Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Bengal Assembly Election 2021: बंगाल विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुटी बीजेपी, दिलीप घोष ने ममता को कहे अपशब्द

Bengal Assembly Election 2021: बीजेपी ने इसके लिए 117 सदस्यीय टीम को 31 इकाईयों मे बांटा गया है। इन सभी टीमों को बंगाल में अलग-अलग जगहों पर कार्य दिये गये है। उधर, दूसरी तरफ अभी से ही पार्टियों के बीच जुबानी जंग छिड़ गई है। बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को आपत्तिजनक शब्द कहे है।

Bengal Assembly Election 2021: बंगाल विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुटी बीजेपी, दिलीप घोष ने ममता को कहे अपशब्द
X

बंगाल विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुटी बीजेपी

(Bengal Assembly Election) 2021 में बंगाल में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने तैयारी करना शुरू कर दिया है। बीजेपी ने इसके लिए 117 सदस्यीय टीम को 31 इकाईयों मे बांटा गया है। इन सभी टीमों को बंगाल में अलग-अलग जगहों पर कार्य दिये गये है। उधर, दूसरी तरफ अभी से ही पार्टियों के बीच जुबानी जंग छिड़ गई है। बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को आपत्तिजनक शब्द कहे है। उन्होंने कहा कि बंगाल की सीएम को जय श्री राम कहने में समस्या क्यों आती है।

आगे उन्होंने पूछा कि राम के देश में ही ऐसा व्यवहार क्यों किया जा रहा है। बीजेपी में अपने सदस्यी सभी टीमों को अलग-अलग कार्य दिये है। किसी को बूथ प्रबंधन का तो किसी को सोशल मीडिया प्रबंधन की जिम्मेदारी दी गई है। आपको बता दें कि 2019 के लोकसभा चुनावों में बीजेपी ने पश्चिम बंगाल में 40 प्रतिशत वोट मिले थे। बीजेपी बंगाल की 42 लोकसभा सीटों में से 18 सीटों पर जीत हासिल की थी। इस बार बीजेपी की बंगाल की विधानसभा चुनाव पर है यहां पर 294 विधानसभा सीटें हैं।

वहीं कयास लगाये जा रहे है कि लोकसभा चुनाव की तरह ही बीजेपी बंगाल में होने वाले विधानसभा चुनाव में हिदुत्व के मुद्दों को भूना सकती है। साथ जय श्री राम के नारे के साथ ममता सरकार को झटका दे सकती है। क्योंकि ऐसा पहली बार नहीं हुआ है जब बीजेपी बंगाल में जय श्री राम के नारे पर जोर देगी। 2019 के लोकसभा चुनाव में भी बीजेपी ने इस नारे को जोरशोर से इस नारे का इस्तेमाल किया था। वहीं इस नारे को लेकर बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने आरोप लगाया था कि बीजेपी ने इस नारे का इस्तेमाल राजनीतिक रोटियां सेकने के लिए करती है।

Next Story