logo
Breaking

ये हैं डेंगू और चिकनगुनियां के लक्षण और बचाव

तेज बुखार होना इन दोनों बीमारियों का सबसे पहला लक्षण है।

ये हैं डेंगू और चिकनगुनियां के लक्षण और बचाव
नई दिल्ली. आजकल देश के कई हिस्सों में लोग डेंगू और चिकनगुनियां जैसी खतरनाक बीमारी के शिकार हो रहे हैं। हर मानसून में इन दोनों बीमारी से प्रभावित लोगों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। बता दें कि ये एक वायरल बीमारी है जो मच्छरों से उत्पन्न होती है और ये दोनों बीमारी के लक्षण लगभग समान होते हैं। इन बीमारियों से छुटकारा पाने के लिए सरकार द्वारा कई कार्य किए जा रहे हैं उसके बावजूद इसकी संख्या में कमी नहीं आई है। इसलिए आपको डेंगू और चिकनगुनिया के कुछ ऐसे महत्वपूर्ण लक्षण और इससे बचने के उपाय बता रहे हैं जिससे आप खुद को इस संक्रमित बीमारी से बचा सकते हैं।
डेंगू के लक्षण
डेंगू का कहर बहुत तेजी से फैल रहा है। इस जानलेवा बीमारी से बचना लोगों के लिए बहुत जरुरी हो गया है। बता दें कि डेंगू में बुखार के लक्षण दूसरी बीमारी से जरा अलग है। इसका सबसे पहला लक्षण यह है कि इसमें बुखार बहुत तेज होता है और लोगों को इस बुखार के साथ कमजोरी भी हो जाती है। बुखार के लक्षण के साथ-साथ सरदर्द होना, बदन दर्द और आंखों में भी दर्द होता है। इसमें खासकर जोड़ों में दर्द होता है। कई लोगों को त्वचा पर रैशेज भी हो जाते हैं। इसमें कुछ बातों पर विशेष ध्यान देना चाहिए जैसे नाक से खून आना, बार-बार उल्टी, पेटदर्द, मसूड़ों से खून, चिड़चिड़ापन, सांस लेने में परेशानी अगर आपको इस तरह की परेशानी है तो तुरंत डॉक्टर से कंसल्ट कीजिए।
चिकनगुनियां के लक्षण
डेंगू और चिकनगुनियां के लक्षण लगभग समान है। यह बीमारी भी तेज बुखार के साथ शुरू होती है। इसमें भी ठीक डेंगू के समान जोड़ों में दर्द, शरीर में सूजन, मांसपेशियों में दर्द, सिर दर्द होना होता है।
क्या करें
1. मच्छरदानी का प्रयोग करें और लंबी आस्तीन के कपड़े पहने।
2. अपने वातावरण को साफ रखें, और नियमित रूप से कचरे की सफाई करें।
3. हर खाली बर्तनों को पलटकर रखें।
4.घर के दरवाजों और खिड़कियों पर जालियां लगवाए जिससे कि मच्छर प्रवेश न कर सके।
5. मच्छरों को दूर रखने का एक सबसे अच्छा उपाय है अपने घर की खिड़किओं के पास तुलसी के पौधे लगाना। यह ऐसा पौधा है जो मच्छर को पनपने से रोकते हैं।
6. मच्छर को दूर भगाने के लिए बेहतर होगा कि आप बीच-बीच में कमरे में कपूर का इस्तेमाल करें। और 15 से 20 मिनट तक कमरे को बंद रखें।
क्या ना करें-
1. अगर आप कूलर का उपयाग करते हैं या घर में ऐसी कोई चीज है जिसमें पानी जमा होता है तो आपको यह ध्यान रखना होगा कि आप उस कंटेनर को में पानी की सफाई करते रहें। एक जगह पर पानी का जमा होना मच्छरों को पैदा करता है।
2. अगर आप मच्छर से बचने के लिए किसी दवाई का उपयोग कर रहे हैं, तो उन्हें दो महीने से कम उम्र के बच्चों पर प्रयोग न करें। दो महीने से बड़े बच्चों के लिए 10% डीट (मच्छरों को भगाने की दवाई) का इस्तेमाल करें।
3. मच्छरों को भगाने वाली दवाई को से अपने आंखों को बचा कर रखें। इन दवाईयों से हमेशा शिशुओं और गर्भवती महिलाओं पर प्रयोग करने से पहले उसमें दिए हुए निर्देश जरुर पढ़ें।
4. अगर आपको फिट कपड़े पहनना पसंद है तो जितना हो सके इसे अवॉइड करें। क्योकि इस तरह के कपड़ें पहनने से मच्छरों का काटना आसान हो जाता है।
5. मच्छर अधिकतर गहरे रंग की तरफ ज्यादा आकर्षित होते हैं इसलिए डार्क कलर के कपड़ें न पहने।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Share it
Top