Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कश्मीरी BSF परीक्षा टॉपर को आतंकवादी दे रहे हैं धमकी

वानी ने बताया कि उनकी बहन चंडीगढ़ के में सिविल इंजिनीयरिंग कर रही हैं और हॉस्टल में रहती हैं लेकिन कॉलेज प्रशासन उन्हें वहां से जाने को कह रहा है।

कश्मीरी BSF परीक्षा टॉपर को आतंकवादी दे रहे हैं धमकी

पिछले वर्ष बीएसएफ असिस्टेंट कमांडेंट की परीक्षा में अव्वल आए असिस्टेंट नबील अहमद वानी ने सरकार को खत लिखकर ये बताया है कि आतंकवादी उन्हें और उनकी बहन को धमकी दे रहे हैं। वानी ने बताया कि उनकी बहन चंडीगढ़ के में सिविल इंजिनीयरिंग कर रही हैं और हॉस्टल में रहती हैं लेकिन कॉलेज प्रशासन उन्हें वहां से जाने को कह रहा है।

वानी ने ग्वालियर के नजदीक टेकनपुर में बीएसएफ प्रशिक्षण अकादमी को फोन पर बताया "वह चिंतित है कि उसे एक कश्मीरी होने, खासतौर से मेरी पृष्ठभूमि के कारण रहने की जगह नहीं मिलेगी। मैं निजी मामले में बीएसएफ को शामिल नहीं करना चाहता इसलिए मैंने मंत्री को पत्र लिखा।"
वानी ने 14 मई को महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी को पत्र लिखकर निदा रफीक के लिए हॉस्टल की व्यवस्था कराने के लिए कहा। वानी ने बताया कि उन्होंने बीएसएफ के वरिष्ठ अधिकारियों से कहा है कि जवानों को ये अनुमति दी जाए की वो छुट्टी पर भी हथियार ले जा सकें खासकर आतंकवाद वाले इलाकों में। उन्होंने कहा "मेरे और मेरे परिवार के सदस्यों जैसे लोगों को हमेशा आतंकवादियों से धमकी मिलती रहती है। लेफ्टिनेंट उमर फयाज की हत्या के बाद मैं अपने परिवार की सुरक्षा को लेकर चिंतित हूं। मेरी मां जम्मू में अकेली रहती हैं जबकि मेरी बहन चंडीगढ़ में है। मैं अब चिंतित हूं क्योंकि आतंकवादी हमारे परिवारों को निशाना बना रहे हैं।"
वानी को अगले दिन ही मेनका का जवाब मिला। वानी ने कहा "मैं अब उन सभी कश्मीरियों के लिए चिंतित हूं जो सेना या अर्द्धसैन्य बलों में सेवारत हैं। हम (कश्मीरी) काफी विरोध के बावजूद सेना में शामिल हुए और अब कश्मीरी जवानों को मारने का चलन हमारे ऊपर तलवार बन कर लटका है। यह काफी चिंताजनक है।' वानी ने अपनी बहन के बारे में कहा, 'वह अब सुरक्षित है। उसके लिए दुआ कीजिए, वह जम्मू-कश्मीर से भारतीय सेना में शामिल होने वाली पहली महिला बनना चाहती है।"
बता दें कि अभी हाल ही में आतंकवादियों ने छुट्टी पर अपनी मामा की बेटी की शादी में शरीक होने गए लेफ्टिनेंट उमर फय्याज की भी हत्या कर दी थी।
Next Story
Top