Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

हवा में घुलता धुएं का जहर किडनी के लिए बड़ा खतरा

ग्लोबल वार्मिंग से जूझ रही दुनिया का मुख्य कारण शहरों में और आसमान में बढ़ता वायु प्रदूषण है।

हवा में घुलता धुएं का जहर किडनी के लिए बड़ा खतरा
बीजिंग. शहर में बढ़ता वायु प्रदूषण कई बीमारियों को जन्म दे रहा है। सिर्फ बीमारियां ही नहीं, देखा जाए तो विश्व के लिए भी एक समस्या बन गया है। ग्लोबल वार्मिंग से जूझ रही दुनिया का मुख्य कारण शहरों में और आसमान में बढ़ता वायु प्रदूषण है। ऐसा नहीं है कि इसे कंट्रोल करने के लिए कुछ नहीं किया जा रहा। लेकिन वायु प्रदूषण है कि कम होने की जगह बढ़ता ही जा रहा है, जो बच्चों से लेकर बड़ों तक के लिए समस्या बन गया है।
वायु प्रदूषण, जो पिछले कुछ वर्षों में खतरनाक स्तर पर पहुंच गया है। जहां एक ओर लोगों को अस्थमा, सांस लेने में दिक्कत आदि जैसी समस्या हो रही हैं, वहीं यह किडनी रोग का कारण भी बन सकता है। एक नए अध्ययन में इसका खुलासा हुआ है। शोध के दौरान अध्ययनकर्ताओं ने देखा कि वायु प्रदूषण से झिल्लीदार नेफ्रोपैथी (किडनी रोग) के विकास की संभावना में वृद्धि हुई, जो किडनी की विफलता का प्रमुख कारण है।
लंबी अवधि तक कणिका तत्व (पीएम 2.5) का आवरण झिल्लीदार नेफ्रोपैथी के जोखिम से जुड़ा हुआ है। कणिका तत्व को कण प्रदूषण भी कहा जाता है जो हवा में पाए जाने वाले ठोस कणों और तरल बूंदों के मिश्रण के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला शब्द है।
पिछले अध्ययनों से पता चला है कि वायु प्रदूषण का अत्यधिक आवरणक श्वसन और हृदय रोगों को बढ़ा सकता है।
द स्टेट्समैन की रिपोर्ट के मुताबिक इस शोध के लिए अध्ययनकर्ताओं के एक समूह ने 11 वर्षों में चीन के 282 शहरों से 938 अस्पतालों के 71,151 रोगियों की किडनी बायोप्सी के आंकड़ों का विश्लेषण किया था। इस आकलन में चीन के सभी आयु वर्ग के लोग शामिल थे। महीन कणों युक्त वायु प्रदूषण के उच्च स्तर वाले क्षेत्रों में झिल्लीदार नेफ्रोपैथी की दर सबसे अधिक देखी गई।
चीन की साउथर्न मेडिकल यूनिवर्सिटी से इस अध्ययन के मुख्य लेखक फैन फैन हाऊ ने बताया, "हमारा प्राथमिक निष्कर्ष यह रहा कि चीन में पिछले एक दशक में झिल्लीदार नेफ्रोपैथी की आवृत्ति दोगुनी हो गई है। हम जानते हैं कि यह वृद्धि वायु प्रदूषण में कणिका तत्व के साथ जुड़ी हुई है।"
शोधकर्ताओं ने निष्कर्ष निकाला कि इस शोध को 'जर्नल ऑफ द अमेरिकन सोसाइटी ऑफ नेफ्रोलॉजी' (जेएएसएन) पत्रिका के आगामी अंक में प्रकाशित किया जाएगा जो शहरी क्षेत्रों में गुर्दे की बीमारी के विकास में वायु प्रदूषण की भूमिका पर ध्यान देने के लिए कहता है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलोकरें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top