logo
Breaking

बच्चों को खिलाएं ये फूड्स, मूड रहेगा फ्रेश और दिमाग होगा तेज

राइट डाइट से न सिर्फ बच्चे की फिजिकल हेल्थ अच्छी रहती है, मेंटल हेल्थ पर भी पॉजिटिव इफेक्ट पड़ता है। जिससे उसका ब्रेन ज्यादा एक्टिव रहता है और वह पढ़ाई पर अच्छी तरह फोकस कर पाता है। बच्चा अपनी स्टडी पर तभी फोकस कर सकता है, जब फिजिकली ही नहीं मेंटली भी हेल्दी होगा।

बच्चों को खिलाएं ये फूड्स, मूड रहेगा फ्रेश और दिमाग होगा तेज

राइट डाइट से न सिर्फ बच्चे की फिजिकल हेल्थ अच्छी रहती है, मेंटल हेल्थ पर भी पॉजिटिव इफेक्ट पड़ता है। जिससे उसका ब्रेन ज्यादा एक्टिव रहता है और वह पढ़ाई पर अच्छी तरह फोकस कर पाता है। कैसी होनी चाहिए बच्चे की डाइट, इस बारे में डायटीशियन डॉ. शीला सहरावत पूरी जानकारी दे रही हैं।

बच्चा अपनी स्टडी पर तभी फोकस कर सकता है, जब फिजिकली ही नहीं मेंटली भी हेल्दी होगा। इसके लिए जरूरी है कि उनकी लाइफस्टाइल के साथ डाइट पर भी ध्यान दिया जाए।

दरअसल, पढ़ने वाले बच्चे किस समय पर क्या खाते हैं, उनका लाइफस्टाइल कैसा है, उसका सीधा असर, उनकी एकाग्रता, मेमोरी पर नजर आता है। साथ ही तनाव और नींद की कमी से बचने के लिए भी बच्चों को पौष्टिक तत्वों की जरूरत होती है।

क्या खिलाएं

  • दिमाग को काम करते रहने के लिए ग्लूकोज की जरूरत होती है और हमे यह ग्लूकोज फल, सब्जियां और अनाज से कार्बोहाइड्रेट्स के रूप में मिलता है, जिन खाद्य-पदार्थों में आयरन और जिंक की मात्रा अधिक होती है, उससे हमारी एकाग्रता और मेमोरी बेहतर होती है। इसलिए बच्चों को फल और सब्जियां पर्याप्त मात्रा में दें।
  • रेड मीट, मछली, सीफूड, ब्राउन राइस, ग्रेन ब्रेड और होलग्रेन उन्हें खाने को दें।

यह भी पढ़ें: पानी में मिलाकर पिएं ये चीजें, नहीं होगी कभी कोई बीमारी

  • लेग्यूम्स, यीस्ट स्प्रेड, वीट जर्म कुछ ऐसे अनाज होते हैं, जिनमे विटामिन बी और मिनरल्स की भरपूर मात्रा होती है, जिससे दिमाग और नर्वस सिस्टम पूरी तरह काम करता है।
  • बच्चा अगर नॉन-वेजीटेरियन है, तो आप उन्हें प्रॉन्स दे सकती हैं। इनमें ओमेगा 3 फैटी एसिड्स की सबसे ज्यादा मात्रा होती है।
  • इस एसिड से हमारे दिमाग का फंक्शन ठीक रहता है, हमारी मेमोरी बेहतर होती है, एकाग्रता भी बढ़ती है। इसको ब्रेन फूड की तरह भी जाना जाता है।
  • कोको, तनाव के हॉर्मोन कोर्टिसोल से लड़ने में मदद करता है। इसका असर शरीर पर बहुत रिलैक्सिंग होता है।
  • साथ ही चॉकलेट शरीर में एंडोर्फिंस भी रिलीज करते हैं और यह भी तनाव को कम करता है। इसलिए मेंटली रिफ्रेशमेंट के लिए कोको अपने बच्चे को दे सकती हैं।

रखें ध्यान

  • जितना जरूरी बच्चों को सही आहार देना है, उतना ही जरूरी है कि उनमें कम मात्रा में बार-बार खाना खाने की आदत डाली जाए।
  • इससे दिमाग को सही मात्रा में एनर्जी मिलती रहती है।
  • होल ग्रेन्स और प्रोटीन से भरा नाश्ता, बच्चे की सेहत के लिए सबसे अच्छा होता है क्योकि बच्चों को पढ़ाई के लिए हमेशा एनर्जेटिक बने रहना होता है।
  • हाई फैट और हाई शुगर वाले स्नैक्स से बच्चों को दूर रखना चाहिए। इससे शुगर लेवल सामान्य बना रहता है।
  • जब शरीर में पानी की कमी होती है, तो चिड़चिड़ा, थका-थका महसूस होने लगता है और किसी चीज पर ध्यान केंद्रित नहीं हो पाता है।
  • इसलिए यह बहुत जरूरी है कि बच्चे का पर्याप्त मात्रा में पानी पीने की आदत डालें। दिन भर में दो लीटर पानी बच्चा जरूरी पिए।
Share it
Top