Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

बच्चे को ना दें ज्यादा एंटीबायोटिक, बच्चे मोटापे का हो सकते है शिकार

एंटीबायोटिक दवाएं हानिकारक बैक्टीरिया को तो मारती हैं, लेकिन साथ ही यह हमारे जठर तंत्र को भी नुकसान पहुंचाती हैं।

बच्चे को ना दें ज्यादा एंटीबायोटिक, बच्चे मोटापे का हो सकते है शिकार
वॉशिंगटन. बचपन में ज्यादा एंटीबायोटिक दवाओं का सेवन बच्चों को मोटापे का शिकार बना सकता है। एक नए अध्ययन में चेतावनी दी गई है कि ज्यादा एंटीबायोटिक लेने वाले बच्चे अपने हम उम्र बच्चों के मुकाबले ज्यादा तेजी से मोटे होते हैं। एंटीबायोटिक दवाएं बचपन में बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) पर प्रभाव डालता है और इनके प्रभाव से बच्चे का बीएमआई हमेशा बदलता रहता है।
प्रोफेसर ब्रेन एस स्केवाट्र्ज के अनुसार, अध्ययन के दौरान हमने पाया कि बच्चों को हर बार दी जाने वाली एंटीबायोटिक दवा उनके शरीर का वजन बढ़ाती हैं। स्केवाट्र्ज और उनकी टीम ने अध्ययन के लिए जनवरी 2001 से फरवरी 2012 तक तीन साल से 18 साल के 1,63, 820 बच्चों के स्वास्थ्य रिकॉर्ड का अध्ययन किया। अध्ययन के दौरान शोधकर्ताओं ने बच्चों की लंबाई, वजन और पहले ली गई एंटीबॉयोटिक दवाओं की जांच की। उन्होंने देखा कि जिन बच्चों ने बचपन में सात से ज्यादा बार एंटीबायोटिक दवाओं का सेवन किया, 15 साल की उम्र में उनका वजन दवाएं न लेने वाले बच्चों से करीब डेढ़ किलो तक ज्यादा था।
जठरतंत्र पर हानिकारक-
अध्ययन के अनुसार, एंटीबायोटिक दवाएं हानिकारक बैक्टीरिया को तो मारती हैं, लेकिन साथ ही यह हमारे जठर तंत्र को भी नुकसान पहुंचाती हैं। दरअसल, एंटीबायोटिक दवाएं जठर तंत्र के लिए जरूरी सूक्ष्मजीवों को भी बदल देती है, जिससे खाना सही तरह से शरीर में टूटता नहीं और खाने में कैलोरी की मात्रा बढ़ जाती है, जिससे शरीर का वजन बढ़ाने लगता है।
Next Story
Top