logo
Breaking

कान की इन तकलीफों के कारण हो सकता है माइग्रेन, तुरंत कराएं इलाज

वैसे तो माइग्रेन सिर दर्द से जुड़ी बीमारी है लेकिन इसका कनेक्शन कान से भी है। कान की तमाम दिक्कतों के कारण माइग्रेन हो सकता है। दरअसल माइग्रेन एक ऐसी बीमारी है, जिसमें सिर के आधे हिस्से में काफी तेज दर्द होता है। कान में होने वाली कुछ तकलीफों के कारण माइग्रेन हो सकता है।

कान की इन तकलीफों के कारण हो सकता है माइग्रेन, तुरंत कराएं इलाज

वैसे तो माइग्रेन सिर दर्द से जुड़ी बीमारी है लेकिन इसका कनेक्शन कान से भी है। कान की तमाम दिक्कतों के कारण माइग्रेन हो सकता है। दरअसल माइग्रेन एक ऐसी बीमारी है, जिसमें सिर के आधे हिस्से में काफी तेज दर्द होता है। कान में होने वाली कुछ तकलीफों के कारण माइग्रेन हो सकता है।

हाल में हुई एक रिसर्च में इस बात की पुष्टि हुई है कि कान की तंत्रिका में किसी तरह की कोई दिक्कत होने के कारण माइग्रेन की समस्या हो सकती है।

विशेषतौर पर माइग्रेन से पीड़ित लोगों को कान बजने समेत कान के अंदरूनी हिस्सों में अन्य विकार हो सकते हैं।

यह भी पढ़ें: फलों को सही समय पर खाना होता है फायदेमंद, गलत समय पर खाना सेहत पर पड़ सकता है भारी

शोधकर्ताओं की मानें तो कॉक्लीयर नामक कान की तंत्रिका से माइग्रेन के बारे में पता लगाया जा सकता है।

ऐसा है कान और माइग्रेन का कनेक्शन

ये बातें ताईवान स्थित डलिन त्जू ची हॉस्पिटल के शोधकर्ताओं ने कही। उन्होंने बताया कि कान की तंत्रिका से जुड़ी दिक्कत कान के अंदरूनी हिस्सों को प्रभावित करती है।

यही वजह है कि कान में झनझनाहट या यूं कहें कान बजने की समस्या होती है। इसे मेडिकल भाषा में सेंसोरीन्यूरल हियरिंग इंपेयरमेंट कहा जाता है। इसकी वजह से अचानक बहरापन भी हो सकता है।

ऐसे की गई रिसर्च

रिसर्च के लिए ऐस 1,056 लोगों को शामिल किया गया, जिन्हें माइग्रेन की समस्या थी। साथ ही 4,224 लोग ऐसे थे जिन्हें माइग्रेन नहीं था।

यह भी पढ़ें: सावधान! दिल के मरीजों की इस दवाई से हो सकती है ये बड़ी बीमारी

शोध में यह पाया गया कि जिन्हें माइग्रेन था उन लोगों में कान से जुड़ी समस्याएं उन लोगों से 12.2 प्रतिशत ज्यादा थी जिन लोगों को माइग्रेन नहीं था। हिन्दुस्तान की रिपोर्ट के मुताबिक यह रिसर्च जामा ऑटोलेरिंगोलॉजी जर्नल में प्रकाशित की हुई थी।

Share it
Top