Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दि‍ल से काला नहीं ये टमाटर, जानि‍ए इसके उजले राज

कई रोगों से लड़ने में कारगर हथि‍यार बना काला टमाटर

दि‍ल से काला नहीं ये टमाटर, जानि‍ए इसके उजले राज
X
क्‍या आपने काले टमाटर के बारे में कभी सुना है। अपने आप में ही एक्‍सक्‍लूसि‍व लुक रखने वाला यह टमाटर अपने काले रंग की वजह से बदनाम नहीं, बल्‍कि‍ लोग इसे हाथों हाथ लेते हैं। अंग्रेजी में इसे इंडि‍गो रोज़ टोमेटो कहा जाता है। इसकी सबसे बड़ी खासि‍यत यह है कि इसे कैंसर के इलाज में भी प्रयोग कि‍या जाता है। इसके अलावा भी यह टमाटर कई बीमारि‍यों से लड़ने में कारगर है। आइए जानते हैं काले टमाटर के उजले पहलू..

वैज्ञानिकों की राय

इस टमाटर की खास बात यह है कि यह नए टमाटर के फल के रूप में शुरू होता है, लेकिन एक जेट काले रंग के में बदल जाता है। इस साल लंदन में पहली बार के लिए इसे बिक्री के लि‍ए जारी कि‍या गया। सबसे पहले 'इंडिगो रोज़ रेड और बैंगनी टमाटर के बीजों को आपस में मि‍लाकर एक नया बीज तैयार कि‍या गया, जि‍ससे ये हाइब्रि‍ड टमाटर पैदा हुआ। यूरोप के मार्केट में इसे सुपरफूड भी कहा जाता है। इसके बीज ऑनलाइन भी मौजूद हैं और भारत में बागवानी के कई शौकीनों ने इस काले टमाटर को अपने घर की बगि‍या में जगह दी है।
बीमारी से लड़ने में सहायक
आपको बता दें ऐसा पहली हुआ है कि कोई टमाटर स्किन के लिए अच्छा माना जा रहा है। वैज्ञानि‍क अध्ययन में पाया गया है कि यह कई बीमारियों से लड़ने में कारगर साबित है, जैसे- कैंसर, मधुमेह, कोलेस्ट्रॉल आदि। साथ ही यह आंखों की रोशनी बढ़ाने में भी काफी अच्छा है। जिगर की रक्षा, रक्तचाप के स्तर को कम करने में भी इस काले टमाटर का विशेष योगदान है।
खाने में स्वाद

इसे पकाकर खाया जा सकता है। पकाने का तरीका यह है कि जब यह पानी में पूरी तरह से उबल जाए और इसका गूदा अलग हो जाए तो इसे खाया जा सकता है। इसके अलावा इसकी ग्रेवी भी बनाई जा सकती है। कच्‍चा टमाटर खाने में न ज्यादा खट्टा है न ज्यादा मीठा, इसका स्वाद नमकीन जैसा है।

नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, खबर से जुड़ी अन्य जानकारी -

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story