Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

बढ़ते प्रदूषण को देनी है मात और अपनों का रखना है ख्याल, तो अपनाएं ये घरेलू उपाय

पिछले कई दिनों से दिल्ली में प्रदूषण लगातार बढ़ता जा रहा है। दिवाली के बाद दिल्ली के लगभग हर इलाके में प्रदूषण खतरनाक स्तर को पार कर चुका है। बढ़ते प्रदूषण से लोगों को रोजाना सांस लेने में परेशानी, आंखों में जलन, धुंधला दिखाई देना, गले में खराश होना जैसी बीमारियों का सामना करना पड़ रहा है।

बढ़ते प्रदूषण को देनी है मात और अपनों का रखना है ख्याल, तो अपनाएं ये घरेलू उपाय

पिछले कई दिनों से दिल्ली में प्रदूषण लगातार बढ़ता जा रहा है। दिवाली के बाद दिल्ली के लगभग हर इलाके में प्रदूषण खतरनाक स्तर को पार कर चुका है। बढ़ते प्रदूषण से लोगों को रोजाना सांस लेने में परेशानी, आंखों में जलन, धुंधला दिखाई देना, गले में खराश होना जैसी बीमारियों का सामना करना पड़ रहा है।

दिल्ली में प्रदूषण का सबसे ज्यादा असर बच्चों और बुजुर्गों देखा जा रहा है। ऐसे में अगर हम अपने खान-पान में थोड़ा सा बदलाव कर लें, तो आसानी से दिल्ली के प्रदूषण को मात दे सकते हैं और अपने साथ ही अपनों की सेहत का भी ख्याल रख सकेगें।

वैसे तो आमतौर पर लोग दिल्ली के प्रदूषण से बचने के लिए मास्क और एयर प्योरिफायर का इस्तेमाल कर रहे हैं, लेकिन आज हम आपको कुछ आसान और असरदार घरेलू उपाय बता रहे हैं। जिन्हें अपनाकर आप प्रदूषण के साइड इफेक्ट्स को कम या खत्म करने में सफल हो सकती हैं।

यह भी पढ़ें : बढ़ते प्रदूषण में अपनों का रखना है ख्याल, तो एयर प्यूरिफायर की इन बातों को न करें इग्नोर

बढ़ते प्रदूषण से बचने के घरेलू उपाय :

1. हल्दी

आयुर्वेद और डॉक्टर्स के मुताबिक हल्दी एक नेचुरल एंटी बायोटिक और एंटी बैक्टीरियल होती है, जिसकी वजह से ये आसानी से प्रदूषण के साइड इफेक्ट्स को खत्म करने में सहायक है। अगर सुबह खाली पेट घी या शहद के साथ एक चम्मच हल्दी के पाउडर का सेवन करने से तुरंत लाभ मिलता है।

2. तुलसी

आमतौर पर हम सभी घरों में तुलसी का पौधा होता है, क्योंकि उसमें बहुत सारे औषधिय गुण पाए जाते हैं। दरअसल तुलसी में प्रदूषण को अवशोषित करने के भी गुण पाएं जाते हैं। जिसकी वजह से रोजाना तुलसी का काढ़ा या तुलसी के रस का सेवन करने से सांस संबधी परेशानी को दूर करने में मदद मिलती है।

3. नीम

नीम भी हल्दी की तरह ही एक नेचुरल एंटी बैक्टीरियल पौधा होता है। अगर नीम के पत्तों को उबालकर नहाने के पानी में मिलाएं, तो उससे आपके शरीर और बालों में जमा प्रदूषक तत्वों को हटाने में मदद मिलती है। इसके साथ ही अगर आप 2-3 नीम की पत्तियों का सेवन करते हैं तो इससे हमारा खून शुद्ध होता है।

