logo
Breaking

मानसून में हेल्दी रहने के लिए अपनाएं यूजफुल टिप्स

मानसून में हमारी प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो जाती है।

मानसून में हेल्दी रहने के लिए अपनाएं यूजफुल टिप्स
अन्य मौसमों के मुकाबले मानसून में हमारी प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो जाती है। बारिश के मौसम में अकसर जुकाम, बुखार सहित कई दूसरे तरह के इंफेक्शन हमें अपनी गिरफ्त में लेने लगते हैं। उमस और गर्मी, तापमान में उतार-चढ़ाव के कारण इस मौसम में मेटाबॉलिज्म भी सही तरीके से काम नहीं करता है।
इतना ही नहीं, पाचन क्रिया के कमजोर हो जाने के कारण गैस, अपच, भूख न लगने की समस्याएं भी खूब परेशान करती हैं। इसलिए इन दिनों अपनी डाइट को लेकर सावधानी बरतना जरूरी है। आइए जानते हैं, इन दिनों क्या खाया जाए और क्या नहीं? साथ ही किस तरह की सावधानी बरतें, ताकि हम इंफेक्शन से बचे रहें?
डाइट
इस दौरान अपनी डाइट को लेकर काफी सावधानी बरतने की जरूरत होती है। मानसून में मेटाबॉलिज्म रेट धीमा होता है, इसलिए खाना हजम होने में अधिक समय लगता है। इसलिए इन दिनों ज्यादा मात्रा में खाने से बचना चाहिए। साथ ही हल्का और कम कैलोरी वाली डाइट लेनी चाहिए। डाइट ऐसी हो, जो विटामिन और मिनरल्स से भरपूर हो।
बेहतर होगा कि इन दिनों संतुलित पौष्टिक नाश्ता और दोपहर-रात में हल्का खाना लें, ताकि पेट में भारीपन न महसूस होे। हल्के खाने के तौर पर उपमा, पोहा, डोसा, इडली और ढोकला खा सकते हैं। इस सीजन में मूंग की दाल खाना बेहतर होता है। यह पचने में आसान होता है। लहसुन, काली मिर्च, अदरक, हींग, जीरा पावडर, हल्दी और धनिया का सेवन भी इस मौसम में उपयुक्त रहता है। इनके सेवन से पाचन सुधरता है और प्रतिरोधक क्षमता बेहतर होती है।
इन दिनों गरिष्ठ और तरल खाद्य लेने की बजाय सूखे और हल्के आहार लें। इससे आप बैक्टीरियल इंफेक्शन से बचे रहेंगे। नॉन-वेज खाने वालों को इन दिनों मसालेदार करी की बजाय मीट को उबालकर पकाना चाहिए और इसका सूप लेना चाहिए। नॉन-वेज आइटम्स को अच्छी तरह पकाकर ही खाएं। हाफ ब्वॉयल्ड नॉन-वेज आइटम्स और एग खाने से इन दिनों बचें। क्योंकि ऐसा करना फूड प्वॉयजनिंग का कारण बन सकता है।
नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, अदर्स इंपोर्टेंट टिप्स -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Share it
Top