logo
Breaking

दिवाली 2017: बिंदास पटाखे फोड़ें बच्चे, ऐसे दूर होगा डर

दीवाली में बच्चे पटाखा जलाने या उसकी आवाज से डरते हैं, उनका यह डर दूर करना जरूरी है।

दिवाली 2017: बिंदास पटाखे फोड़ें बच्चे, ऐसे दूर होगा डर

ज्यादातर बच्चे दीवाली में पटाखा जलाने या उसकी आवाज से डरते हैं। ऐसे में बच्चों का यह डर खत्म करना बहुत जरूरी है, क्योंकि डाक्टरों के मुताबिक बच्चों के छोटे-छोटे डर को बड़ा बनते देर नहीं लगती।

कई बार ऐसा देखा गया है कि पटाखा जलाते समय बच्चों के साथ कोई हादसा हो जाता है, तो दिमाग में डर बैठ जाता है। वह यह सोचते हैं कि अगर वह दुबारा पटाखा जलाने जाएंगे तो कहीं फिर से वैसा ही या कोई दूसरा हादसा न हो जाए।

यह भी पढ़ें: दिवाली 2017: भूलकर भी गिफ्ट न करें ये चीज, खत्म हो जाएगा रिश्ता

क्यों जरूरी है डर निकालना

आप सोच रहे होंगे कि पटाखे तो बच्चों के लिए हानिकारक होते हैं, फिर इससे जुड़े डर को निकालने की क्या जरूरत है? लेकिन ऐसा नहीं है, कई बार ऐसा होता है कि बच्चे का छोटा डर किसी बड़े डर का कारण बन जाता है। हो सकता है कि आपका बच्चा पटाखे से नहीं बल्कि आग से डरता हो और ये भी हो सकता है कि आपका बच्चा सिर्फ पटाखे की आवाज से नहीं बल्कि तेज आवाज से डरता हो। इसलिए अपने बच्चे के डर को पहचानकर जल्द दूर करें। जानिए बच्चों से पटाखे का डर निकालने के लिए क्या करें।

रहें हमेशा साथ

अगर आपका बच्चा पटाखा या पटाखे की आवाज से डरता है, तो हमेशा उसके साथ रहें। बेशक आप बच्चों की पहुंच से पटाखों को दूर रखें। लेकिन उनका डर निकालने के लिए आप खुद उनके साथ जाएं और पटाखा छुड़वाएं।

हल्की आवाज वाले लाएं पटाखे

बच्चों का डर दूर करने के लिए जब भी उन्हें पटाखा छुड़वाएं तो हल्की आवाज वाले ज्यादा खतरनाक पटाखे न लें। इससे आपका बच्चे को पटाखे छुड़ाने में कॉन्फिडेंस आएगा और उसका डर दूर होगा।

यह भी पढ़ें: दिवाली स्पेशल रेसिपी: मिनटों में ऐसे बनाएं कुकीज

बरतें सावधानी

बच्चों का डर निकालने के लिए आप जब भी बच्चे से पटाखे छुड़वाएं तो उनका मुंह थोड़ा पीछे ही रखें। इससे वह पटाखा छुड़ाने का यही तरीका आगे भी अपनाएगा।

बच्चों को करें मोटीवेट

हर बार बच्चे के पटाखे छुड़ाने के बाद उसे मोटीवेट करें। बच्चे से कहें कि 'हां, तुम ये कर सकते हो', 'इससे तुम्हें कुछ नहीं होगा', आपका ऐसा कहना बच्चे में आत्मविश्वास बढ़ाएगा।

Share it
Top