4. देशी घी का करें सेवन

अगर आप दिल्ली के प्रदूषण से खुद को और अपनों को बचाना चाहते हैं तो उसके लिए रोजाना सुबह या सोते वक्त नाक के दोनों नथुनों में दो बूंद गाय का घी डालें जिससे हानिकारक तत्व आपके फेफड़ों में नहीं पहुंचेंगे। साथ ही घी का रोजाना सेवन करने से लेड और पारे जैसे तत्व आपके लिवर और किडनी में जमा नहीं होते।

5. अदरक

अक्सर लोग सर्दियों में अदरक का सेवन करते हैं, लेकिन शायद आपको ये नहीं पता होगा कि अदरक हमारे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ाती है और ये सांस से जुड़ी हुई समस्याओं में भी बेहद फायदेमंद होता है। ऐसे में अक्सर बाहर जाते समय हमेशा अपने पास अदरक जरूर रखें,पर अदरक का सेवन एक सीमित मात्रा में ही करें, क्योंकि इसके शरीर पर कुछ साइड इफेक्ट भी होते है।

6. अनार का जूस

अगर आप रोजाना अनार के जूस का सेवन करते हैं तो आप आसानी से दिल्ली के बढ़ते प्रदूषण के साइड इफेक्ट्स को कम करता है, क्योंकि ये रक्त को शुद्ध करता है साथ ही आपके दिल को भी सुरक्षित रखता है।

यह भी पढ़ें :
UN की रिपोर्ट : इस तरह के खाने से होता है मलेरिया और टीबी का ज्यादा खतरा

7. त्रिफला का करें सेवन

त्रिफला एक ऐसी आयुर्वेदिक दवा है जो हमारे शरीर के वात, कफ और पित को बैलेंस करने में मदद मिलता है। इसके साथ ही इसका सेवन करने से हमारा इम्यून सिस्टम भी मजबूत होता है। दरअसल प्रदूषण हमारे शरीर के त्रिदोष का बैलेंस बिगाड़ देता है। ऐसे में अगर रात के वक्त शहद के साथ त्रिफला का चूर्ण लेना बेहद फायदेमंद होगा।

8. भाप लेना(स्टीम)

अगर आप बढ़ते प्रदूषण से ज्यादा परेशानी महसूस कर रहे हैं तो जल्द आराम के लिए रोजाना पांच मिनट के लिए दिन में दो बार गुनगुने पानी में यूकेलिप्टस तेल या पेपरमिंट ऑयल की 5-10 बूंदे डालें और इसकी भाप लें।

9. पीपली

पीपली एक मसाला होने के साथ ही एक औषधि भी है। पीपली का सेवन करने से फेफड़ें के इंफेक्शन को रोका जा सकता है, जिससे सांस संबधी बीमारियों में भी लाभ मिलता है। अगर रोजाना 1/4 चम्मच सोंठ(अदरक का पाउडर)1/4 चम्मच हल्दी, 1/8 चम्मच पीपली पाउडर को 1 चम्मच शहद के साथ सेवन करने से प्रदूषण के साइड इफेक्ट्स से आसानी से बचा जा सकता है।

10. मसाज करना

अगर रोजाना गुनगुने औषधीय गुणों वाले तेलों से शरीर की हल्के हाथों से मसाज या मालिश की जाए, तो भी आप प्रदूषण के साइड इफेक्ट्स को कम कर सकते हैं, क्योंकि मसाज करने से हमारे शरीर और मस्तिष्क को फिर से रिचार्ज करने में मदद मिलती है।

सुझाव :

1. घर से बाहर निकलते वक्त हमेशा चेहरा ढक कर रखें।

2. बाहर से आने के बाद मुंह और हाथ-पैर अच्छी तरह धोएं।

3. बाहर जाने से पहले 1 ग्लास गुनगुना पानी जरूर पीएं।

4. आंखों में जलन, लालिमा, खुजली, जुकाम, खांसी, गले में इन्फेक्शन, सांस फूलने जैसे लक्षण दिखें तो तुरंत डॉक्टर के पास जाएं।

Next Story
Share it
Top