logo
Breaking

गर्भावास्था के शुरुआती लक्षण : गर्भावास्था के इन 5 लक्षण को ना करें नजर अंदाज, वरना नहीं बन पाएंगी ''माँ''

गर्भावास्था हर महिला के लिए जिंदगीं का सबसे महत्वपूर्ण और खास समय होता है। इस दौरान महिलाएं कई सारे शारीरिक और मानसिक बदलावों से गुजरती हैं। आमतौर पर गर्भावास्था के शुरुआती लक्षण हर महिला में अलग-अलग होते हैं,जिन्हें अक्सर महिलाएं सही से समझ नहीं पाती हैं। लेकिन गर्भावास्था में कुछ लक्षण सभी गर्भवती महिलाओं में समान रूप से दिखाई देते हैं। इसलिए आज हम आपको गर्भावास्था के शुरुआती लक्षण (Early pregnancy symptoms) के बारे में बता रहे हैं, जिससे आप किसी तरह की गलतफहमी से बच सकें। वैसे तो आज के दौर में महिलाएं पीरियड्स मिस होने पर बाजार में उपलब्ध प्रेंग्नेंसी किट से घर में ही टेस्ट कर लेती हैं, लेकिन फिर भी डॉक्टर से जांच जरूर करवाएं।

गर्भावास्था के शुरुआती लक्षण : गर्भावास्था के इन 5 लक्षण को ना करें नजर अंदाज, वरना नहीं बन पाएंगी

Early Pregnancy Symptoms : गर्भावास्था हर महिला के लिए जिंदगीं का सबसे महत्वपूर्ण और खास समय होता है। इस दौरान महिलाएं कई सारे शारीरिक और मानसिक बदलावों से गुजरती हैं। आमतौर पर गर्भावास्था के शुरुआती लक्षण हर महिला में अलग-अलग होते हैं,जिन्हें अक्सर महिलाएं सही से समझ नहीं पाती हैं। लेकिन गर्भावास्था में कुछ लक्षण सभी गर्भवती महिलाओं में समान रूप से दिखाई देते हैं। इसलिए आज हम आपको गर्भावास्था के शुरुआती लक्षण (Early pregnancy symptoms) के बारे में बता रहे हैं, जिससे आप किसी तरह की गलतफहमी से बच सकें। वैसे तो आज के दौर में महिलाएं पीरियड्स मिस होने पर बाजार में उपलब्ध प्रेंग्नेंसी किट से घर में ही टेस्ट कर लेती हैं, लेकिन फिर भी डॉक्टर से जांच जरूर करवाएं।

गर्भावास्था के शुरुआती लक्षण :

गर्भावास्था के शुरुआती लक्षण नं. 1

महिला का पार्टनर के साथ यौन संबंध बनाने के बाद पीरियड्स के मिस होने को गर्भावास्था का सबसे पहला लक्षण माना जाता है। क्योंकि इस प्रक्रिया में महिला के गर्भ में अंडाणु निषेचित होने लगते हैं। जिस वजह से महिला को पीरियड नहीं आता।

गर्भावास्था के शुरुआती लक्षण नं. 2

अगर महिला को अचानक से बार-बार जी मिचलाने या सुबह के वक्त घबराहट महसूस करना, भूख कम लगने जैसी समस्या होना भी गर्भावास्था के लक्षण के रूप में देखे जाते हैं।

गर्भावास्था के शुरुआती लक्षण नं. 3

महिलाओं के स्तन यानि ब्रेस्ट के आकार में वृद्धि होने को भी गर्भावास्था के शुरुआती लक्षण माना जाता है। क्योंकि जब भी महिला गर्भवती होती है, तो उसके स्तनों के आकार में बदलाव आता है। ये बदलाव स्तनों में दूध के बनने की प्रक्रिया की वजह से आता है। इसके साथ ही हार्मोनल चेंज से ब्रेस्ट के निपल्स के रंग में भी बदलाव होता है।

गर्भावास्था के शुरुआती लक्षण नं. 4

गर्भावास्था के दौरान महिलाओं को अक्सर कमर में दर्द की शिकायत रहती है, ये कमरदर्द शरीर में होने वाले हार्मोनल चेंज और गर्भ में शिशु के विकास की प्रक्रिया की वजह से होता है। इसके साथ ही गर्भावास्था के दौरान किडनी ज्यादा सक्रिय हो जाती है। जिसकी वजह से गर्भवती महिलाओं को बार-बार पेशाब यानि यूरिन जाने की समस्या का सामना करना पड़ता है।

गर्भावास्था के शुरुआती लक्षण नं. 5

गर्भावास्था के दौरान महिलाओं के शरीर का अक्सर सामान्य तापमान अधिक बना रहता है। जिसकी वजह से मूड में चिड़चिड़ाहट के साथ ही थोड़ा सा काम करने पर भी थकान महसूस होती है।
Share it
Top