Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Types of Gold: इंवेस्टमेंट और ज्वैलरी के लिए 24, 22 और 18 कैरेट में से ये सोना है सबसे बेहतर, जानिए कैसे करें पहचान...

Types of Gold in India: टीवी पर 24 कैरेट सोने (24 karat gold) की कीमत बताई जाती है, जबकि दुकान पर 22 या 18 कैरेट का सोना (22 and 18 karat gold) दिया जाता है। तो आइए आपको इन तीनों कैरेट्स के फर्क को बताने के साथ सोने से जुड़ी अन्य जानकारी देते हैं...

Types of Gold: इंवेस्टमेंट और ज्वैलरी के लिए 24, 22 और 18 कैरेट में से ये सोना है सबसे बेहतर, जानिए कैसे करें पहचान...
X

भारत में 3 तरह के सोने (Types of Gold in India) बिकते हैं जो अलग-अलग कैरेट में आते हैं। ऐसे में इनके दाम कम और ज्यादा हो सकते हैं। इसी वजह से जो कीमत आप टीवी या ऑनलाइन वेबसाइट पर देखते हैं वो आपके ज्वैलरी दुकान पर कुछ और कीमत के साथ मिलती है। दरअसल, टीवी पर 24 कैरेट सोने (24 karat gold) की कीमत बताई जाती है, जबकि दुकान पर 22 या 18 कैरेट का सोना (22 and 18 karat gold) दिया जाता है। अगर आप भी सोने के कैरेट की पहचान नहीं कर पाते हैं या आपको समझ नहीं आता कि किस कैरेट का सोना खरीदना सही रहता है, तो आइए आपको इन तीनों कैरेट्स के फर्क को बताने के साथ सोने से जुड़ी अन्य जानकारी देते हैं...

24 कैरेट सोना

शुद्ध सोने को तीन कैटेगरी में बांटा गया है, इनमें सबसे पहले 24 कैरेट आता है। इस कैरेट का सोना 99.99 प्रतिशत तक शुद्ध है। हालांकि, इस कैरेट के सोने से आभूषण नहीं बनते है बल्कि सोने के बिस्कुट या ईंट के तौर पर इसका प्रयोग होता है। अपनी शुद्धा के कारण इस कैरेट का सोना आपके ज्वैलरी बॉक्स में तो नहीं बल्कि तिजोरी में रहने के काबिल होता है। अगर कोई सोने को निवेश के तौर पर खरीदना चाहता है तो वो 24 कैरेट के सोने की ईंट खरीद सकता है। 24 कैरेट सोने को 999 गोल्ड के नाम से भी जाना जाता है।

22 कैरेट सोना

अगर बात करें 22 कैरेट सोने की तो ये 91.67 प्रतिशत शुद्ध होता है। हालांकि, पूरी तरह से ये शुद्ध नहीं होता है। इससे आभूषण तो बनते हैं लेकिन इसमें 8.33 प्रतिशत अन्य धातुओं को मिलाया जाता है। ऐसें में इस कैरेट के सोने को 916 गोल्ड कहा जाता है। इससे बनने वाली ज्वैलरी का 22 भाग सोने का होता है और अन्य चांदी, जिंक, तांबे जैसे धातु 2-2 भाग में होते हैं।

18 कैरेट सोना

18 कैरेट सोना भी पूर्ण तौर पर शुद्ध नहीं होता है। ये केवल 75 प्रतिशत तक शुद्ध सोना माना जाता है। इसमें 18 हिस्सा सोना और बाकी 6 हिस्सा अन्य धातुओं को मिलाया जाता है। आभूषण बनाने के लिए 75 प्रतिशत सोना और 25 प्रतिशत अन्य धातु मिलाते हैं।

क्यों नहीं बनती 24 कैरेट से ज्वैलरी?

ज्वैलरी खरीदने के दौरान आपको ज्वैलर द्वारा बताया जाता होगा कि कौन सा आभूषण किस कैटेगरी का है। हालांकि, इस दौरान पूरी तरह से शुद्ध कहलाए जाने वाला 24 कैरेट का सोना नहीं दिखाते होंगे। इसके पीछे की वजह ये है कि इस कैरेट के सोने से ज्वैलरी नहीं बनती है। दरअसल, अपनी शुद्धता के कारण ये काफी मुलायम होता है। जो आसानी से टूट सकता है या अपना डिजाइन खो सकता है। इसलिए सोने के आभूषण में अन्य धातुओं को मिलाना जरूरी है, ये ही कारण है कि सोने की ज्वैलरी 24 कैरेट से कम के कैरेट्स में ही उपलब्ध होती है। बता दें कि अब 24, 22 और 18 कैरेट के अलावा अब अन्य कैटेगरी के कैरेट भी उपलब्ध हैं। इनमें 23, 10, 14 और 16 कैरेट शामिल है। हालांकि, इनके कैरेट के मुताबिक इनमें अन्य धातुओं को भी मिलाया जाता है। जिससे सोने की कीमत में भी फर्क आता है।

Next Story