logo
Breaking

इस 3D दिमाग से रोगों और उनकी दवाओं पर की जाएगी रिसर्च, ऐसे करेगा काम

वैज्ञानिकों ने मनुष्यों के मस्तिष्क की तरह एक जीवंत 3 डी लघु मस्तिष्क विकसित किया है जिसमें न्यूरॉन और प्रतिरक्षा कोशिकाएं समेत सामान्य अंगों में पायी जाने वाली सभी छह अहम कोशिकाएं है। इस 3 डी लघु मस्तिष्क की मदद से बीमारियों का अध्ययन करने और नई दवाईयों का परीक्षण करने में मदद मिल सकेगी।

इस 3D दिमाग से रोगों और उनकी दवाओं पर की जाएगी रिसर्च, ऐसे करेगा काम

वैज्ञानिकों ने मनुष्यों के मस्तिष्क की तरह एक जीवंत 3 डी लघु मस्तिष्क विकसित किया है जिसमें न्यूरॉन और प्रतिरक्षा कोशिकाएं समेत सामान्य अंगों में पायी जाने वाली सभी छह अहम कोशिकाएं है। इस 3 डी लघु मस्तिष्क की मदद से बीमारियों का अध्ययन करने और नई दवाईयों का परीक्षण करने में मदद मिल सकेगी।

पत्रिका साइंटिफिक रिपोटर्स में प्रकाशित अध्ययन में शोधकर्ताओं ने कहा कि उनके द्वारा विकसित आधुनिक 3 डी मस्तिष्क पूरी तरह से कोशिकाओं पर आधारित है और प्राकृतिक ब्लड ब्रेन बैरियर को बनाने में मदद करता है जो मानव शरीर की संरचना की तरह ही होता है।

ब्लड ब्रेन बैरियर एक सेमीपर्मिएबल मेंम्ब्रेन (अर्धपारगम्य झिल्ली) होती है जो मस्तिष्क को आघात पहुंचा सकने वाले बाहरी पदार्थ से इसकी रक्षा करती है।

यह शोध महत्वपूर्ण है क्योंकि इससे ब्लड ब्रेन बैरियर में रोग तंत्र , बैरियर से होकर दवाईयों का गुजरना और बैरियर पार करने के बाद दवाईयों के असर को समझने में मदद मिल सकती है।

अमेरिका में वेक फॉरेस्ट इंस्टीट्यूट फॉर रिजेनरेटिव मेडिसिन के निदेशक एंथनी अताला ने कहा कि 3 डी मस्तिष्क के विकास से मरीजों के बेहतर इलाज में मदद मिल सकती है।

Share it
Top