Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अगर आप मैरिड लाइफ में कर रहे हैं ये गलती, तो आपका पार्टनर हो सकता है आपसे दूर

रिश्ता कोई भी हो, उपेक्षा करने से कमजोर ही होता है। यह बात पति-पत्नी के रिश्ते में और भी मायने रखती है। ऐसे में आप दोनों के बीच दूरी न बढ़े और रिश्ता प्रगाढ़ बना रहे, इसके लिए उपेक्षा के संकेतों को शुरू में ही पहचान कर उसे दूर करना बहुत जरूरी है।

अगर आप मैरिड लाइफ में कर रहे हैं ये गलती, तो आपका पार्टनर हो सकता है आपसे दूर
X

विवाह के बंधन में बंधने वाले एक-दूसरे को ताउम्र साथ रहने का वचन देते हैं। लेकिन कई बार शादी के कुछ सालों बाद ही ऐसी स्थिति पैदा हो जाती है, जब उनका दांपत्य जीवन मनमुटाव, तनाव से भर जाता है।

ऐसा अधिकतर इसलिए होता है, क्योंकि वे अक्सर एक-दूसरे की उपेक्षा करते हैं। लेकिन इस बात का अहसास उन्हें नहीं होता है। इस उपेक्षा के संकेत भी होते हैं। अगर समय रहते उन्हें जान लिया जाए तो दांपत्य जीवन की समस्याओं को हल किया जा सकता है।

मामूली बहस का बढ़ना

पति-पत्नी के बीच छोटी-मोटी बहस होना स्वाभाविक है। एक-दूसरे से असहमत होने पर भी इसको टालना चाहिए। लेकिन जब मामूली बात पर शुरू हुई बहस बड़े और गंभीर झगड़े का रूप ले ले तो समझें कहीं न कहीं समस्या जरूर है।

पार्टनर की जब छोटी गलती भी बड़ी लगने लगे, पहले थोड़ा सा बुरा लगने वाला व्यवहार बर्दाश्त से बाहर हो, बात-बात पर बहस हो तो यह रिश्ता कमजोर होने का संकेत हो सकता है।

प्यारी यादों को भूलना

संबंध विशेषज्ञों का मानना है कि अधिकतर खुशहाल दंपती अतीत की यादों को एक-दूसरे से साझा कर अपने संबंधों को मजबूत बनाते हैं। शादी के तुरंत बाद के दिनों या हनीमून की बातें, शादी की फोटो की एलबम के पन्ने पलटना, यह सब संबंधों को मजबूती देता है।

पति-पत्नी के बीच अगर ऐसी बातें नहीं होती हैं तो समझ जाना चाहिए कि दोनों की भावनाओं और स्वभाव में बहुत बदलाव आ चुका है, जो सही नहीं है।

कॉमन हॉबीज की कमी

पति-पत्नी, दोनों को एक-दूसरे को थोड़ा स्पेस देना चाहिए। जिससे दोनों की आजादी में एक-दूसरे को खलल पैदा न हो। इसके बावजूद दोनों की कोई कॉमन हॉबीज, रुचियां ऐसी होनी चाहिए, जिनका वे दोनों साथ मिलकर आनंद लें।

अगर पति-पत्नी एक-दूसरे के साथ कॉमन हॉबीज शेयर करने से बचने लगें, एक-दूसरे के साथ क्वालिटी टाइम न बिताना चाहें तो समझ जाना चाहिए कि रिश्तों में दूरियां बढ़ रही हैं।

दूसरों में दिलचस्पी लेना

शादी के बाद वक्त गुजरने के साथ घर-गृहस्थी की उलझनों में दोनों के संबंधों में नीरसता आने लगती है और उनमें एक-दूसरे के प्रति प्यार कम हो जाता है। संबंधों में उकताहट इस हद तक बढ़ जाती है कि दोनों को एक-दूसरे की बजाय फ्रेंड्स या रिलेटिव्स में दिलचस्पी लेना ज्यादा अच्छा लगने लगता है।

अपनी प्रॉब्लम्स को एक-दूसरे से डिस्कस करने के बजाय फ्रेंड्स से शेयर करने लगते हैं और इस तरह उनके विवाहित जीवन में दरार पड़ने लगती है।

रखें ध्यान

अगर ऊपर बताए गए संकेतों को आप अपने वैवाहिक जीवन में देख रही हैं तो आप और आपके पार्टनर दोनों के लिए जरूरी है कि संबंधों की उपेक्षा को तुरंत बंद किया जाए और प्यार से रिश्ते को संवारा जाए। इसके लिए कुछ उपायों पर अमल करें :

1.दांपत्य के रिश्ते में बार-बार नई ऊर्जा का संचार होना जरूरी है। इसके लिए एक-दूसरे को खुश रखने के लिए नए-नए तरीके खोजते रहें।

2.यह जरूरी नहीं कि किसी महंगे होटल या रेस्टोरेंट में साथ खाना खाने से ही प्यार बढ़ता है। कभी-कभी घर के आस-पास या किसी पार्क में साथ टहलना, एक-दूसरे से बातचीत करना, ये बातें भी संबंधों में नई जान डालती हैं।

3. एक-दूसरे से रोज कुछ देर जरूर बात करें। घर के लॉन में सुबह की चाय या कॉफी साथ पिएं। रात का खाना एक साथ खाएं और दोनों का दिन कैसा गुजरा, जरूर शेयर करें। हर समय काम में बिजी रहने की बजाय एक-दूसरे से बात करने के बहाने ढूंढ़ें।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story