Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

डॉक्टरों ने किया कमाल, जोड़ दिया कटा हाथ

डॉक्टरों ने हथेली से नीचे कटे हाथ के हिस्से को दोबारा मरीज के हाथ से जोड़ने का कारनामा कर दिखाया ।

डॉक्टरों ने किया कमाल, जोड़ दिया कटा हाथ

अहमदाबाद. दुनिया में डॉक्टरों को भगवान के बाद दूसरा दर्ज दिया गया है। कभी वे हार्ट का ट्रांसप्लांट कर नया इतिहास रचते हैं तो कभी एक व्यक्ति के सिर को दूसरे के सिर में सफलता पूर्वक लगा देते हैं। ठीक इसी तरह का एक मामला अहमदाबाद में सामने आया है। डॉक्टरों ने हथेली से नीचे कटे हाथ के हिस्से को दोबारा मरीज के हाथ से जोड़ने का कारनामा कर दिखाया । प्रितेश शाह को जब अस्पताल लाया गया तबतक उनके अंग को शरीर से अलग हुए 15 घंटे बीत चुके थे।बावजूद इसके डॉक्टर अलग हुए अंग को शरीर से जोड़ने में सफल हुए।

सीधे खाया जा सकने वाला सोयाबीन विकसित, अब नहीं पड़ेगी उबालने की जरूरत

दरअसल भावनगर में रहने वाले प्रितेश शाह एक शादी से घर लौट रहे थे कि रास्ते में बाइकसवार बदमाशों ने उनके पास रखे 10 हजार रुपए लूटने की कोशिश में उनके साथ मारपीट की और हाथ की हथेली से नीचे का हिस्सा काट दिया। हादसे का पता चलने के बाद उनके कजिन ब्रदर ने उनके हाथ का कटा हुआ हिस्सा बर्फ के साथ एक हवा से भरे प्लास्टिक के बेग में सुरक्षित रख लिया। इसी वजह से सर्जरी में डॉक्टरों को इस कटे हिस्से को मरीज के हाथ के साथ दोबारा जोड़ने में सफलता मिली।

मलेरिया: प्रॉपर टेस्ट ट्रीटमेंट है जरूरी

प्रितेश का इलाज करने वाले सर्जन डॉ. अय्यप्पन थंगावेल ने बताया कि शाह का हाथ उनकी हथेली से पूरी तरह से अलग हो चुका था। जिस समय उन्हें हमारे पास लाया गया तबतक हादसा घटित हुए 15 घंटे बीत चुके थे। लेकिन उनके रिश्तेदार ने उनका हाथ का कटा हिस्सा हवा से भरे प्लास्टिक बैग में बर्फ के साथ सुरक्षित रख लिया था। प्रितेश की सर्जरी पर बात करते हुए उन्होंने कहा, हमने पहले कटे हुए अंग पर काम करते हुए नसों व नलिकाओं की पहचान की और दोबारा जोड़ने के लिए हड्डियों व नसों के किनारों की काट-छांट की। इसके बाद हमने हड्डियों, रक्तवाहिनियों, शिराओं और नसों को स्थापित किया और कुछ समय के लिए खून का प्रवाह शुरू किया। थंगावेल ने बताया कि प्रितेश का हाथ तीन महीनों में काम के लायक हो जाएगा और वह इससे पहले की तरह ही काम कर सकेंगे।

मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया का डॉक्टरों को निर्देश, कैपिटल लैटर में लिखे दवाई का पर्चा

नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, दुर्घटना के बाद अपने हाथ कैसे रखें सुरक्षित -

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Next Story
Top