Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

एक बार हो गया चिकनगुनिया, तो फिर नही होगा कभी

पीड़ित के शरीर में ऐंटिबॉडी बन जाता है और इसी वजह से दोबारा चिकनगुनिया की शिकायत नही होती है।

एक बार हो गया चिकनगुनिया, तो फिर नही होगा कभी
नई दिल्ली. चिकनगुनिया बीमारी की लहर जिस तरह से फैल रही है उससे लोग बेहद डरे हुए हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि एक बार चिकनगुनिया की चपेट में आने के बाद ये बीमारी आपको दोबारा नहीं हो सकती। जी हां- हाल ही में एम्स के डॉक्टरों ने बताया कि अगर कोई व्यक्ति इस बीमारी से पीड़ित है तो उसके शरीर में ऐंटिबॉडी बन जाता है और इसी वजह से दोबारा चिकनगुनिया की शिकायत नही होती है।
एम्स के डॉक्टरों का कहना है कि ऐंटिबॉडी की वजह से चिकनगुनिया वायरस आप तक दोबारा नहीं पहुंच पाता है और जिंदगी भर दोबारा चिकनगुनिया नहीं होता है। यही बात डेंगू पर भी लागू होती है, चूंकि डेंगू के चार टाइप होते हैं इसलिए अगर आपको किसी एक टाइप का डेंगू वायरस है तो दूसरे टाइप का वायरस आसानी से आप अटैक कर सकता है। डॉक्ट ललित धर का कहना है कि जो लोग इस तरह की बीमारी से पीड़ित होते हैं उनका इम्यून सिस्टम उतना मजबूत नही रह जाता इसलिए ये वायरस दोबारा अटैक कर जाता है। चूंकि चिकनगुनिया का स्ट्रेन सिंगल होता है इसलिए इसका वायरस दोबारा अटैक नही कर पाता है।
गौरतलब है कि चिकनगुनिया वायरस के स्ट्रेन में बदलाव का पता लगाने के लिए जांच की जा रही है, लेकिन फिलहाल इसमें कोई भी अंतर नजर नही आया है। डॉक्टर्स का कहना है कि अभी बाकी रिपोर्ट आने में काफी वक्त है। रिसर्च के काम में थोड़ा वक्त लगता है और चिकनगुनिया जैसी गंभीर बीमारी के वायरस का रिसर्च हम हड़बड़ी में नही करना चाहते।
रिपोर्ट के मुताबिक, एम्स में तकरीबन 3,500 रोगियों की जांच की गई जिसमें लगबग 2000 मरीजों में ही चिकनगुनिया के वायरस पाए गए है। डॉक्टर्स ने बताया कि यह वायरस नए लोगों के बाहर से आने की वजह से फैला है। करीब दस साल के बाद यह खतरनाक वायरस इस तरह से एक्टिव हुआ है। डॉक्टर्स का दावा है कि कि अगर एक बार चिकनगुनिया वायरस अटैक किया तो यह यह दोबारा अटैक नही करेगा।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top