना चाहिए।
  • पानी शरीर के भीतर हार्मोन और फॉलिकल्स के ट्रांसपोर्ट में मदद करता है। पानी सर्वाइकल म्यूकस को पतला कर देता है।
  • कुछ ऐसे खाद्य पदार्थ हैं, जो विशेष रूप से ओव्यूलेशन में सुधार करने के लिए जाने जाते हैं, इसमें शकरकंद और अंडे शामिल हैं।

क्या न खाएं

  • कुछ खाद्य पदार्थ ऐसे भी हैं, जिनसे दूर रहना ही बेहतर है। जहां तक संभव हो कॉफी का सेवन कम कर देना चाहिए।
  • ठंडे पेय और डिब्बाबंद जूस का इस्तेमाल न करें।
  • प्रोसेस्ड फूड को तो पूरी तरह से नजरअंदाज कर दें।
  • महिलाएं अपने स्वास्थ्य और प्रजनन क्षमता को बेहतर बनाने के लिए घर में पके हुए भोजन का सेवन करें।
  • सही आहार का गर्भधारण करने की क्षमता पर बहुत ज्यादा प्रभाव पड़ता है।
  • लेकिन उचित सलाह के लिए फर्टिलिटी कंसल्टेंट से मिलना भी बहुत जरूरी है। इससे आपको उचित सलाह मिलेगी।
Share it
Top