Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दोस्त के यहाँ फोन छूट जाए तो ऐसा महसूस होता हैं जैसे अपनी गर्लफ्रेंड को शक्ति कपूर के पास छोड़ आए हों

फोन में ऐसे पैटर्न लॉक लगाते हैं जैसे आई एस आई की सारी गुप्त फाइलें उनके फोन में ही पड़ी हों

दोस्त के यहाँ फोन छूट जाए तो ऐसा महसूस होता हैं जैसे अपनी गर्लफ्रेंड को शक्ति कपूर के पास छोड़ आए हों
कुछ लोग जब रात को अचानक फोन का बैलेंस खत्म हो जाता है इतना परेशान हो जाते हैं कि जैसे सुबह तक वो इंसान जिंदा ही नहीं रहेगा जिससे बात करनी थी।

कुछ लोग जब फोन की बैटरी 1-2% हो तो चार्जर की तरफ ऐसे भागते है जैसे अपने फोन कह रहे हों "तुझे कुछ नहीं होगा भाई, आँखे बंद मत करना मैं हूँ न सब ठीक हो जायेगा।"

कुछ लोग अपने फोन में ऐसे पैटर्न लॉक लगाते हैं जैसे आई एस आई की सारी गुप्त फाइलें उनके फोन में ही पड़ी हों।

कुछ लोग जब आपसे बात कर रहे होते हैं तो बार बार अपने फोन को जेब से निकालते हैं, लॉक खोलते हैं और वापस लॉक कर देते हैं। वास्तव में वे कुछ देखते नहीं हैं, बस ये जताते हैं कि वो जाना चाहते हैं।

और अगर कभी गलती से फोन किसी दूसरे दोस्त के यहाँ छूट जाए तो ऐसा महसूस होता हैं जैसे अपनी भोली-भाली गर्लफ्रेंड को शक्ति कपूर के पास छोड़ आये हों।

नीचे की स्लाइड्स में देखिए, और जोक्स -

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि और हमें फॉलो करें ट्विटर पर-

Next Story
Top