logo
Breaking

घबराहट और चिंता बढ़ा सकती है दमा की बीमारीः अध्ययन

जिन लोगों को अधिक चिंता करने की आदत थी, उनमें अध्ययन के दौरान दमा के लक्षण अधिक पाए गए।

घबराहट और चिंता बढ़ा सकती है दमा की बीमारीः अध्ययन
वाशिंगटन. घबराहट होने से और चिंता से दमा बढ़ जाता है। जिससे फेफड़े के काम करने की क्षमता में भी कमी आ सकती है।
एक नए अध्ययन से पता चला है कि घबराहट, व्यग्रता को कम करने के मकसद से किए गए उपचार से दमा के मरीज फेफड़े की बीमारी से बेहतर तरीके से निपट सकते हैं।
जिन लोगों को घबराहट, चिंता करने की आदत के साथ दमा भी है उन लोगों के लिए यह बीमारी कहीं अधिक कमजोर कर देने वाली और खतरनाक हो सकती है। ऐसे लोगों को दमा को नियंत्रित करने में कठिनाई होती है। अध्ययन में इस मुद्दे पर गहराई से प्रकाश डाला गया है और दमा के लक्षणों को कम करने में मदद करने वाले उपचार बताए गए हैं।
समाचार हिंदी के मुताबिक अमेरिका में यूनिवर्सिटी ऑफ सिनसिनाटी के शोधकर्ताओं ने कॉलेज के 101 ऐसे छात्रों पर अध्ययन किया जिनके बारे में दमा होने की सूचना थी। शोधकर्ताओं ने कहा जैसी उम्मीद थी वैसा ही हुआ, जिन लोगों को अधिक चिंता करने की आदत थी, उनमें अध्ययन के दौरान दमा के लक्षण अधिक पाए गए और उनके फेफड़ों की कार्यक्षमता में कमी पाई गई।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलोकरें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Share it
Top