logo
Breaking

Cancer Awareness Month: इस वजह से हो जाता है ''ब्रेस्ट कैंसर''

ब्रेस्ट के आसपास गांठ हो जाना ब्रेस्ट कैंसर की पहली पहचान है।

Cancer Awareness Month: इस वजह से हो जाता है
नई दिल्ली. बहुत से लोग ऐसे हैं जो कई भयानक बीमारी से पीड़ित हैं, लेकिन उस बीमारी से संबंधित बातों के प्रति जागरूक नहीं हैं। अक्टूबर महीना शुरू हो चुका है, और इस पूरे माह को ब्रेस्ट कैंसर (स्तन कैंसर) अवेयरनेस के रूप में नामित किया गया है, जिससे लोगों को इस खतरनाक बीमारी के लिए जागरूक किया जा सके। आज भी भारत जैसे देश में ब्रेस्ट कैंसर पीड़ितों की संख्या एक बड़े पैमाने में है। दरअसल, इसकी वजह लोगों में जागरूकता की कमी बताई गई है। हालांकि कैंसर जैसी बीमारी से अमेरिका, चीन और भारत जूझ रहा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन(WHO) के अनुसार, साल 2012 में भारत में करीब 1 लाख 50 हजार से अधिक महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर पाया गया और लगभग 70 हजार महिलाओं की मृत्यू हो गई।
आज के समय में ब्रेस्ट कैंसर किसी भी उम्र में महिलाओं को हो सकता है। कई मामले ऐसे होते हैं जिसमें इस कैंसर के बारे में पता भी नहीं चल पाता है, और आप इस बीमारी के बेहद करीब पहुंच जाते हैं। कैंसर पूरी दुनिया में एक खतरा बन गया है, इसलिए इस बीमारी से सतर्क रहने के लिए इन बातों को जान लेना बेहद जरूरी है ये बातें न सिर्फ महिलाओं के लिए बल्कि पुरुषों के कैंसर का भी पता लगाया जा सकता है। ब्रेस्ट कैंसर अवेयरनेस के मौके पर आइए जानते हैं क्या है ब्रेस्ट कैंसर और इसके कारण....
जानिए क्या है ब्रेस्ट कैंसर?
ब्रेस्ट कैंसर अक्सर ब्रेस्ट टिश्यू के कारण होता है। लगभग 8 में से एक महिला में स्तन कैंसर पाया गया है। ब्रेस्ट कैंसर की पहली पहचान ये है कि इसमें स्तन के आसपास गांठ हो जाती है। ये कैंसर शरीर के खराब टिश्यू जो कि एक महीन कागज की तरह होती है। जब शरीर के कोशिकाओं के इसकी मात्रा बढ़ जाती है तब यह बीमारी पैदा होती है। ये एक ऐसी बीमारी होती है जो शरीर के अन्य हिस्सों तक भी पहुंच सकता है जिसकी वजह से अलग-अलग अंगों में कैंसर पैदा हो जाता है। इसलिए आपके लिए यह जानना जरूरी है कि अपने स्तन में जरा भी बदलाव देखें तो डॉक्टर से जरूर संपर्क करें। ऐसा इसलिए क्योकि कैंसर के बारे में जितना जल्दी पता चलेगा उतनी जल्दी इससे छुटकारा भी मिलेगा।
ब्रेस्ट कैंसर का इलाज ऑपरेशन होता है जिसमें ट्यूमर को निकाल लिया जाता है, लेकिन कई ऐसे बड़े केस होते हैं जिसमें पूरा स्तन ही निकालना पड़ जाता है। सिर्फ महिलाओं में ही स्तन कैंसर की बीमारी नहीं होती है बल्कि पुरुषों में भी यह समस्या देखी जाती है, इसलिए अगर पुरुष अपने स्तन में कुछ बदलाव महसूस करें तो चेकअप जरूर करा लें।
ऐसे होता है ब्रेस्ट कैंसर-
- भारत में ब्रेस्ट कैंसर अब अधिक से अधिक युवा मरीजों में देखी जा रही है। 2007 से 2011 के HBCR के आंकड़ों के मुताबिक, ज्यादातर शहरों के 25 से 50 वर्ष के आयु के करीब 50% लोग ऐसे हैं जिनमें स्तन कैंसर पाया गया है।
- स्तन कैंसर आनुवंशिक रूप से भी हो सकता है। महिलाओं को बीआरसीए 1 और बीआरसीए 2 जीन के बढ़ते स्तन कैंसर का काफी अधिक खतरा है।
- अगर ब्रेस्ट में छोटा सा भी गांठ हुआ है तो वह आगे चलकर कैंसर का रूप ले सकता है।
- महिलाओं के स्तन में खराब ऊतकों की संख्या में वृद्धि हो जाने से भी स्तन कैंसर हो जाता है।
- अधिकांश महिलाओं में स्तन कैंसर एस्ट्रोजन हार्मोन की वजह से होता है, जो 12 साल की उम्र से पहले या 55 से ऊपर के बाद प्रवेश करता है।
- मोटापा भी स्तन कैंसर का प्रमुख कारक हो सकता है।
- जो महिलाएं नियमित रूप से शराब का सेवन करती हैं उनमें स्तन कैंसर अधिक पाया जाता है।
- अगर आप एक्स-रे और सीटी स्कैन के दौर से गुजर रहे हैं तो इससे भी स्तन कैंसर होने की संभावना होती है इसकी वजह आपका विभिन्न किरणों के संपर्क में होना।
- हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी (एचआरटी) ब्रेस्ट कैंसर को बढ़ावा देने का एक महत्वपूर्ण कारण हो सकता है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Share it
Top