Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

रामलाल बहुत उदास था, उसके दोस्त कन्हैयालाल ने उदासी का कारण पूछा...

रामलाल बहुत उदास था, उसके दोस्त कन्हैयालाल ने उदासी का कारण पूछा...

रामलाल बहुत उदास था, उसके दोस्त कन्हैयालाल ने उदासी का कारण पूछा...

रामलाल बहुत उदास था. उसके दोस्त कन्हैयालाल ने उदासी का कारण पूछा.

रामलाल – “क्या बताऊँ यार, तीन हफ्ते पहले मेरे एक दूर के रिश्ते के चाचाजी गुजर गए … मेरे लिए 50 लाख रुपये छोड़ गए…”

कन्हैयालाल – “तो इसमें उदास होने वाली कौनसी बात है यार ?”

रामलाल – “आगे तो सुनो … चाचाजी के गुजरने के एक हफ्ते बाद मेरे एक दूर के फूफाजी भी गुजर गए और मेरे लिए 25 लाख छोड़ गए…”

कन्हैयालाल – “अबे तो तुझे तो खुश होना चाहिए …”

रामलाल – “पूरी बात तो सुन … पिछले हफ्ते गाँव में मेरे दादाजी भी गुजर गए और मेरे लिए 1 करोड़ की जायदाद छोड़ गए …”

रामलाल – “साले तू तो मालामाल हो गया फिर मुंह लटकाए क्यों बैठा है ?”

रामलाल – “तो और क्या करूँ ? ये वाला पूरा हफ्ता खाली निकल गया…. कोई भी नहीं मरा ….. !!!”

Next Story
Top