Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

ऐसे होंगे ''प्‍लेब्‍वॉय'' के आने वाले अंक!

62 साल पुरानी मैगजीन अब नहीं छापेगी न्‍यूड फोटो

ऐसे होंगे
नई दिल्ली. 62 साल पहले शुरू की गई अमेरिका की चर्चित मैग्जीन 'प्लेब्‍वॉय' अब अपने कवरपेज पर न्‍यूड फोटो नहीं छापेगी। कभी दुनि‍या की सबसे चहेती रही इस मैग्जीन का अगला कदम क्या होगा, फिलहाल इसे जानने के लिए सभी बेताब हैं। वैसे मैग्जीन का कहना है कि अगला संस्करण 18 से 30 की उम्र के बीच के लोगों को टारगेट ऑडियेंस मानकर निकाला जाएगा। इस बीच हमने ये सोचने की कोशि‍श की कि अब ये मैगजीन अलग अलग देशों में कैसे अंक नि‍काल सकती है। आप भी नीचे की तस्‍वीरों को देखें और हमें भी बताएं कि मैगजीन अब क्‍या क्‍या छाप सकती है।
प्‍लेब्‍वॉय के चीफ एग्जीक्यूटिव स्कॉट फ़्लैंडर्स ने न्यूयॉर्क टाइम्स को दिए अपने बयान में कहा इंटरनेट पर मौजूद पोर्नोग्राफी में अब प्लेबॉय मैग्जीन की तस्वीरों को भी दिखाया जा रहा है। इससे कम्पनी की छवि पर दाग लगा है। इसलिए मैग्जीन के शीर्ष अधिकारियों ने यह निर्णय लिया है कि अब प्‍लेब्‍वॉय के कवरपेज पर कोई नग्न तस्वीर नहीं छापी जाएगी।
मैग्जीन के कवरपेज पर अब क्या छापा जाएगा इस सम्बंध में मैंग्जीन की तरफ से कोई जानकारी नहीं दी गई। माना जा रहा है कि मैग्जीन की टीम को कवरपेज के लिए नई तस्वीर के साथ नए एंगल पर काम करना मुश्किल हो रहा है। फिलहाल टीम कोई नया आइडिया तलाश कर रही है। हम मैगजीन को इन एंगल्‍स पर भी सोचने का सुझाव दे सकते हैं।
दूसरी ओर मैग्जीन पर नज़र आने वाली नई तस्वीर और नए स्टोरी एंगल को लेकर बहस तेज हो गई है। इसके लिए तरह-तरह के कयास लगाए जा रहे हैं।
ऐसे में जब प्लेबॉय मैग्जीन की टीम खुद यह सोचने में व्यस्त है कि नए संस्करण में क्या छापा जाए तो हरिभूमि डॉटकॉम ने भी मैग्जीन के लिए कुछ नए स्टोरी एंगल तलाशे हैं। ख़ास बात यह रहने वाली है कि मैग्जीन के लिए स्टोरी एंगल तमाम देशों से लिए गए हैं।
एक बात और, वो ये कि इन कवर पेजों को हिंदी में पढ़ते हुए उसे उर्दू भाषा के अलावा फ्रेंच या जर्मन भाषा में ही समझें। अपने पहले अंक में वर्ष 1953 में मर्लिन मुनरो की फोटो को आवरण पृष्ठ पर छापने के साथ मैग्जीन ने शुरुआत की थी, लेकिन मैग्जीन अगर कुछ ऐसे शुरुआत करती है तो कल्पना कीजिए कैसा होगा प्लेबॉय का अगला कवरपेज।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top