Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

एसिडिटी : कॉस, सिम्टम्स और ट्रीटमेंट

हो सकती हैं प्रॉब्लम्स

एसिडिटी एक बहुत ही आम समस्या है। लेकिन अगर समय रहते इसका उपचार नहीं कराया जाए तो यह कई खतरनाक बीमारियों का कारण बन सकती है।

- स्टमक एसिड के वोकल कार्ड को प्रभावित करने से आवाज भारी हो सकती है।

- एसिडिटी की समस्या लगातार बने रहने से इसोफेगस के निचले भाग के टिश्यूज में सूजन आ जाती है, जिससे भोजन को निगलने में समस्या हो सकती है। एसिडिटी की समस्या गंभीर हो जाने पर इसोफेगस फट सकता है, ब्लड वॉमिटिंग हो सकती है।

- कई बार एसिड फेफड़ों में पहुंच जाता है, जिससे श्वसन तंत्र संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। ऐसी समस्याओं में अस्थमा प्रमुख है।

- लंबे समय से बनने वाली एसिडिटी का अगर समय रहते उपचार न कराया जाए तो यह इसोफेगियल कैंसर का कारण भी बन सकती है।

- एसिडिटी का उपचार करने वाली दवाइयों के सेवन से आयरन और कैल्शियम का अवशोषण प्रभावित होता है। इससे एनीमिया हो सकता है और हड्डियां कमजोर हो सकती हैं।

- एसिडिटी के उपचार के लिए ली जाने वाली दवाओं के लगातार सेवन से पेट में एसिड की मात्रा कम हो जाती है। इससे बैक्टीरिया के पनपने की संभावना बढ़ जाती है। नतीजा, निमोनिया और दूसरे इंफेक्शन होने का खतरा उत्पन्न हो जाता है।

ऐसे में एसिडिटी की समस्या को इग्नोर करना हेल्थ के लिए नुकसानदायक हो सकता है।

Next Story