Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

ऐसा क्यों माना जाता है एक बिहारी दोस्त का होना है जरूरी

अलग-अलग राज्यों से आए लोग एक ग्रुप में मिल जाएं तो दोस्ती का रंग और भी खिल जाता है।

ऐसा क्यों माना जाता है एक बिहारी दोस्त का होना है जरूरी
X
नई दिल्ली. जीवन में हमारे दोस्तों का होना बहुत जरूरी होता है। जिनसे हम अपनी हर बात शेयर कर सकते है। जिंदगी में दोस्तों की एक अलग ही जगह होती है। स्कूल हो या कॉलेज, दोस्तों में एक खास दोस्त होता जिसे हम अपने मन की बात बता सकते है। जो यार-दोस्त बनते हैं, वे जिंदगी भर साथ रहें या नहीं, लेकिन उनके साथ बिताया वक्त जिंदगी भर याद रहता है।

फिरकी डॉट इन के अनुसार अलग-अलग राज्यों से आए लोग एक ग्रुप में मिल जाएं तो दोस्ती का रंग और भी खिल जाता है। पंजाब, गुजरात, बिहार, राजस्थान जैसी जगहों से आपके ग्रुप में कोई न हो तो आपका ग्रुप पूरा ही नहीं होता। आज हम आपको बताएंगे बिहारी दोस्त होने के फायदे होते हैं।
मैं नहीं हम
इनके लिए अपने लिए कभी ‘मैं’ नहीं होता, हमेशा ‘हम’ होता है। ये कहीं जाने लिए हमेशा कहेंगे ‘हम वहां जाएगा।’इनके बात करने का अलग अंदाज होता है।
भोजपुरी जोक्स और गाने समझा देंगे
जो भोजपुरी जोक्स हम भी नहीं समझ पाते ये उनका मतलब हमें समझा देते हैं। लेकिन इससे भी बड़ी बात है कि ये उन भोजपुरी गानों का मतलब समझा देते हैं, जिन पर हम मदमस्त होकर डांस करते हैं।

आप हमेशा ‘अपडेट’ रहेंगे
हमारे बिहारी दोस्तों को रोजाना अखबार पढ़ने की आदत होती है। और पॉलीटिक्स की खबरें इनसे छूट जाएं यह भला कैसे हो सकता है। नतीजा यह कि वे आपको हमेशा ‘अपडेट’ रखेंगे।
ये कभी निराश नहीं होते
बिहारी शायद इस धरती के सबसे ज्यादा मेहनती लोग होते हैं। चाहे वो आइएएस हों, आइआइटी के बैकग्राउंड से हों या आइआइएम। आपको बड़ी संख्या में बिहारी मिलेंगे। हताश होने पर इनसे ज्यादा प्रोत्साहन कोई और नहीं देता।
इनके ‘जुगाड़’ तैयार होते हैं
बिहारी दोस्तों के चाचा, मौसा, ताऊ, फूफा, बुआ, दीदी में से एक हर क्षेत्र में मौजूद होते हैं। बिहारी दोस्त मदद के लिए तैयार रहते हैं। इनके जुगाड़ हमेशा मदद करते हैं।
शांत स्वभाव वाले
बिहारी फ्रैंड्स का मजाक ग्रुप में सबसे ज्यादा बनता है। मगर ये मुस्कुराने के सिवा कुछ नहीं बोलते। ये वैसे काफी ‘कूल’ होते हैं।
इनकी नॉलेज का तोड़ नहीं
आपके बिहारी दोस्त भले सीधे-सादे से दिखें, मगर इन्हें हिस्ट्री की डेट्स तक याद रहती हैं। इन्हें वो बातें भी पता होती, जो हमने कभी सुनी भी नहीं होतीं।
इनका सपना अफसर बनना
हम लोग डॉक्टर इंजीनियर, क्रिकेटर बनने का ही सोचते हैं। लेकिन आपके इन दोस्तों की सोच ही आईपीएस अधिकारी से शुरू होती है। चाहे जितना भी वक्त लगे, ये अफसर ही बनेंगे।

सोच-समझ कर फैसला लेना
बिहारी दोस्त आगे का सोचकर नतीजों के आधार पर फैसला करते हैं। हम फैसला लेने से पहले ज्यादा नहीं सोचते, मगर ये कब, क्या, कैसे, कहां, किधर सब सोच कर ही फैसला लेतें हैं।
आगे की स्लाइड्स में पढ़िए, पूरी ख़बर -

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलोकरें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story