Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

टेरर फंडिंग केस: मुश्किल में अलगाववादी नेता, नहीं मिल रहे पैरवी के लिए वकील

इन नेताओं ने मुंबई के एक प्रतिष्ठित वकील से संपर्क साधा है।

टेरर फंडिंग केस: मुश्किल में अलगाववादी नेता, नहीं मिल रहे पैरवी के लिए वकील

कश्मीर में अलगाववादी नेताओं पर राष्ट्रीय जांच एजेंसी की कार्रवाई के बाद अलगाववादी नेताओं की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही हैं। इन नेताओं को दिल्ली में अपनी पैरवी के लिए वकील नहीं मिल रहे हैं। इन नेताओं की आज कोर्ट में पेशी की जानी है।

बताया जा रहा है कि हुर्रियत के कुछ नेता जैसे शब्बीर शाह और सायद अली गिलानी ऐसे वकीलों के संपर्क में हैं जिनको कश्मीर के अलगाववादी नेताओं से सहानुभूति है। इन नेताओं का संपर्क दिल्ली विश्विद्यालय के प्रोफेसर एसआर गिलानी से भी है। इन नेताओं ने गिलानी को ये जिम्मेदारी सौंपी है कि इनके लिए वकील खोजें और एनआईए की स्पेशल कोर्ट में पेशी के दौरान उनके पक्ष को रख सके।

गिलानी पर 2001 के संसद पर हुए हमले का आरोप है। उन्हें 2010 में बरी किया गया था और इस समय वो एक एनजीओ के अध्यक्ष हैं। गिलानी जो एनजीओ चलाते हैं वो जेल में कैद राजनीतिक कैदियों को रिहा करवाने में उनकी मदद करता है। विशेषज्ञों के मुताबिक अलगाववादी नेता अब ये बात मान चुके हैं कि उनके खिलाफ केस काफी मजबूत है और वो मुश्किलों में हैं।

गौरतलब है कि सूत्रों के मुताबिक इन नेताओं ने मुंबई के एक प्रतिष्ठित वकील से संपर्क साधा है लेकिन अभी तक पता नहीं चला है कि उनका नाम क्या है। कहा जा रहा है कि पिछले कई सालों से ये कश्मीर मामले पर लिखते आए हैं और उन्हें इस विषय की अच्छी जानकारी है।
Next Story
Top