Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

लभांशु शर्मा को गांधी पीस फाउंडेशन नें ऑनररी डॉक्टटरेट की उपाधि से किया सम्मानित

नेपाल स्थित गांधी शांति प्रतिष्ठान महात्मा गांधी के जीवन आदर्श व मूल्यों शांति, अहिंसा और मानवता को फैलाने का कार्य करता है। लाभांशु नें दिल्ली दंगों में साम्प्रदायिक सदभाव बढ़ाने के लिए अहम काम किया था।

लभांशु शर्मा को गांधी पीस फाउंडेशन नें ऑनररी डॉक्टटरेट की उपाधि से किया सम्मानित
X

हमेशा अपनी गतिविधियों को लेकर चर्चा में रहने वाले देश के मशहूर कुश्ती खिलाड़ी और विश्व शांति कार्यकर्त्ता एक बार फिर से चर्चे में हैं। इस बार चर्चा की वजह उनको नेपाल में मिलने वाला सम्मान है। गौरतलब है कि दिल्ली दंगों के समय हिंदू मुस्लिम समाज के बीच बढ़ रहे तनाव के बीच शांति संदेश देने हेतु उन्हें नेपाल के गांधी पीस फाउंडेशन की तरफ से ऑनररी डॉक्टटरेट की मानद उपाधि से सम्मानित किया गया है।

गौरतलब है कि नेपाल स्थित गांधी शांति प्रतिष्ठान महात्मा गांधी के जीवन आदर्श व मूल्यों शांति, अहिंसा और मानवता को फैलाने का कार्य करता है। लाभांशु नें दिल्ली दंगों में साम्प्रदायिक सदभाव बढ़ाने के लिए अहम काम किया था।

पिछले साल दिल्ली में हुए दंगों में लहू-लूहान और दर्द से कराहती जनता के बीच जाकर उनका दुःख दर्द बांटने हेतु बहुत कम लोग ही जनता के बीच जा रहे थे इसका कारण यह था कि लोगों के बीच आपसी तनाव इतना बढ़ गया था कि लोग किसी पर भरोसा ही नहीं कर पाते थे। उस विकट समय में लभांशु शर्मा शांति संदेश लेकर हिंदू और मुस्लिम समाज के बीच गए। हिंदू मुस्लिम एकता बैठक की। नतीजतन लोग घरों से बाहर निकलने लगे। इन बैठकों में हिंदू के हाथों से मुसलमान और मुसलमान के हाथों से हिन्दू को मिठाई खिलवाकर लोगों के बीच सद्भाव का संदेश दिया था।

भारत की तरफ से शांति संदेश लेकर दुनिया के 32 देशों में जा चुके हैं लाभांशु

कोरोना आने से पूर्व लाभांशु दुनिया के 100 देशों की यात्रा पर गए थे पर 32 देशों की यात्रा होने पर कोरोना बड़ी तेजी से फैलने लगा था इसी वजह से उन्हें शांति यात्रा बीच में ही छोड़कर वापस आना पड़ा था।

उत्तराखंड के ऋषिकेश निवासी लाभांशु आने वाले समय में भारतीय संस्कृति के प्रसार हेतु ऋषिकेश से लंदन तक दुनियां की सबसे बड़ी बस यात्रा लेकर जाने वाले हैं यह यात्रा आगामी जून में प्रस्तावित थी लेकिन कोरोना के पुनः प्रसार की वजह से इसमें बिलम्ब होनें की संभावना हैं। गौरतलब है कि लाभांशु इससे पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी और वर्तमान प्रधानमंत्री मोदी जी के द्वारा पुरस्कृत किया जा चुका है।

Next Story