Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अमरनाथ यात्रियों की बस पर हुआ था दो बार अटैक: खुलासा

जम्मू कश्मीर सरकार ने गृह मंत्रालय को भेजी गई रिपोर्ट में इस बात का खुलासा किया है।

अमरनाथ यात्रियों की बस पर हुआ था दो बार अटैक: खुलासा

जम्मू कश्मीर के अनंतनाग जिले में अमरनाथ यात्रियों से भरी बस पर आतंकी हमले के बाद राज्य सरकार ने केंद्रीय गृह मंत्रालय को अपनी रिपोर्ट भेज दी है।

जम्मू-कश्मीर सरकार ने रिपोर्ट में कहा गै कि अमरनाथ यात्रियों की बस पर सोमवार को रात में आतंकियों ने हमला एक बार नहीं बल्कि दो बार किया था।

इसे भी पढ़ें: अमरनाथ यात्रा: आतंकियों के खिलाफ सेना का सर्च ऑपरेशन जारी

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि ऑटोमैटिक राइफल से आतंकियों के दो गुटों ने बस पर हमला किया था। बता दें अमरनाथ यात्रियों को ले जा रही जिस निजी बस पर आतंकवादियों ने कश्मीर में हमला किया, वह छह महीने पहले ही नये मालिक को बेच दी गई थी।

लेकिन भुगतान के मुद्दों को लेकर इसका मालिकाना हक पुराने मालिक के पास ही था। अधिकारियों ने बताया कि बस का पंजीकरण नंबर GJ-09-Z-9976 है। इससे यह पता चलता है कि यह गुजरात में साबरकांठा जिले से है।

इसके बाद इस बात का खुलासा हुआ कि बस के मालिक संजय पटेल ने इसे वलसाड के जवाहर देसाई को बेच दिया था, जो ट्रेवल एजेंसी ‘ओम ट्रेवल्स' के मालिक हैं।

वहीं, पटेल साबरकंठा जिले के इदार कस्बे में ‘उमीया ट्रेवल्स' नाम से एक अन्य ट्रेवल एजेंसी चलाते हैं। साबरकांठा कलेक्टर पी स्वरूप ने बताया कि बस का पहला पंजीकरण साबरकांठा में था क्योंकि इसके नंबर प्लेट पर 'GJ-09' अंकित था।

हालांकि यह पाया गया कि इसे वलसाड के टूर ऑपरेट को छह महीने पहले बेच दिया गया था। पटेल के मुताबिक बस का मालिकाना हक अब भी उनके पास है क्योंकि देसाई ने पूरा पैसा नहीं दिया है।

उनके मुताबिक देसाई ने दो जुलाई से 23 जुलाई तक के लिए अमरनाथ यात्रा की योजना बनाई थी इसलिए उन्होंने इसके लिए हिम्मतनगर परिवहन कार्यालय से परमिट हासिल की थी क्योंकि वह अब भी वाहन के आधिकारिक मालिक थे जबकि देसाई ने टूर आयोजक के तौर पर हस्ताक्षर किया था।

इसे भी पढ़ें: जम्मू कश्मीर: बडगाम में सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी

जम्मू-कश्मीर सरकार की दो पन्नों की रिपोर्ट में लिखा है कि बस के ड्राइवर ने तब भी बस नहीं रोकी और उसे एबल पुलिस नाके तक ले गया। वहां पुलिस पार्टी बस को इस्कॉर्ट कर अनंतनाग पुलिस लाइन में ले गई। वहां घायलों को अस्पताल में भर्ती करवाया गया।

Next Story
Top